Breaking News:

उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाए सम्मानित , जानिए खबर -

Monday, June 24, 2019

राजकीय अस्पताल अटाल में दो वर्षों से डाक्टर नहीं , जानिए खबर -

Monday, June 24, 2019

संस्कृत में ज्ञान व विज्ञान का अपार भंडार समाहितः आचार्य बालकृष्ण -

Monday, June 24, 2019

विस सत्र का पहला दिन , जानिए खबर -

Monday, June 24, 2019

देहरादून डब्लूआईसी इंडिया टोस्टमास्टर्स क्लब ने आयोजित की 200वीं बैठक -

Sunday, June 23, 2019

चोराबाड़ी में नहीं बनी है कोई झील : जिला प्रशासन -

Sunday, June 23, 2019

केदारबद्री धाम : डेढ़ माह के भीतर पहुंचे सात लाख पैंतीस हजार से ज्यादा यात्री -

Sunday, June 23, 2019

राज्यों के स्थानीय उत्पाद मिड डे मील में हो सम्मिलित : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 23, 2019

विपक्ष सत्र शांतिपूर्ण ढंग से संचालन में करें सहयोग : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 23, 2019

रिस्पना, बिंदाल और सुसवा नदियों का पानी विषाक्त पदार्थों से भरा : स्पेक्स -

Saturday, June 22, 2019

रावण गैंग के तीन शार्प शूटर देहरादून से गिरफ्तार -

Saturday, June 22, 2019

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल सीएम त्रिवेंद्र का शिष्टाचार भेंट -

Saturday, June 22, 2019

गुप्ता बंधु के बेटे के शादी में पहुँचे सीएम त्रिवेंद्र, अजय भट्ट, रामदेव -

Saturday, June 22, 2019

शादी में शामिल होने के लिए औली पहुंचे सिद्धार्थ -

Saturday, June 22, 2019

डब्लूआईसी इंडिया ने मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग एवं विश्व संगीत दिवस -

Friday, June 21, 2019

बीएड टीईटी प्रशिक्षितों ने अपनी मांगो को लेकर किया धरना-प्रदर्शन -

Friday, June 21, 2019

एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने ग्राहकों के लिए ‘अटल पेंशन योजना’ लॉन्च की -

Friday, June 21, 2019

पाँचवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पतंजलि के साथ पूरे विश्व ने लिया योग का लाभ -

Friday, June 21, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने हजारों योग साधकों के साथ किया योगा -

Friday, June 21, 2019

औली में 101 ब्राह्मणों ने संपन्न कराई शाही शादी, जानिए खबर -

Thursday, June 20, 2019

हजब्बा संतरे बेच बेच कर गरीब बच्चों के लिए किया स्कूल का निर्माण

1

कर्नाटक में मेंगलोर के रहने वाले हरेकला हजब्बा यूं तो कहने के लिए अनपढ़ हैं, लेकिन समाज में ज्ञान का प्रकाश फैला रहे हैं। डेक्कन क्रॉनिकल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 30 साल से संतरे बेचकर अपना गुजारा चलाने वाले हजब्बा ने पाई-पाई जोड़कर अपने गांव में गरीब बच्चों के लिए एक स्कूल का निर्माण करा दिया है। यही नहीं, अब वह एक कॉलेज बनाने का सपना पूरा करना चाहते हैं।कर्नाटक में मेंगलोर के रहने वाले हरेकला हजब्बा यूं तो कहने के लिए अनपढ़ हैं, लेकिन समाज में ज्ञान का प्रकाश फैला रहे हैं। डेक्कन क्रॉनिकल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 30 साल से संतरे बेचकर अपना गुजारा चलाने वाले हजब्बा ने पाई-पाई जोड़कर अपने गांव में गरीब बच्चों के लिए एक स्कूल का निर्माण करा दिया है। यही नहीं, अब वह एक कॉलेज बनाने का सपना पूरा करना चाहते हैं।

pehchan

1999 में हजब्बा के सपने ने धीरे-धीरे पंख फैलाना शुरू कर दिया। उन्होने अपने गांव में एक मदरसे की शुरुआत की। जब यह स्कूल शुरू हुआ था तो सिर्फ़ 28 छात्र थे।हालांकि बाद में जब छात्रों की संख्या बढ़ने लगी, हजब्बा को लगा कि इस मदरसे को अब बेहतर स्कूल में तब्दील करना होगा।

pehchan

इसलिए वह खुद के जोड़े हुए एक-एक पाई उस स्कूल की इमारत और भविष्य की पीढ़ियों के लिए उचित शिक्षा के लिए जमा करने लगे।

Leave A Comment