Breaking News:

15 गरीब कन्याओं का कराया सामूहिक विवाह -

Wednesday, February 20, 2019

पौड़ी और अल्मोड़ा में सबसे अधिक पलायन -

Tuesday, February 19, 2019

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग ने पाकिस्तान व आतंकियों का फूंका पुतला -

Tuesday, February 19, 2019

शहीद मेजर विभूति शंकर ढ़ौडियाल के अंतिम दर्शन में उमड़ा जनसैलाब, सीएम त्रिवेन्द्र पुष्प चक्र अर्पित कर दी श्रद्धांजलि -

Tuesday, February 19, 2019

भारत को वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलना चाहिए: हरभजन -

Tuesday, February 19, 2019

फिल्‍म ‘नोटबुक’ से सलमान खान ने रिप्‍लेस किया सिंगर आतिफ असलम को -

Tuesday, February 19, 2019

त्रिवेंद्र सरकार ने पेश किया 48663.90 करोड़ रु का बजट -

Monday, February 18, 2019

समावेशी विकास को समर्पित है बजट-मुख्यमंत्री -

Monday, February 18, 2019

मुख्यमंत्री ने की प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा -

Monday, February 18, 2019

मोहाली स्टेडियम से पंजाब क्रिकेट संघ ने हटावाईं पाकिस्तानी क्रिकेटरों की तस्वीरें -

Monday, February 18, 2019

तुलाज इंस्टीट्यूट में मनाया गया अमौर -

Monday, February 18, 2019

द न्यू देवतास का बुक डब्लूआईसी इंडिया में हुआ लॉन्च -

Monday, February 18, 2019

मैड ने चलाया अभियान, गंदी दीवारों का किया कायाकल्प -

Monday, February 18, 2019

देहरादून के लिए मिस्टर एंड मिस फैशन आइकॉन ऑडिशन का आयोजन -

Monday, February 18, 2019

वेब मीडिया एसोसिएशन उत्तराखंड प्रदेश कार्यकारणी ने वरिष्ठ पत्रकार चन्द्रशेखर जोशी का किया स्वागत -

Sunday, February 17, 2019

कार्तिक आर्यन ने ठुकराई ,10 करोड़ की फिल्म का ऑफर -

Sunday, February 17, 2019

शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट का पार्थिव शरीर पहुंचा देहरादून -

Sunday, February 17, 2019

उत्तराखण्ड : साहसिक पर्यटन स्थल पर्यटकों के आकर्षण का बना केन्द्र -

Sunday, February 17, 2019

आईएफएसएमएन उत्तराखण्ड प्रदेश कार्यकारणी हुआ गठन -

Sunday, February 17, 2019

भाजपा नेता नरेश बंसल जहरीली शराब के कारण मृत लोगो के परिजनों से की भेंट -

Sunday, February 17, 2019

सेब की नई प्रजाति विकसित की, पौधे में एक वर्ष में ही शुरु हो जाता उत्पादन

press - con

देहरादून। उद्यान के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित बागवानी विशेषज्ञ पपाया मैन सुधीर चड्ढ़ा ने उत्तराखण्ड में सेब उत्पादन की नई तकनीक इजाद की है। जिसकी बदौलत काश्तकारों को चारों ओर से मुनाफा हो सकता है। पपाया मैन की विदेशों जाकर सेब की फसल का अध्ययन कर नई तकनीक खोज निकाली। जिसकी बदौलत सेब का बाग लगाकर अगले ही वर्ष मुनाफा कमाने की उम्मीद जागी है। उत्तरांचल प्रेस क्लब में आयोजित पत्रकार वार्ता में बागवानी विशेषज्ञ सुधीर चड्ढा ने कहा कि पहले सेब का बाग लगातार व्यवसायिक फसल उत्पादन के लिए तकरीबन आठ से दस साल का इंतजार करना होता था, जिससे काश्तकारों को काफी मेहनत और देखभाल करने की जरूरत होती थी। देशभर में सेब के उत्पादन के बावजूद लाखों टन सेब विदेशों से आयात किया जाता है। उन्होंने एक संकल्प के तौर पर सेब की फसल के लिए मशहूर कई देशों का दौरा किया। उन्होंने इटली, हाॅलेंड आदि मुल्कों से तकनीक हासिल कर उत्तराखण्ड में सेब की नई प्रजाति विकसित की। उनके लगाए जाने वाले बाग में एक वर्ष में ही सेब की फसल तैयार होने लगती है। लगभग पांच साल में एक हेक्टयर बाग में काश्तकार की आय लगभग पांच से दस लाख रूपए तक हो सकती है। उन्होंने कहा कि सरकारी आंकड़ों के अनुसार हर वर्ष लगभग चार लाख टन सेब का आयात भारतवर्ष में किया जाता है। जो कि हिमाचल के संपूर्ण उत्पादन का लगभग आधा है। श्री चड्ढ़ा का मानना है कि यदि उत्तरकाशी के किसान यह निश्चित करके सेब उत्पाद मंे पूरे उत्साह के साथ लग जाएं तो आने वाले पांच वर्षोंे में आसानी से सेब के आयात को रोकने मंे उत्तराखण्ड का एक जिला ही काफी होगा। उन्होंनरे इटली के विशेषज्ञों के सर्वेक्षण के आधार पर बताया गया है कि सेब के साथ-साथ अखरोट, चेरी तथा नवीन प्रजातियों के पल्म एंव नासपाती की संभावनाएं उत्तराखण्ड में अपार हैं। उत्तराखण्ड में फल क्रांति पलायन रोकने का प्रमुख जरिया बन सकती है। चड्ढा ने कहा कि उत्तराखण्ड में सेब उत्पादन के क्षेत्र में क्रांति लाने के उद्देश्य से सीएम एप्पल मिशन प्रारंभ किया है। जिसके अच्छे परिणाम अब सामने आने लगे हैं और कार्यक्रम को आगे बढ़ना तय किया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड मंे सेब की खेती से प्रदेश से पलायन को भी रोकने में भी मदद मिलेगी।

Leave A Comment