Breaking News:

सफाई कार्मिकों को किया पुरस्कृत, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

फूल उगाने वाले किसानों के चेहरे मुरझाए, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

हेल्प मी वेलफेयर सोसायटी ने गरीबों की मदद किये -

Tuesday, April 7, 2020

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

सुभारती कालेज : छात्रों द्वारा परीक्षा की मान्यता राज्य के हेमवती नंदन बहुगुणा चिकित्सा विश्वविद्यालय से करने की मांग

देहरादून | विदित हो कि 150 छात्र सुभारती मेडिकल कॉलेज, कोटडा संतौर, चंदा की चौकी प्रेम नगर देहरादून से एमबीबीएस की द्वितीय वर्ष की पढ़ाई कर रहे थे जोकि रासबिहारी बोस सुभारती विश्वविद्यालय से एफिलिएटिड है। यह विश्वविद्यालय उत्तराखण्ड राज्य विश्वविद्यालय अधिनियम (उत्तराखण्ड सरकार एक्ट 35 ऑफ 2016) एवं महामहिम राज्यपाल के गैजेट नोटिफिकेशन से स्थापित है। छात्रों का राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही गई नीट कांउसलिंग के माध्यम से वर्ष 2016 में उक्त कॉलेज में प्रवेश हुआ था एवं वर्ष 2017 में प्रथम वर्ष की परीक्षा उत्तीर्ण की गई एवं मार्च 2019 में हमारे द्वितीय प्रोफेशनल परीक्षाएं होनी थी। दिनांक 23.01.2019 को माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा सुभारती मेडिकल कॉलेज को बंद कर द्वितीय वर्ष के छात्रों को राज्य के अन्य मेडिकल कॉलेजों में स्थानांतरित किए जाने के पश्चात् उन्हें प्रथम वर्ष की परीक्षा उन्हें संबंधित कॉलेजों या विश्वविद्यालय से देनी होगी, का निर्णय सुनाया, क्योंकि मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया रासबिहारी बोस विश्वविद्यालय द्वारा ली गई परीक्षा को मान्यता नहीं दे रहा हैं। विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा बताया गया कि यदि मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया, राज्य सरकार या हेमवती नंदन बहुगुणा मेडिकल यूनिवर्सिटी को हमारे प्रािम वर्ष की परीक्षा से कोई परेशानी/ थी तो हमें 2017 में ही सूचित करना था। कॉलेज की मान्यता या एफीलिएशन किस विश्वविद्यालय से होनी चाहिए यह विषय पूर्ण रूप से कॉलेज, राज्य सरकार व एमसीआई से संबंधित है। इसमें हम छात्रों का कोई दोष नहीं है। सुभारती मेडिकल कॉलेजके प्रथम वर्ष 2016 की सुनिश्चिता की पृष्टि इस बात से भी होती है की मेडिकल कॉलेज को 2017 में 150 नए छात्रों को एमबीबीएस प्रथम वर्ष में प्रवेश की अनुमति मिली। उपरोक्त विषय में राज्य सरकार से प्रार्थना है कि छात्र हित को ध्यान में रखते हुए व छात्रों का कोई भी दोष ना होते हुए, छात्रों को रास बिहारी बोस विश्वविद्यालय द्वारा ली गई प्रथम वर्ष की परीक्षा की मान्यता राज्य के हेमवती नंदन बहुगुणा चिकित्सा विश्वविद्यालय से कराने की बात की | जिससे 150 छात्रों का भविष्य सुरक्षित हो सके।

Leave A Comment