Breaking News:

पानी बचाने के लिए , 84 साल का ‘नौजवान’ लगा रहा जी-जान -

Monday, June 17, 2019

वर्ल्ड कप 2019 : जीत के बाद विराट ने की रोहित और कुलदीप की सराहना -

Monday, June 17, 2019

वर्ल्ड कप की जीत से खुशी से झूमे रणवीर सिंह -

Monday, June 17, 2019

कथक नृत्य ने लोगो का मोहा मन ….. -

Sunday, June 16, 2019

केदारनाथ त्रासदी के छह साल, बदली तस्वीर -

Sunday, June 16, 2019

अटल आयुष्मान का “सिस्टम” मरीजों पर भारीः जन संघर्ष मोर्चा -

Sunday, June 16, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने महाकुंभ तैयारियों की समीक्षा की -

Sunday, June 16, 2019

पिथौरागढ़ भ्रमण पर पंहुचे मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 16, 2019

युवा डाॅक्टर गावों में 4-5 वर्ष की सेवा जरूर देंः राज्यपाल -

Saturday, June 15, 2019

मानव संसाधन विकास मंत्री निशंक ने किये भोले बाबा के दर्शन -

Saturday, June 15, 2019

उत्तराखण्ड को इको सिस्टम सर्विसेज के बदले मिले प्रोत्साहन राशिः सीएम -

Saturday, June 15, 2019

गंगा की सहायक नदियों से संबंधित प्रस्ताव नमामि गंगे में हो स्वीकृत -

Saturday, June 15, 2019

नहीं दर्ज होंगे पत्रकारों पर सीधे मुकदमे : डीजीपी -

Saturday, June 15, 2019

फिल्म ‘दिल तेरे संग’ की शूटिंग देहरादून एवं मसूरी में -

Saturday, June 15, 2019

ब्रिज एवम मार्ग का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Friday, June 14, 2019

“ब्लड फ्रेंडस” से बड़ा कोई फ्रेंडस नही …. -

Friday, June 14, 2019

16 जून : केदारनाथ आपदा के 6 साल, जख्म आज भी हरे -

Friday, June 14, 2019

त्रिवेंद्र कैबिनेट के विस्तार की मांग पकड़ने लगी जोर….. -

Friday, June 14, 2019

15 जून से डीएवी पीजी कॉलेज में स्नातक प्रथम वर्ष के होंगे रजिस्ट्रेशन -

Friday, June 14, 2019

मेयर ने किया ‘वचन दियूॅं छौं’ वीडियो का विमोचन -

Friday, June 14, 2019

26 सालों से मंदिर की देखभाल कर रहे हैं मुसलमान

mandir

मुजफ्फरनगर | उत्तर प्रदेश की धरती हमेशा से गंगा-जमुनी तहजीब को बढ़ावा देती रही है। इसी तहजीब को आगे बढ़ाने का काम मुजफ्फरनगर के मुसलमानों ने एक मंदिर को बचाए रख कर किया है। 26 साल बाद भी इस मंदिर को यहां के मुसलमानों ने बचा रखा है और रोजाना इसकी साफ-सफाई भी करते हैं। मुजफ्फरनगर शहर में लड्डेवाला की ओर जाने वाली सड़क पर लगभग एक किलोमीटर आगे दो इमारतों के बीच एक मंदिर स्थित है, जिसे अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के बाद यहां रहने वाले हिंदू परिवार छोड़ गए थे। मुस्लिम बाहुल्य लड्डेवाला के निवासी 60 वर्षीय मेहरबान अली, अभी भी उन दिनों को याद करते हैं, जब यहां रहने वाले हिंदू परिवार सांप्रदायिक संघर्ष के बाद इस इलाके को छोड़ कर चले गए थे। मेहरबान कहते हैं, ‘जितेंद्र कुमार मेरे सबसे करीबी दोस्तों में से एक था, जो इस जगह को छोड़कर चला गया। तनाव के बावजूद मैंने उसे रोकने की बहुत कोशिश की, लेकिन फिर भी अन्य परिवारों के साथ कुछ दिन बाद वापस आने के वादे के साथ वह चला गया। तब से यहां के निवासी ही इस मंदिर का ख्याल रख रहे हैं।’ इस इलाके में लगभग 35 मुस्लिम परिवार रहते हैं, जिनमें से कई को अली की तरह ही अभी भी यह उम्मीद है कि उनके हिंदू पड़ोसी वापस लौटकर आएंगे। स्थानीय लोगों के अनुसार, 1990 के दशक में इस जगह पर लगभग 20 हिंदू परिवार रहते थे और मंदिर लगभग 1970 के आसपास बनाया गया था। एक अन्य स्थानीय जहीर अहमद ने कहा, ‘मंदिर की नियमित रूप से सफाई होती है और इसकी दीवारों की समय-समय पर पुताई भी की जाती है। हम चाहते हैं कि वे वापस आएं और मंदिर को संभालें।’ पूर्व नगरपालिका वार्ड सदस्य और स्थानीय नदीम खान ने कहा, ‘हर साल दिवाली से पहले यहां के लोग पैसे जमा करते हैं और इस मंदिर की रंगाई-पुताई करवाते है। वे हर दिन इसकी साफ-सफाई भी करते हैं।’ साथ ही इसे आवारा जानवरों और अवैध कब्जा करने वालों से भी बचा कर रखे हुए है |

Leave A Comment