Breaking News:

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : प्रदेश भाजपा ने विभिन्न समितियों का गठन किया -

Tuesday, May 26, 2020

कोरोना संक्रमित लोगों की जाँच कर रहे अस्पतालो को मिलेगा 50 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : 51 कोरोना मरीज और मिले, संख्या हुई 400 -

Tuesday, May 26, 2020

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

ऑटो-रिक्शा चालकों ने की आर्थिक सहायता की मांग -

Sunday, May 24, 2020

दुःखद : महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या -

Sunday, May 24, 2020

अन्नपूर्णा रोटी बैंक चैरिटेबल ट्रस्ट पुलिस कर्मियों को पुष्प भेंट किया सम्मान -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो कि संख्या हुई 317 -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड: राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 298 -

Sunday, May 24, 2020

पानी में डूबकर दम घुटने से हुई युवती की मौत -

Saturday, May 23, 2020

उत्तराखंड में कोरोना का कहर , मरीजो की संख्या हुई 244 -

Saturday, May 23, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने कांस्टेबल स्व0 संजय गुर्जर की पत्नी को 10 लाख रूपये का चेक सौंपा -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 173 हुई -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना की मार: ठेले पर फल बेच जीविका चलाने को मजबूर यह कलाकार -

Saturday, May 23, 2020

सचिन आनंद एंव गणेश चन्द्र ठाकुर चुने गए कोरोना वॉरियर्स ऑफ द डे -

Friday, May 22, 2020

हाईकोर्ट ने दी पूर्व मुख्यमंत्रियों को एक माह की मोहलत

nainital

नैनीताल । पूर्व मुख्यमंत्रियों के बकाया मामले में सरकार के अध्यादेश पर अब 18 नवम्बर को नैनीताल हाईकोर्ट सुनवाई करेगा। हाईकोर्ट ने अब राज्य सरकार व पूर्व मुख्यमंत्रियों को 4 हफ्ते का अन्तिम समय देते हुए जवाब दाखिल करने का आदेश दिया है। शुक्रवार को उत्तराखंड सरकार ने कोर्ट में सभी पक्षकारों को नोटिस सर्व करने की बात कही। जिसके बाद याचिकाकर्ता के वकील ने इसका विरोध किया और कहा कि पूर्व मुख्यमंत्रियों के प्राइवेट सचिवों को नोटिस दिया गया है। सरकार ने नोटिस देने को रिकॉर्ड में लेने की गुहार लगाई तो कोर्ट ने इसे मान लिया। बता दें कि 3 मई 2019 को हाईकोर्ट की डबल बेंच ने आदेश दिया था कि 6 महीने के भीतर इन मुख्यमंत्रियों पर बकाया की बाजार भाव से वसूली की जाए। लेकिन सरकार कोर्ट के आदेश के बचाव में अध्यादेश लेकर आ गई और 5 सितम्बर को राज्यपाल ने इसको स्वीकृति भी दे दी। इससे हाईकोर्ट का फैसला निष्प्रभावी हो गया था। उत्तराखंड सरकार के अध्यादेश में कहा गया कि राज्य के सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगलों, गाड़ी के किराए का भुगतान सरकार करेगी और इन लोगों के लिए पहले की तरह सभी सुविधाएं मुफ्त रहेंगी। इस मामले में पीआईएल डालने वाले आरटीआई कार्यकर्ता अवधेश कौशल ने 11 सितंबर को उत्तराखंड सरकार के अध्यादेश को असंवैधानिक घोषित करने को लेकर हाईकोर्ट में फिर याचिका दाखिल की. याचिका में कहा गया कि राज्य सरकार का अध्यादेश संविधान के आर्टिकल 14 और 21 के खिलाफ जाता है। याचिकाकर्ता अवधेश कौशल के वकील कार्तिकेय हरि गुप्ता ने कहा कि इसी तरह का मामला उत्तर प्रदेश में भी सामने आया था. उत्तर प्रदेश सरकार ने भी पूर्व मुख्यमंत्रियों की सुविधाएं जारी रखने का कानून बनाया था जिसे सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर दिया।

Leave A Comment