Breaking News:

देहरादून : लिफाफे और मास्क निर्माण प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित हुई -

Saturday, August 8, 2020

उत्तराखंड : सीएम त्रिवेंद्र ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग भवन का किया लोकार्पण -

Saturday, August 8, 2020

देहरादून : एसएसपी ने किए 6 उप निरीक्षकों के तबादले -

Saturday, August 8, 2020

उत्तराखंड: आज इन जिलों में मिले अधिक कोरोना मरीज, जानिए खबर -

Friday, August 7, 2020

उत्तराखंड : हथकरघा और हस्तशिल्प उत्पादों को अमेजन के माध्यम से आनलाईन बिक्री का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारंभ -

Friday, August 7, 2020

भारत : देश मे कोरोना संक्रमित 20 लाख पार, जानिए खबर -

Friday, August 7, 2020

स्कूटी व बाइक चोर गिरोह गिरफ्तार, जानिए खबर -

Friday, August 7, 2020

एक बेहतर टीम का हाथ होता हैं किसी बड़े और पवित्र उद्देश्य की सफलता के पीछेः डीएम देहरादून -

Friday, August 7, 2020

अंतराष्ट्रीय अचीवरस अवार्ड से सम्मानित हुए विरेन्द्र सिंह रावत -

Friday, August 7, 2020

उत्तराखंड : कोरोना से मरने वालो की संख्या पहुँची सौ के पार, हरिद्वार में 71 और मरीज मिले -

Thursday, August 6, 2020

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की देख – रेख हेतु प्रकोष्ठ का गठन -

Thursday, August 6, 2020

उत्तराखंड: आज सात जिलों में मिले कोरोना के अधिक मामले , जानिए खबर -

Thursday, August 6, 2020

एक और अभिनेता के किया आत्महत्या, जानिए खबर -

Thursday, August 6, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत अपने आवास में जलाए दिये, जानिए खबर -

Thursday, August 6, 2020

उत्तराखंड : 18 आईएएस समेत 19 अफसरों के दायित्वों में किया गया फेरबदल -

Thursday, August 6, 2020

सुना था कि भगवान होते हैं, लेकिन वेलमेड हॉस्पिटल में मुझे साक्षात दर्शन हुए … -

Thursday, August 6, 2020

उत्तराखंड: आज 246 नए कोरोना मरीज मिले , जानिए खबर -

Wednesday, August 5, 2020

कई वर्षों के संघर्ष के बाद आज यह स्वर्णिम अवसर आया : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, August 5, 2020

वर्षो बाद आज रच गया इतिहास, जानिए खबर -

Wednesday, August 5, 2020

सिविल सेवा परीक्षा परिणाम : रामनगर के शुभम अग्रवाल ने हासिल किए 43वीं रैंक -

Wednesday, August 5, 2020

हरे वृक्षों का धड़ल्ले से हो रहा कटान, जानिए खबर

हरिद्वार । पर्यावरण से पृथ्वी व पृथ्वीवासियों का गहरा नाता है। इस रिश्ते की डोर को सबसे मजबूती से जिसने बांधे रखा है वे हैं हरे -भरे पेड़ पौधें। लेकिन दरख्तों की बेहिसाब कटाई और कंक्रीट के जंगलों के बीच आज अगर हम छांव को तरसते हैं तो हैरानी नहीं होनी चाहिए क्योंकि इन हालातों के लिए जिम्मेदार भी कोई और नहीं आप और हम ही हैं। बीते दिनों प्रदेश में पेड़ लगाने का अभियान छेड़ने वाली सरकार भी हरियाली को लेकर चिंतित दिखाई पड़ रही थी। लेकिन बावजूद इसके हरे फलदार पेड़ काटने और कटवाने वालों पर सख्त कार्रवाई धरातल पर होती कहीं नजर नहीं आ रही हैं। इसी के चलते विभागीय मिलीभगत से हरे-भरे वृक्षों का कटान का सिलसिला जारी हैं।  दक्ष नगरी के साथ-साथ कनखल आम, अमरूद, लीची सहित फलों व सब्जियों के बागों की नगरी के नाम से भी जाना जाता था। लेकिन समय की करवट ने बागों को कंक्रीट के जंगलों में बदल दिया। दूर-दूर तक फैली हरियाली को भूमाफियाओं ने कंक्रीट मेे तब्दील कर दिया। अभी जो शेष बचे बाग हैं। उन पर कनखल  बागों के लिए  ताजा मामला जगजीतपुर कनखल क्षेत्र से जुड़ा हुआ हैं जहां आम के बाग में विभागीय मिलीभगत के चलते आधा दर्जन से अधिक हरे-भरे पेड़ो पर आरियां चला कर जमींदोज कर दिया गया। शेष बचे बागों पर पर भी भूमाफिया की गिद्ध दृष्टि गड़ी हुई हैं। सूत्र बताते हैं कि बाग स्वामी ने संबंधित विभाग से पेड़ पातन की अनुमति ली हुई हैं। वहीं पेड़ पातन के लिए जिम्मेदार विभाग पेड़ों को रोगग्रस्त व पुराने बताकर सालों से बाग में खड़े हरे-भरे पेड़ों के कटान की अनुमति दे रहा हैं। जबकि सरकार पेड़ बचाने के दावे कर रही हैं। निजी संस्थाओं की हरे -भरे बागों को बचाने की मुहिम भी सालों पहले ही मंद पड़ गई। बाकी रही सही कसर सेटिंग के तहत सेटिंग से पूरी कर दी गई। महकमे की पड़ताल करें तो साफ होता है कि उसके पास सरकारी आदेश को जमीन पर उतारने के लिए कोई नीति और नीयत नहीं है। यही वजह है कि जब वन महकमे के हुक्मरानों से पेड़-पौधे लगाने के बाबत बातचीत की जाती है तब उनके दावे इतने बढ़-चढ़कर होते हैं कि उस पर सहसा विश्वास कर पाना आसान नहीं होता। मसलनए वन महकमे का दावा है कि सूबे के सभी जिलों में वृक्षारोपण का लक्ष्य न केवल हासिल किया गया है बल्कि अधिकांश जिलों में तो लक्ष्य से आगे जाकर वृक्षारोपण किया गया। लेकिन इसी महकमे के पास इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि बीते पांच-दस सालों में सूबे में कितने पेड़ काटे गए हैं? उत्तराखंड में साल दर साल वृक्षारोपण की योजनाएं बनती रहती हैं। तमाम स्वैच्छिक संगठनों समेत वन महकमा योजनाएं बनाते रहते हैं। तथापि कहीं वृक्षारोपण का प्रभाव दिखने को नहीं मिलता।

Leave A Comment