Breaking News:

जरा हट के : ब्याज पर पैसे लेकर ग्रामीणों ने खुद बनाई डेढ़ सौ मीटर लम्बी सड़क -

Sunday, November 18, 2018

देहरादून : दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती के सोमवार को दर्ज होंगे बयान -

Saturday, November 17, 2018

वरिष्ठ पत्रकार अनूप गैरोला का निधन -

Saturday, November 17, 2018

मिस उत्तराखंड : मिस रेडिएंट स्किन एंड ब्यूटीफुल हेयर सब प्रतियोगिता का आयोजन -

Saturday, November 17, 2018

सभी नागरिक अपने मताधिकार का करे प्रयोग : सीएम -

Saturday, November 17, 2018

मतदाता चुनेेंगे शहर की सरकार …. -

Saturday, November 17, 2018

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका अहम -

Friday, November 16, 2018

चैटर्जी बहनों द्वारा बांसुरी प्रदर्शन का आयोजन -

Friday, November 16, 2018

आखिरी दिन कांग्रेस ने रोड शो में झोंकी ताकत -

Friday, November 16, 2018

स्टिंग ऑपरेशन केस : उमेश शर्मा को मिली जमानत -

Friday, November 16, 2018

त्रिवेंद्र एवं अजय भट्ट ने मांगे भाजपा प्रत्याशियों के लिए वोट -

Friday, November 16, 2018

निकाय चुनाव : 9399 लाइसेंसी शस्त्रों को किया गया जमा -

Friday, November 16, 2018

भारतीय लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

स्टिंग मामला : नार्को व ब्रेन मैपिंग टेस्ट पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक -

Thursday, November 15, 2018

हिमालया ने लॉन्च किया ‘‘खुश रहो, खुशहाल रहो’’ -

Thursday, November 15, 2018

नजूल भूमि पर बसे किसी भी परिवार को उजड़ने नहीं दिया जायेगा : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

मेयर प्रत्याशी सुनील उनियाल गामा ने जनसंपर्क कर मांगे वोट -

Wednesday, November 14, 2018

भ्रष्टाचार तथा ब्लैकमनी पर बनाई गई पेंटिंग को खूब सराहा गया , जानिए खबर -

Wednesday, November 14, 2018

मधुमेह बढ़ाता है दिल के दौरे का खतरा ….. -

Wednesday, November 14, 2018

यूनाईटेड नेशस डेवलपमेंट प्रोग्राम के सदस्यों ने सीएम से की भेटवार्ता -

Wednesday, November 14, 2018

सेब की नई प्रजाति विकसित की, पौधे में एक वर्ष में ही शुरु हो जाता उत्पादन

press - con

देहरादून। उद्यान के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित बागवानी विशेषज्ञ पपाया मैन सुधीर चड्ढ़ा ने उत्तराखण्ड में सेब उत्पादन की नई तकनीक इजाद की है। जिसकी बदौलत काश्तकारों को चारों ओर से मुनाफा हो सकता है। पपाया मैन की विदेशों जाकर सेब की फसल का अध्ययन कर नई तकनीक खोज निकाली। जिसकी बदौलत सेब का बाग लगाकर अगले ही वर्ष मुनाफा कमाने की उम्मीद जागी है। उत्तरांचल प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में बागवानी विशेषज्ञ सुधीर चड्ढा ने कहा कि पहले सेब का बाग लगातार व्यवसायिक फसल उत्पादन के लिए तकरीबन आठ से दस साल का इंतजार करना होता था, जिससे काश्तकारों को काफी मेहनत और देखभाल करने की जरूरत होती थी। देशभर में सेब के उत्पादन के बावजूद लाखों टन सेब विदेशों से आयात किया जाता है। उन्होंने एक संकल्प के तौर पर सेब की फसल के लिए मशहूर कई देशों का दौरा किया। उन्होंने इटली, हाॅलेंड आदि मुल्कों से तकनीक हासिल कर उत्तराखण्ड में सेब की नई प्रजाति विकसित की। उनके लगाए जाने वाले बाग में एक वर्ष में ही सेब की फसल तैयार होने लगती है। लगभग पांच साल में एक हेक्टयर बाग में काश्तकार की आय लगभग पांच से दस लाख रूपए तक हो सकती है। उन्होंने कहा कि सरकारी आंकड़ों के अनुसार हर वर्ष लगभग चार लाख टन सेब का आयात भारतवर्ष में किया जाता है। जो कि हिमाचल के संपूर्ण उत्पादन का लगभग आधा है। श्री चड्ढ़ा का मानना है कि यदि उत्तरकाशी के किसान यह निश्चित करके सेब उत्पाद मंे पूरे उत्साह के साथ लग जाएं तो आने वाले पांच वर्षोंे में आसानी से सेब के आयात को रोकने मंे उत्तराखण्ड का एक जिला ही काफी होगा। उन्होंनरे इटली के विशेषज्ञों के सर्वेक्षण के आधार पर बताया गया है कि सेब के साथ-साथ अखरोट, चेरी तथा नवीन प्रजातियों के पल्म एंव नासपाती की संभावनाएं उत्तराखण्ड में अपार हैं। उत्तराखण्ड में फल क्रांति पलायन रोकने का प्रमुख जरिया बन सकती है। चड्ढा ने कहा कि उत्तराखण्ड में सेब उत्पादन के क्षेत्र में क्रांति लाने के उद्देश्य से सीएम एप्पल मिशन प्रारंभ किया है। जिसके अच्छे परिणाम अब सामने आने लगे हैं और कार्यक्रम को आगे बढ़ना तय किया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड मंे सेब की खेती से प्रदेश से पलायन को भी रोकने में भी मदद मिलेगी।

Leave A Comment