Breaking News:

महिला ब्लाइंड क्रिकेट : उड़ीसा की दूसरी धमाकेदार जीत -

Saturday, December 15, 2018

कहीं भी रहें, अपनी लोकसंस्कृति एवं लोक परंपराओं से जुड़े रहेंः माता मंगला -

Saturday, December 15, 2018

एनएच-74 घोटाला : बिल्डर प्रिया शर्मा ने जिला कोर्ट में किया सरेंडर -

Saturday, December 15, 2018

जनता के लिए वरदान बन रहा उत्तराखण्ड सीएम एप…. -

Saturday, December 15, 2018

पहचान : समाजसेवी विजय कुमार नौटियाल को उत्तराखंड गौरव सम्मान -

Saturday, December 15, 2018

कैबिनेट की मुहर : शिक्षकों के लिए 7वें वेतनमान को मंजूरी -

Friday, December 14, 2018

राफेल को लेकर राहुल गांधी ने झूठ फैलाने का किया कार्य : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, December 14, 2018

बर्फबारी के बाद केदारनाथ में मौसम हुआ साफ -

Friday, December 14, 2018

उत्तराखण्ड : सीएम एप से पहली बार बिजली से रोशन हुए कई दूरस्थ गाँव -

Friday, December 14, 2018

आईसीआईसीआई बैंक ने जोड़े ‘ईजीपे‘ पर 1.93 लाख से अधिक ग्राहक -

Friday, December 14, 2018

प्रेसवार्ता : लापता संत गोपालदास की बरामदगी न होने पर रोष -

Thursday, December 13, 2018

हाउस टैक्स को लेकर गामा और चमोली आमने सामने -

Thursday, December 13, 2018

उत्तराखंड : 22 आईपीएस अधिकारियों को समय से पहले हटाया गया -

Thursday, December 13, 2018

अजब गजब : जेठानी ने की नाबालिग के साथ शारीरिक शोषण -

Thursday, December 13, 2018

त्रिवेंद्र सरकार द्वारा आंगनबाङी कार्यकत्रियों को नए वर्ष की सौगात, जानिये खबर -

Thursday, December 13, 2018

बढ़ते अपराधों के बीच दूनवासी दहशत में , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

14 दिसंबर को होगा ‘अपहरण’ सामने , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

कुलपति सम्मेलन 20 दिसम्बर को राजभवन में -

Wednesday, December 12, 2018

दो मुंहा सांप के चक्कर में गए जेल , जानिए खबर -

Wednesday, December 12, 2018

फर्जी पीसीएस अधिकारी को पुलिस ने दबोचा -

Wednesday, December 12, 2018

10वीं के छात्र ने कैदियों की रिहाई के लिए डोनेट की अपनी स्कॉलरशिप, जानिए खबर

pahal

भोपाल | दसवीं में पढ़ने वाले भोपाल के छात्र आयुष किशोर ने उन कैदियों के लिए उम्मीद की एक किरण बना हैं जो अपनी सजा तो काट चुके हैं लेकिन जुर्माना न भर पाने की वजह से सलाखों के पीछे हैं। वह स्वतंत्रता दिवस पर इन्हें जेल से बाहर निकलवाएंगे। इस साल आयुष अपना 14वां जन्मदिन मना रहे हैं, इसलिए उन्होंने 14 ऐसे कैदियों को छुड़ाने का फैसला किया है।2016 नैशनल चाइल्ड अवॉर्ड फॉर एक्सेप्शनल अचीवमेंट इन एकेडमिक्स जीतने वाले आयुष को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सम्मानित किया था। स्वतंत्रता दिवस पर स्कॉलरशिप के 27,850 रुपये डोनेट करके आयुष यह अच्छा कदम उठाने जा रहे हैं। जो समाज के प्रति एक नयी मिसाल बनेगी | इस साल गणतंत्र दिवस के मौके पर भी आयुष ने ऐसे चार कैदियों को जेल से निकलवाया था। इन 14 कैदियों में से 12 इंदौर जेल से और दो भोपाल के हैं, इन सभी पर हत्या का मामला साबित हुआ था। आयुष को उसके स्कूल से भी ऑल-राउंडर होने के चलते कई स्कॉलरशिप्स मिली हैं। उसने कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में गोल्ड मेडल जीते हैं। आयुष ने बताया, ‘जब माँ ने देखा कि इन पैसों से मैं दूसरों की मदद करना चाहता हूँ ‘ तो माँ ने मुझे कहा की , उन कैदियों को रिहा करवाने में मदद करो जो जुर्माना न भर पाने के चलते अतिरिक्त सजा काट रहे हैं। जिससे जब वो कैदी रिहा हो तो समाज को प्रेरित करे | उनकी माँ विनीता मालवीय भी इस फैसले पर गर्व महसूस करती हैं।

Leave A Comment