Breaking News:

उत्तराखंड भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी घोषित, जानिए खबर -

Tuesday, February 25, 2020

अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प ने की बॉलीवुड की तारीफ, जानिए खबर -

Tuesday, February 25, 2020

चार धाम देवस्थानम बोर्ड के पहले सीईओ बने मंडलायुक्त रविनाथ रमन -

Tuesday, February 25, 2020

देवस्थानम अधिनियम के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर, जानिए खबर -

Tuesday, February 25, 2020

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया श्रीनगर सरस मेले का शुभारम्भ -

Tuesday, February 25, 2020

दुःखद : बाइक की टक्कर से साइकिल सवार बुजुर्ग की मौत -

Monday, February 24, 2020

मसूरी : केंद्रीय मंत्री के ड्राइवर की हार्ट अटैक से मौत -

Monday, February 24, 2020

उत्तराखंड : देहरादून दिल्ली के बीच एलिवेटेड एक्सप्रेस की सौगात -

Monday, February 24, 2020

सराहनीय : उत्तराखंड पुलिस ने तीन विदेशीयो की बचाई जान -

Monday, February 24, 2020

बूट पॉलिश करने वाला बना इंडियन आइडल विजेता , जानिए खबर -

Monday, February 24, 2020

दुःखद : आठ साल की बच्ची ने लगायी फाँसी -

Saturday, February 22, 2020

मीडिया जिम्मेदारी से अपने दायित्वों का निर्वहन करेंः राजेन्द्र जोशी -

Saturday, February 22, 2020

काम की बात : बैंकिंग एवं वित्तीय सेवा के मामले भी स्थायी लोक अदालत में सम्मिलित -

Saturday, February 22, 2020

नही खर्च कर पाए 17 विधायक अब तक अपनी आधी भी विधायक निधि, जानिए खबर -

Saturday, February 22, 2020

उत्तराखंड सरकार : नई आबकारी नीति पर लगी मुहर -

Saturday, February 22, 2020

होटल के कमरे से मिला दिल्ली के पर्यटक का शव -

Friday, February 21, 2020

केदार धाम के कपाट 29 अप्रैल को खुलेंगे -

Friday, February 21, 2020

रेल मंत्री ने दिल्ली से देहरादून के लिए तेजस ट्रेन की सैद्धांतिक स्वीकृति दी -

Friday, February 21, 2020

इस धरती में पवित्रतम है ज्ञानः डॉ. पण्ड्या -

Friday, February 21, 2020

परमार्थ निकेतन में धूमधाम और उल्लास से मनाई गई शिवरात्रि -

Friday, February 21, 2020

24 जनवरी को घर वापसी : नवग्रहों में सबसे विलक्षण शनिदेव

देहरादून । 24 जनवरी को 29 साल बाद नवग्रहों में सबसे विलक्षण गुणों वाले शनिदेव अपने घर लौट रहे हैं। सबसे धीरे चलने वाले ग्रह के रूप में विख्यात शनि को इसी कारण मंदाग्रह भी कहा गया है। शनि का यह शानि परिवर्तन, मिथुन और तुला राशि वालों पर ढाई वर्षों तक प्रभाव डालेगा। अन्य राशियों पर शनि की साढेसती का प्रभाव लंबे समय तक बना रहेगा। ज्योतिषाचार्य डॉ. प्रतीक मिश्रपुर के अनुसार शनि किसी भी राशि से वापसी की यात्रा 28 से तीस वर्षों में पूरी करते हैं। अन्य ग्रहों को इतना लंबा समय नहीं लगता। शनिदेव इससे पूर्व फरवरी 1991 में मकर राशि में आए थे। इसके बाद उनकी मकर वापसी अब फिर हो रही है। डॉ. मिश्रपुरी के अनुसार 24 जनवरी मौनी अमावस्या के दिन प्रात 9.54 बजे जब मौनी अमावस्या का स्नान चल रहा होगा, तब शनि उत्तराषाढा नक्षत्र में मकर राशि में प्रवेश करेंगे। यह शनि की अपनी राशि है। वे 2022 तक फिर इसी राशि में रहेंगे। दिसंबर 2020 में इसी वर्ष शनि धनु राशि में कुछ समय के आएंगे, लेकिन फिर मार्गी होकर मकर में प्रवेश कर लेंगे। 2022 तक के ढाई वर्षों में शनि वक्री गति भी प्राप्त करेंगे। शनि की ढैया मिथुन और तुला पर चलेगी। जबकि धनु, मकर और कुंभ पर शनि की साढेसती का प्रभाव पड़ेगा। ये तीनों राशियां लंबे समय तक प्रभावित रहेगा। मिथुन राशि पर शनि की ढैया पीड़ा, रक्त विकार, स्त्री कष्ट आदि रोगों को करणों की जनक बनेगी। इसी प्रकार यह ढैया तुला के जातकों को अशांति, शरीर कष्ट, खराब संबंध आदि का दुख देगी। डॉ. मिश्रपुरी के अनुसार धनु, मकर और कुंभ पर आ रही साढेसती भी बहुत कष्टमय होगी। शेष राशियों पर इस परिवर्तन कर कोई नहीं पड़ेगा। शनि और सूर्य की युती 24 जनवरी से 14 फरवरी तक रहेगी। ऐसा होने से सत्ता संग्राम के संकेत मिलते हैं। यद्यपि शनि के मकर में आने से आर्थिक सुधारों का दौर शुरू हो जाएगा।

Leave A Comment