Breaking News:

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

दुःखद : जंगल की आग में जिंदा जली दो महिलाएं -

Sunday, April 5, 2020

आम आदमी की रसोईः जरूरतमंदों को दे रही भोजन और राशन -

Sunday, April 5, 2020

5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए अपने घरों में लाईट बंद कर दीपक जलाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, April 4, 2020

लापता व्यक्ति का शव पाषाण देवी के मंदिर पास झील से बरामद हुआ -

Saturday, April 4, 2020

देहरादून : स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से 9482 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Saturday, April 4, 2020

उत्तराखंड में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या हुई 22 -

Saturday, April 4, 2020

सोशियल पॉलीगोन ग्रुप ऑफ कंपनी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 लाख का चेक दिया -

Saturday, April 4, 2020

लॉकडाउन : रचायी जा रही शादी पुलिस ने रुकवाई, 15 लोगों पर मुकदमा दर्ज -

Friday, April 3, 2020

उत्तराखंड : त्रिवेन्द्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए जारी किये 85 करोङ रूपए -

Friday, April 3, 2020

ऋषियों का मूल मंत्र ’तमसो मा ज्योतिर्गमय’ एक अद्भुत आइडियाः स्वामी चिदानन्द सरस्वती -

Friday, April 3, 2020

आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने किया रक्तदान -

Friday, April 3, 2020

कोरोना वॉरियर्स का सभी करे सहयोग : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, April 3, 2020

किन्नरों ने लोगों को भोजन, राशन वितरित किया -

Thursday, April 2, 2020

3 अप्रैल से बैंक सुबह 8 से अपरान्ह 1 बजे तक खुले रहेंगे -

Thursday, April 2, 2020

“स्पेशल बच्चों” का जीवन संवार रही है मणि , जानिये खबर

bdi mam

फरीदाबाद | दिल में जज्बा हो तो कोई भी अच्छे कार्य किया जा सकता है इसी जज्बे को लेकर स्पेशल बच्चों को स्पेशल बच्चों को ट्रेनिंग देने के लिए मणि ने स्कूल शुरू किया। यही नहीं इसके लिए वह खुद पढ़ाई भी की। आर्थिक दिक्कतों व अन्य मुश्किलों से जूझते हुए अपने मिशन को पूरा करने में जुटीं मणी इन बच्चों के लिए उनकी प्यारी बड़ी मैम हैं। मणि की कोशिशों से कई स्पेशल बच्चों का जीवन संवर गया है। विभोर खुद से कुछ नहीं कर पाता था, पूरी तरह से दूसरों पर निर्भर था। लेकिन आज वह 60 प्रतिशत तक आत्मनिर्भर हो चुका है। टेलिग्राफिक लैंग्वेज के जरिए बात कर सकता है। शानदार पेंटिंग बनाने लगा है। खूबसूरत बंधनवार व राखी भी बना लेता है। 5 साल का आर्यन एडीएचडी (अटेंशन डेफिसिट हाइपर एक्टिव डिसॉर्डर) का शिकार था। 3 साल की ट्रेनिंग के बाद आज वह मानव रचना में तीसरी क्लास में पढ़ रहा है। 17 साल का ब्रैन जूड पहले न ठीक से अपनी बात कह पाता था, न कुछ समझ पता था, लेकिन अब वह न लिखने व अपनी बातें शेयर लगा है, बल्कि 2011 में स्पेशल ओलिंपिक भारत की एथलेटिक्स प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल जीता। 2017 में भी उसने इसी आयोजन में नेटबॉल में गोल्ड हासिल किया। मणि ने कहा की स्पेशल बच्चों को आत्मनिर्भर बनाने को लेकर आज भी न तो हमारा समाज जागरूक है और न ही उनके लिए अच्छी सुविधाएं मौजूद हैं जिससे इन बच्चों व पैरंट्स को परेशानियों से जूझना पड़ता है। बल्लभगढ़ स्थित सेक्टर-3 निवासी मणी अग्रवाल को जब अपने बेटे की परवरिश में ऐसी दिक्कतों का सामना करना पड़ा, तो उन्होंने शहर के ऐसे दूसरे बच्चों की जिंदगी संवारने का बीड़ा उठा लिया। मणि ने वर्ष 2004 में इंटेलेक्चुअल डिसेबल बच्चों के लिए सेक्टर 10 में ‘आकृति’ स्कूल की नींव रखी। यह स्कूल शिक्षा के माध्यम से बच्चों के जीवन में नई ज्योति जला रहा है। शुरुआत में स्कूल में दो बच्चे थे, जिसमें एक मणी का अपना बेटा भी शामिल रहा। मणी बताती हैं कि ऐसे बच्चों की देखरेख निश्चित तौर पर कठिन काम है, लेकिन शिक्षा एक ऐसा माध्यम है, जिसके माध्यम से प्यार, समझ व धैर्य के साथ इनका जीवन संवारा जा सकता है। तमाम आर्थिक उतार-चढ़ाव के चलते 3-3 साल में इस स्कूल की जगह बदली और अब पिछले चार साल से यह स्कूल विशंभर प्लेस, तिगांव रोड, बल्लभगढ़ में आबाद है।

Leave A Comment