Breaking News:

उत्तराखंड सरकार की हाईकोर्ट ने की तारीफ -

Monday, December 11, 2017

शादीशुदा जोड़ों का अनोखा शो ‘‘आपकी खूबसूरती उनकी नज़र से’’ -

Monday, December 11, 2017

जज्बा हो तो सब मुमकिन है, जानिये खबर -

Monday, December 11, 2017

जन क्रांति विकास मोर्चा ने ड्रग माफियाओं का फूंका पुतला -

Monday, December 11, 2017

गरीब बच्चो का हक न मारे रावत सरकार : आम आदमी पार्टी -

Monday, December 11, 2017

पर्वतीय क्षेत्र में विकास मील का पत्थर होगा साबित : मुख्यमंत्री -

Monday, December 11, 2017

मैड संस्था ने नगर निगम को सुझाया साफ़ सफाई रूपी “रास्ते” -

Monday, December 11, 2017

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

संस्कृति सम्मान समारोह में कलाकार हुए सम्मानित

kla-aur-sanscriti

किसी भी कला, संस्कृति और परम्परा के संरक्षण में समाज का अहम योगदान होता है। एक जागरूक समाज ही अपनी कला और संस्कृति का संरक्षण कर सकता है। राज्य सरकार कला, संस्कृति और साहित्य के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है। अपनी माटी, अपने गांव के विकास में हम सभी को सहभागी बनना होगा। सरकार ने हिटो पहाड़ की अवधारणा को आगे बढाया है, जिसमें मेरा धन मेरा गांव योजना शुरू की गई है। यह बात मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नगर निगम प्रेक्षागृह में उत्तराखण्ड फिल्म, टेलीविजन एण्ड रेडियो एसोसियेशन द्वारा आयोजित संस्कृति सम्मान एवं सांस्कृतिक सम्मान यात्रा-2015 के अवसर पर कही। मुख्यमंत्री रावत ने इस अवसर पर कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में योगदान देने वाले महानुभावों को सम्मानित भी किया।मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि राज्य सरकार कला, संस्कृति एवं साहित्य के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है। सरकार ने 5 करोड़ रुपये के कारपस फण्ड से लोक गायक/कलाकार कल्याण कोष का गठन किया है। सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि 60 वर्ष से अधिक आयु के कलाकारों को पेंशन दी जायेगी। प्रदेश की फिल्म नीति को लागू किया जा रहा है। इसमें सभी कला एवं संस्कृति के क्षेत्र से जुड़े लोगों से सुझाव भी मांगे जा रहे है। प्रदेश में चार संग्रहालय स्थापित होंगे। वाद्य यंत्रों, पांडुलिपियों आदि के संरक्षण की दिशा में भी कदम उठाये गये है। राज्य गीत बनाने की दिशा में भी हमने निर्णय लिया है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री रावत द्वारा कला एवं संस्कृति के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले महानुभावों को सम्मानित भी किया गया। इनमें जागर गायक किशोरी लाल, कुमांउनी गायक नैननाथ रावत, गायक अनुराधा निराला, मास्टर करन रावत, लाखीराम टम्टा, कैलाश भट्ट, संगीता ढौडि़याल, प्रेम हिंदवाल, हरपाल रावत, अनिल कुमार भारती, हेमा नेगी करासी, संजय कुमोला, जसपाल पंवार, मिनाक्षी उनियाल, नागेन्द्र प्रसाद, वसुन्धरा नेगी, सुरेन्द्र राणा, मुकेश शर्मा, मोहनी ध्यानी पटनी, संजय सिलोड़ी, मनीष वर्मा व उर्मी नेगी आदि शामिल थे।कार्यक्रम में कैबिनेट मंत्री प्रीतम सिंह पंवार, सभा सचिव एवं विधायक शैलारानी रावत, मेयर विनोद चमोली, उत्तराखण्ड फिल्म, टेलीविजन एण्ड रेडियो एसोसियेशन के अध्यक्ष प्रदीप भण्डारी, संयोजक चन्द्रवीर गायत्री, कांता प्रसाद आदि उपस्थित थे।

Leave A Comment