Breaking News:

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

बढ़ सकती है आधार लिंक करने की आखिरी तारीख -

Thursday, December 7, 2017

अपर निदेशक सूचना ने दिवंगत पत्रकार की पत्नी को तीन लाख का चैक सौंपा -

Wednesday, December 6, 2017

तो इटली में विराट और अनुष्का बधेंगे शादी के बंधन में …! -

Wednesday, December 6, 2017

एबीवीपी ने मनाया सामाजिक समरसता दिवस -

Wednesday, December 6, 2017

सीएम ने मृतक होमगार्ड जवानों की पत्नियों को 5-5 लाख की धनराशि किये वितरित -

Wednesday, December 6, 2017

भीख मांगते मिली थी मेजर की बेटी, जानिए खबर -

Tuesday, December 5, 2017

17 दिसम्बर को आयोजित मैराथन में भाग जरूर ले , जानिये खबर -

Tuesday, December 5, 2017

सफारी वाहनों का संचालन होगा काॅर्बेट टाइगर रिजर्व कोटद्वार में

rawat

देहरादून। वनमंत्री डा. हरक सिंह रावत ने कहा कि काॅर्बेट टाइगर रिजर्व कोटद्वार क्षेत्र के अन्तर्गत सफारी वाहनों का संचालन किया जाएगा। कोटद्वार से कार्बेट टाइगर रिजर्व के सोना नदी वन्य जीव विहार व बफर क्षेत्र के अन्तर्गत सफारी वाहनों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया जायेगा। विधानसभा में आयोजित पत्रकार वार्ता में वन मंत्री ने कहा कि प्रदेश के पर्यटन के विकास के लिए इको टूरिज्म की स्थापना की गयी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का लगभग 70 प्रतिशत भू भाग वनों में होने के कारण पर्यटन के लिए अच्छा स्थान है। वन विश्राम भवनों की एक विशिष्ठ पहचान होने के कारण राज्य ईको टूरिज्म विकास निगम ने प्रथम चरण में सर्किट विकास के सिद्धांत पर आधारित पांच सर्किट के विकास की योजना बनाई है। इन पांच सर्किटों में लगभग 35 वन विश्राम भवन चिन्हित किए गए हैं। जिन्हें गन्तव्य स्थलों के रूप में विकसित कर इनको एक सुविकसित पर्यटन पैकेज के साथ जोड़ा जाएगा। इन गन्तव्य स्थलों के निकट स्थित गांवों का विकास और वहां रहने वाले लोगों की आय में वृद्धि के लिए इन सर्किट के विकास में अन्तर्निहित है। इन प्राचीन और प्राकृतिक रूप से अतिसुंदर वन विश्राम भवनों का सर्किट आधारित विकास कर इन्हें विशेष रामांचक पर्यटन के रूप में खोला जाएगा जो प्रदेश की आजीविका विकास में महत्वपूर्ण भूमिा निभाते हुए प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों से पलायन रोकने में कारगर साबित होंगे । ईको टूरिज्म विकास निगम के माध्यम से प्रकृति आधारित पर्यटन को लोकप्रिय बनाने की दिशा में यह आदर्श पहल होगी।

Leave A Comment