Breaking News:

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

पहल : तीन बेटियों ने डेढ़ सौ परिवारों के पास घर-घर पहुंचाया खाने का सामान -

Thursday, April 2, 2020

हम सब उत्तराखंड पुलिस को सहयोग करे: दीपक सक्सेना -

Thursday, April 2, 2020

लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Thursday, April 2, 2020

डीडी उत्तराखंड का प्रसारण 24 घंटे का हुआ -

Wednesday, April 1, 2020

फेक न्यूज या गलत जानकारी देने पर प्रशासन द्वारा होगी कानूनी कार्रवाई -

Wednesday, April 1, 2020

लाकडाऊन के दौरान रखे संयम: पीआरएसआई देहरादून चैप्टर -

Wednesday, April 1, 2020

लॉकडाउन : डीएम के आदेश को रखा ठेंगे पर, जानिए खबर -

Wednesday, April 1, 2020

मुंबई की सड़कों पर खाना बाँटते नज़र आये अली फजल, जानिए कैसे -

Wednesday, April 1, 2020

सिर पर हेल्मेट होती तो बच जाती लगभग पचास हज़ार लोगों की जान , जानिए खबर

ट्रैफिक जुर्माने को लेकर बहुत कुछ बाते हो रही है कहि सही तो कही इसे गलत कदम बताया जा रहा है कुछ राज्यों ने इसे लागू करने के लिए ऐतराज भी जताया है , लेकिन बिना हेल्मेट बाइक चलाने वालों की बात करें तो यह काफी खतरनाक साबित हुआ है। हेल्मेट न लगाना खुद उनके ही यह कितना जानलेवा है इसका अंदाजा यह आंकड़ा करता है कि 2018 साल में हेल्मेट न लगाने वाले पचास हज़ार दो पहिया वाहन चलाने वालों की हादसों में मौत हुई। यही नही इससे पिछले के मुकाबले यह आंकड़ा 21 फीसदी ज्यादा था, तब लगभग पैतीस हज़ार लोगो की ऐसे बाइक राइडर्स की हादसे में मौत हुई थी, जिन्होंने मौके पर हेल्मेट नहीं लगा रखा था। यही नहीं बिना हेल्मेट पीछे बैठने वाले लोगों की मौतों का आंकड़ा भी पन्द्रह हज़ार के आस पास रहा है । यह आंकड़ा बताता है कि हादसे की स्थिति में बाइक पर चलने वाले लोगों के लिए हेल्मेट जान बचाने के मकसद से कितना जरूरी है। यह जानना तब और महत्वपूर्ण हो जाता है, जब गुजरात और झारखंड जैसे राज्यों ने पीछे बैठने वाले लोगों को हेल्मेट न पहनने वालों को जुर्माने से छूट देने का ऐलान कर दिया है। गुजरात की बात करें तो बीते साल यहां ऐसे एक हज़ार के करीब टूवीलर ड्राइवर्स की हादसों में मौत हो गई, जिन्होंने हेल्मेट नहीं लगा रखा था। इसके अलावा साथ में बैठे ऐसे छः सौ के आस पास लोग थे, जो हादसों में मारे गए। इसी तरह झारखंड में हेल्मेट के बगैर चलने वाले 790 दोपहिया चालकों को मौत का शिकार होना पड़ा, जबकि साथ में बैठे 450 लोग मारे गए। बीते सप्ताह ही दोनों राज्यों ने आधिकारिक रूप से ऐलान किया था कि यदि दोपहिया वाहन में पीछे बैठे यात्री ने हेल्मेट नहीं लगाया होगा तो उसका चालान नहीं काटा जाएगा। उत्तर प्रदेश छः हज़ार के आस पास की संख्या के साथ पहले नंबर पायदान पर है जहाँ बिना हेल्मेट चलने वाले लोगों की मौत के आंकड़े के मामले में टॉप पर है । महाराष्ट्र में ऐसे पाँच हज़ार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है ।

Leave A Comment