Breaking News:

भगवा रक्षा दल : पंकज कपूर बने प्रदेश मीडिया प्रभारी -

Saturday, November 16, 2019

उत्तराखण्ड स्कूलों में वर्चुअल क्लास शुरू करने वाला बना पहला राज्य -

Saturday, November 16, 2019

सूचना कर्मचारी संघ चुनाव : भुवन जोशी अध्यक्ष , सुषमा उपाध्यक्ष एवं सुरेश चन्द्र भट्ट चुने गए महामंत्री -

Saturday, November 16, 2019

रेस लगाना पड़ा महंगा, हादसे में तीन की मौत -

Saturday, November 16, 2019

पब्लिक रिलेशंस सोसाइटी आफ इंडिया : 41वीं नेशनल कान्फ्रेंश के ब्रोशर का हुआ विमोचन -

Saturday, November 16, 2019

अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भारत से साध्वी भगवती सरस्वती ने किया सहभाग -

Saturday, November 16, 2019

देहरादून में हुआ भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा का भव्य स्वागत, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

भिक्षा मांग रहे बच्चो को भिक्षा की जगह शिक्षा दे : एडीजी अशोक कुमार -

Friday, November 15, 2019

हरिद्वार : पर्यटकों के लिए खुले राजा जी रिजर्व पार्क के दरवाजे -

Friday, November 15, 2019

शहर में दूसरा प्लास्टिक बैंक हुई स्थापित, जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

उत्तराखण्ड में ‘‘सबका साथ-सबका विकास’’ जनयोजना अभियान 2 दिसम्बर से , जानिए खबर -

Friday, November 15, 2019

उत्तराखण्ड : सीएम त्रिवेंद्र ने सांसद आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा की -

Thursday, November 14, 2019

अंगीठी की गैस से दम घुटने के कारण मां-बेटी की मौत -

Thursday, November 14, 2019

भारतीय वन्य जीव संस्थान का दल पहुंचा परमार्थ निकेतन -

Thursday, November 14, 2019

पिथौरागढ़ विस उपचुनाव: प्रचार को कांग्रेस प्रभारी भी -

Thursday, November 14, 2019

मुख्यमंत्री ने 150 करोड़ रूपए लागत की विभिन्न विकास योजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास -

Thursday, November 14, 2019

जनभावनाओं के अनुरूप श्रीराम का भव्य मंदिर जल्द : सीएम योगी आदित्यनाथ -

Wednesday, November 13, 2019

उत्तराखण्ड : मंत्रिमंडल की बैठक में 27 फैसलों को मंजूरी -

Wednesday, November 13, 2019

फीस वृद्धि : छात्रों में भारी आक्रोश, की तालाबंदी -

Wednesday, November 13, 2019

उत्तराखण्ड : 25 नवंबर से शुरू होगा खेल महाकुम्भ, जानिए खबर -

Wednesday, November 13, 2019

सुप्रीम कोर्ट से आईआईटी-जेईई काउंसिलिंग पर लगी रोक हटी

SUPRIMCOURT

नई दिल्ली। आईआईटी जेईई में दाखिले के लिए काउंसिलिंग पर लगाई गई रोक सुप्रीम कोर्ट ने हटा ली है। सुप्रीम कोर्ट ने आईआईटी जेईई एग्जाम में दिए गए ग्रेस नंबर के खिलाफ याचिका खारिज कर दी। सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान दाखिले के लिए काउंसिलिंग पर रोक लगा दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने 7 जुलाई को देशभर में आईआईटी जेईई में दाखिले के लिए होने वाली काउंसिलिंग पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी थी। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस एएम खानविलकर की बेंच ने देशभर के हाई कोर्ट से कहा था कि वह इस मामले में दाखिल कोई भी याचिका पर विचार नहीं करेंगे। अदालत ने देशभर के हाई कोर्ट में आईआईटी जेईई 2017 एग्जाम को चुनौती देने वाली याचिका की डीटेल पेश करेन को कहा था। साथ ही टेस्ट में जिन स्टूडेंट को ग्रेस नंबर दिए गए हैं उनका ब्यौरा मांगा था। अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 10 जुलाई की तारीख तय कर दी थी। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने तमाम ब्यौरा पेश किया गया था और सुनवाई के बाद याचिका खारिज कर दी। गलत सवाल के बदले तमाम स्टूडेंट को ग्रेस दिए जाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी, जिस मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने काउंसिलिंग व दाखिले पर रोक लगाई थी। पिछली सुनवाई के दौरान 30 जून को सुप्रीम कोर्ट ने र्केंी सरकार और आईआईटी र्मीास से पूछा था कि वह बताए कि आईआईटी जेईई पेपर में उन स्टूडेंट को ग्रेस नंबर क्यों दिए जिन्होंने गलत छपे हुए नंबर को अटेंप्ट नहीं किया था। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एचआरडी मिनिस्ट्री और आईआईटी र्मीास को नोटिस जारी कर जवाब दाखिल करने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट में ऐश्वर्य अग्रवाल नामक स्टूडेंट की ओर से याचिका दायर की गई थी। याचिका में कहा गया था कि एग्जाम में शामिल हुए सभी स्टूडेंट को गलत सवालों के एवज में ग्रेस नंबर दिए गए। गौरतलब है कि आईआईटी जेईई पेपर में तमाम स्टूडेंट को ग्रेस के तौर पर 18 नंबर दिए गए थे। याचिकाकर्ता ने कहा कि जिन स्टूडेंट ने गलत सवाल को अटेंप्ट किया, उन्हें ग्रेस नंबर देना तो समझ में आता है लेकिन जिन्होंने अटेंप्ट नहीं किया उन्हें ग्रेस नंबर क्यों दिया गया। तमाम स्टूडेंट को ग्रेस नंबर देने से मेरिट लिस्ट पर असर हुआ है। याचिका में मांग की गई थी कि उन्हीं स्टूडेंट को ग्रेस नंबर दिया जाए, जिन्होंने गलत सवाल को अटेंप्ट किया है और फिर से लिस्ट बनाई जानी चाहिए। अब सुप्रीम कोर्ट ने याचिका खारिज कर दी है और इस तरह स्टूडेंट के एडमिशन का रास्ता साफ हो गया है।

Leave A Comment