Breaking News:

श्री विश्वनाथ मां जगदीशिला डोली के आयोजन स्थलों पर पौधारोपण होगा : नैथानी -

Friday, May 29, 2020

हरेला पर 16 जुलाई को वृहद स्तर पर पौधारोपण किया जाएगाः सीएम -

Friday, May 29, 2020

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन -

Friday, May 29, 2020

ज्योतिषी बेजन दारूवाला का निधन -

Friday, May 29, 2020

ब्लैकमेल : न्यूज़ पोर्टल संचालक हुआ गिरफ्तार -

Friday, May 29, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 716, आज सबसे अधिक 216 मरीज मिले -

Friday, May 29, 2020

उत्तराखंड : उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या हुई 602 , देहरादून में आज आये 54 नए मामले -

Friday, May 29, 2020

उत्तराखंड : दुकान खुलने का समय प्रातः 7 बजे से सांय 7 बजे तक हुआ -

Thursday, May 28, 2020

कोरोना कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीजों की संख्या पहुँची 500 -

Thursday, May 28, 2020

टीवी अभिनेत्री का सड़क हादसे में हुई मौत -

Thursday, May 28, 2020

बिहार की बेटी ज्योति के मुरीद हुए विदेशी भी, जानिए खबर -

Thursday, May 28, 2020

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना’’ का शुभारंभ हुआ -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 493 -

Thursday, May 28, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री राहत कोष में आज यह दिए दान, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

देहरादून से विशेष ट्रेन द्वारा हज़ारो मजदूर बिहार एंव उत्तर प्रदेश के लिए रवाना, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 469, आज 69 मरीज मिले कोरोना के -

Wednesday, May 27, 2020

ऋषिकेश-धरासू हाइवे पर 440 मीटर लंबी टनल हुई तैयार, सीएम त्रिवेंद्र ने जताया आभार -

Wednesday, May 27, 2020

कोरोना का कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीज हुए 438 -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

29 बार लड़े चुनाव, जीत मिली नही, राष्ट्रपति का चुनाव नहीं लड़ पाने का मलाल

chaman-lal

जिले के झसियापुरा निवासी चमन लाल बाबरा ग्राम प्रधान, नगरपालिका से लेकर विधानसभा और लोकसभा सहित कुल 29 बार चुनाव लड़े, लेकिन एक में भी उन्हें जीत नसीब नहीं हुई। हालांकि, खास बात ये है कि जिले के लोग इनकी भाषण के दीवाने थे। आलम ये था कि स्‍पीच सुनने के लिए लोग चंदा वसूलकर सभा करते थे। ऐसे में अभी भी इलाके में ‘भाषण वाले बाबरा’ के नाम से मशहूर हैं।ललितपुर लौटने के बाद उन्होंने यहां चुनाव लड़ना शुरू कर दिया। सबसे पहले उन्होंने नगर पालिका का चुनाव लड़ा। इसमें वह हार गए, लेकिन अच्छा भाषण देने वाले नेता के रूप में पहचाने जाने लगे। अपने गांव से ग्राम प्रधानी के चुनाव में वह 7 बार मैदान में उतरे, लेकिन हर बार हार मिली। इस बीच वह दूसरे बड़े चुनाव भी लड़ते रहे। उन्होंने 10 बार विधानसभा, 8 बार लोकसभा और 4 बार नगर पालिका का चुनाव भी लड़ा। वह हमेशा स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़े, किसी पार्टी से चुनाव के लिए टिकट नहीं मांगा। 2012 में 77 की उम्र में जब महरौनी विधानसभा चुनाव में पर्चा दाखिल किया तो वह इलाके के सबसे ज्यादा चुनाव लड़ने वाले व्यक्ति बन गए। चमनलाल बाबरा कहते हैं कि उन्हें हार का अफ़सोस नहीं है, क्‍योंकि उन्होंने कभी एक रुपया भी चुनाव खर्च नहीं किया।हालांकि, अब तक राष्ट्रपति का चुनाव नहीं लड़ पाने का मलाल है। वह राष्ट्रपति का चुनाव लड़ना चाहते हैं, लेकिन अब चुनाव महंगा हो गया है।

Leave A Comment