Breaking News:

’संपर्क फ़ॉर समर्थन’ अभियान की तरफ कदम दर कदम, जानिये खबर -

Sunday, June 24, 2018

जुलाई में उत्तराखण्ड में दस्तक देगा मानसून -

Sunday, June 24, 2018

पर्वतीय क्षेत्र में एनसीसी मुख्यालय एवं एकेडमी के लिए जगह होगी उपलब्ध -

Sunday, June 24, 2018

उदय शंकर नाट्य अकादमी में कलाकारों ने दी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां -

Sunday, June 24, 2018

पौधारोपण के क्षेत्र में मैती आंदोलन के प्रयास सराहनीय : सीएम त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 24, 2018

उत्तराखण्ड में शूटिंग करना मेरा सौभाग्य : मधुरिमा तुली -

Sunday, June 24, 2018

महाराष्ट्र व उत्तराखण्ड के सूचना विभाग ने साझा किये अपने अपने अनुभव -

Sunday, June 24, 2018

अनुसूचित जाति व जनजाति में उद्यमशीलता को बढ़ावा देने पर फोकस : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, June 23, 2018

‘‘ओक तसर विकास परियोजना’’ का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारम्भ -

Saturday, June 23, 2018

चैलाई के प्रसाद के रूप में तीन गुना मिल रहा फायदा, जानिए ख़बर -

Saturday, June 23, 2018

अमित शाह 24 जून को दून दौरे पर, जानिए ख़बर -

Saturday, June 23, 2018

औद्योगिक विकास योजना को लेकर कार्यशाला का आयोजन, जानिए ख़बर -

Saturday, June 23, 2018

साहसिक पर्यटन गतिविधियों पर रोक के फैसले का अध्ययन किया जा रहा : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Friday, June 22, 2018

हाईकोर्ट ने गंगा में राफ्टिंग सहित सभी वॉटर स्पोर्ट्स पर लगया बैन जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

सीएम ने की अनेक विभागो के कार्यो की जनपदवार समीक्षा , जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

पति ने पत्नी को पीटने की मांगी इजाजत जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

देश की रक्षा के लिए उत्तराखंड का एक और लाल शहीद -

Friday, June 22, 2018

फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ का पहला पोस्टर रिलीज़ -

Friday, June 22, 2018

जम्मू कश्मीर में एनएसजी कमांडो तैनात, करेंगे आतंकियों का सफाया -

Friday, June 22, 2018

यात्रियों को विमान से उतारने के लिए AC किया तेज़, जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

सड़क की रोशनी में पढाई कर रहा देश का भविष्य हरेंद्र सिंह चौहान

desh-ka-bhavishy

नोएडा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के बाहर बैठा13 साल का हरेंद्र सिंह चौहान सड़क की रोशनी में पढ़ने की कोशिश करता है। आर्थिक हालत इतनी खराब है कि पढ़ाई के लिए खुद ही पैसे जुटाने होते हैं। इसके लिए वह पढ़ाई के साथ-साथ काम भी करता है। उसके पास एक वजन तौलने की मशीन रखी होती है, जो उसके पैसे कमाने का साधन है। पढ़ने और घरवालों की मदद के मकसद से काम कर रहा हरेंद्र बताता है, ‘मेरे पापा की नौकरी जून में चली गई है। तब मैंने यह मशीन खरीदी थी। मेरे स्कूल के टीचर ने मुझसे रंग, ये -३ शीट्स और फाइल कवर खरीदने के लिए कहा था। मेरे पास पैसे नहीं थे, इसलिए अब मैं इस मशीन की मदद से पैसे कमाता हूं। अपने प्रॉजेक्ट के लिए पैसे इकट्ठे करने के लिए मैंने यहां मेट्रो स्टेशन के बाहर बैठना शुरू कर दिया।’ जब हरेंद्र ग्राहकों का इंतजार कर रहा होता है, उस दौरान वह अपना समय पढ़ने में बिताता है। वह अपनी किताबें साथ लेकर ही बैठता है। श्रीकृष्णा इंटर कॉलेज में नौवीं कक्षा का यह छात्र बताता है, ‘मैं सुबह सात बजे स्कूल जाता हूं और फिर गणित और इंग्लिश की ट्यूशन करता हूं। इसके बाद मैं कंप्यूटर क्लास के लिए जाता हूं। शाम को लगभग सात बजे मैं मेट्रो स्टेशन के बाहर बैठ जाता हूं और नौ बजे तक यहां रहता हूं। मैं 60 से 70 रुपए तक कमा लेता हूं कई बार इससे भी कम मिलता है।’ हालांकि, इन दो महीनों में फुटपाथ पर बैठते- बैठते हरेंद्र ने यहां से गुजरने वाले कई लोगों का ध्यान आकर्षित किया, जो उसकी मदद करते हैं। गुरुवार को हरेंद्र की कहानी सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई, जिसके बाद इसे कई लोगों ने शेयर किया। हरेंद्र ने बताया कि दो लोग उसके पास आए थे, जिन्होंने उससे मेट्रो स्टेशन के बाहर बैठने के लिए मना किया, क्योंकि इससे सरकार की छवि खराब होती है। हालांकि, उन्होंने हरेंद्र को स्कूल फीस और साइकिल देने का ऑफर दिया।

Leave A Comment