Breaking News:

अरविंद पांडेय ने हरेला कार्यक्रम के अंर्तगत “मेरा गांव हरा भरा गांव” अभियान का किया शुभारंभ -

Monday, July 6, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3161, आज कुल 37 नए मरीज मिले -

Monday, July 6, 2020

विरेन्द्र सिंह रावत बने खेलों मास्टर गेम्स फाउंडेशन इंडिया उत्तराखंड के महासचिव -

Monday, July 6, 2020

उत्तराखंड के हित में सदैव करते रहेंगे धरने प्रदर्शनः आप -

Monday, July 6, 2020

डॉ0 रमेश पोखरियाल ’निशंक’ ने पब्लिक रिलेशंस सोसायटी ऑफ इण्डिया के ’विजय भारत अभियान’ का किया शुभारम्भ -

Monday, July 6, 2020

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में गड़बड़ी पर डीएसओ होंगे जिम्मेवार : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, July 6, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कोविड-19 को लेकर पांच बातों पर विशेष जोर जरूरी, जानिए खबर -

Sunday, July 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3124, आज कुल 31 नए मरीज मिले -

Sunday, July 5, 2020

अनुष्का विराट और कोरोना महामारी का समय …… -

Sunday, July 5, 2020

उत्तराखंड : तीन महिलाओं की कोसी नदी में डूबने की खबर, एक महिला का मिला शव -

Sunday, July 5, 2020

जरा हटके : यह शख्स सोने के मास्क का कर रहे उपयोग -

Sunday, July 5, 2020

देहरादून : सिटी बस संघ के 145 चालकों एवं परिचालकों को दिया राशन -

Saturday, July 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3093, आज कुल 45 नए मरीज मिले -

Saturday, July 4, 2020

कोरोना की लड़ाई में लगातार सतर्कता जरूरी: सीएम उत्तराखंड -

Saturday, July 4, 2020

आरडी प्रोडक्शन पूरे करेगा मॉडलिंग और एक्टिंग के सपने , जानिए खबर -

Saturday, July 4, 2020

“दिल बेचारा” सुशांत की आखिरी फ़िल्म को लेकर खुलासा -

Saturday, July 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 3048, आज कुल 64 नए मरीज मिले -

Friday, July 3, 2020

आरटीआई कार्यकर्ता सैफअली सिद्दीकी के पत्र पर राज्य अल्पसंख्यक आयोग ने जांच के आदेश दिए , जानिए खबर -

Friday, July 3, 2020

उत्तराखंड में बने जड़ी बूटी मंडी : डा. राणा -

Friday, July 3, 2020

त्रिवेन्द्र सरकार ने जारी की 11 करोड़, जानिए क्यों -

Friday, July 3, 2020

सुप्रीम कोर्ट : इच्‍छा मृत्‍यु को सम्‍मान के साथ दी जा सकती है इजाजत

SUPRIMCOURT

इच्‍छा मृत्‍यु को लेकर पिछले काफी समय से चल रहा विवाद आज शुक्रवार को सप्रीम कोर्ट में सुना गया. पूरे मामले पर पांच न्‍यायाधीशों की बेंच ने कुछ शर्तों के साथ इच्‍छा मृत्‍यु का इजाजत दे दी है. सुप्रीम कोर्ट की ओर से यह भी कहा गया है कि इच्‍छा मृत्‍यु को इजाजत दी जा सकती है लेकिन सम्‍मान का ख्‍याल भी रखना बेहद जरूरी है. प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की पीठ ने पिछले साल 11 अक्टूबर को इस याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रखा था. मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आज कल मध्यम वर्ग में वृद्ध लोगों को बोझ समझा जाता है ऐसे में इच्छा मृत्यु में कई दिक्कते हैं. सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ ने ये भी सवाल उठाया था कि जब सम्मान से जीने को अधिकार माना जाता है तो क्यों न सम्मान के साथ मरने को भी माना जाए. इससे पहले साल 2015 में एक फैसला एक गैर सरकारी संगठन कॉमन कॉज की याचिका पर लिया था जिसमें कहा गया था कि एक व्यक्ति मरणांतक बीमारी से पीड़ित हो तो उसे दिए गए मेडिकल सपोर्ट को हटाकर पीड़ा से मुक्ति दी जानी चाहिए. इसी को पैसिव यूथेनेशिया कहा जाता है.

Leave A Comment