Breaking News:

दुःखद : सीएम के ओएसडी गोपाल रावत का कोरोना के चलते निधन -

Tuesday, September 22, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 42651, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सराहनीय कार्य : जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा सामाग्री किये वितरित -

Tuesday, September 22, 2020

बेटी दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र एवं वन मंत्री ने ‘आनन्द वन’ का किया लोकापर्ण -

Tuesday, September 22, 2020

महाआरती का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में न हो विलम्ब : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र -

Tuesday, September 22, 2020

राज कम्युनिकेशन के सफलतापूर्वक 15 वर्ष हुए पूरे, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज प्रदेश में मिले 814 कोरोना मरीज, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

IPL : भारतीय खिलाड़ियों की फिटनेस को लेकर उठ रहे सवाल -

Monday, September 21, 2020

अनुराग-पायल केस में कंगना के बयान से खलबली, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने थानो में एग्री बिजनेस ग्रोथ सेंटर का किया लोकार्पण -

Monday, September 21, 2020

केदारनाथ आपदा : सर्च अभियान में मिले चार नर कंकाल -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज देहरादून में चार सौ से अधिक कोरोना मरीज मिले, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

कोरोना महामारी मे मदद का हाथ बढ़ा रहे विरेन्द्र सिंह रावत -

Sunday, September 20, 2020

देहरादून स्थित सभी कोर्ट एक ही परिसर में स्थापित हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, September 20, 2020

चीन को खुफिया जानकारी देने पर पत्रकार समेत तीन गिरफ्तार -

Sunday, September 20, 2020

उत्तराखंड कांग्रेस ने एक सप्ताह तक के सभी सार्वजनिक कार्यक्रम किये रद्द -

Sunday, September 20, 2020

ब्रांडेड कपड़े के नाम पर नकली माल, रहे सावधान, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

भारत में खेल प्रेमियों के लिए आने वाला समय उत्साहजनक -

Sunday, September 20, 2020

24 जनवरी को घर वापसी : नवग्रहों में सबसे विलक्षण शनिदेव

देहरादून । 24 जनवरी को 29 साल बाद नवग्रहों में सबसे विलक्षण गुणों वाले शनिदेव अपने घर लौट रहे हैं। सबसे धीरे चलने वाले ग्रह के रूप में विख्यात शनि को इसी कारण मंदाग्रह भी कहा गया है। शनि का यह शानि परिवर्तन, मिथुन और तुला राशि वालों पर ढाई वर्षों तक प्रभाव डालेगा। अन्य राशियों पर शनि की साढेसती का प्रभाव लंबे समय तक बना रहेगा। ज्योतिषाचार्य डॉ. प्रतीक मिश्रपुर के अनुसार शनि किसी भी राशि से वापसी की यात्रा 28 से तीस वर्षों में पूरी करते हैं। अन्य ग्रहों को इतना लंबा समय नहीं लगता। शनिदेव इससे पूर्व फरवरी 1991 में मकर राशि में आए थे। इसके बाद उनकी मकर वापसी अब फिर हो रही है। डॉ. मिश्रपुरी के अनुसार 24 जनवरी मौनी अमावस्या के दिन प्रात 9.54 बजे जब मौनी अमावस्या का स्नान चल रहा होगा, तब शनि उत्तराषाढा नक्षत्र में मकर राशि में प्रवेश करेंगे। यह शनि की अपनी राशि है। वे 2022 तक फिर इसी राशि में रहेंगे। दिसंबर 2020 में इसी वर्ष शनि धनु राशि में कुछ समय के आएंगे, लेकिन फिर मार्गी होकर मकर में प्रवेश कर लेंगे। 2022 तक के ढाई वर्षों में शनि वक्री गति भी प्राप्त करेंगे। शनि की ढैया मिथुन और तुला पर चलेगी। जबकि धनु, मकर और कुंभ पर शनि की साढेसती का प्रभाव पड़ेगा। ये तीनों राशियां लंबे समय तक प्रभावित रहेगा। मिथुन राशि पर शनि की ढैया पीड़ा, रक्त विकार, स्त्री कष्ट आदि रोगों को करणों की जनक बनेगी। इसी प्रकार यह ढैया तुला के जातकों को अशांति, शरीर कष्ट, खराब संबंध आदि का दुख देगी। डॉ. मिश्रपुरी के अनुसार धनु, मकर और कुंभ पर आ रही साढेसती भी बहुत कष्टमय होगी। शेष राशियों पर इस परिवर्तन कर कोई नहीं पड़ेगा। शनि और सूर्य की युती 24 जनवरी से 14 फरवरी तक रहेगी। ऐसा होने से सत्ता संग्राम के संकेत मिलते हैं। यद्यपि शनि के मकर में आने से आर्थिक सुधारों का दौर शुरू हो जाएगा।

Leave A Comment