Breaking News:

जब पीएम मोदी ने रखी अरविन्द के कंधे पर हाथ … -

Monday, September 25, 2017

टेस्ट के बाद वनडे में भी नंबर 1 टीम बनी भारत -

Monday, September 25, 2017

पूरा जीवन पंडित दीनदयाल उपाध्याय का समाज सेवा के लिए रहा समर्पित : सीएम -

Monday, September 25, 2017

बाबा केदार व बदरीविशाल के राष्ट्रपति ने किए दर्शन -

Sunday, September 24, 2017

राजभवन परिसर में राष्ट्रपति ने लगाया चंदन का पौधा -

Sunday, September 24, 2017

समाधान पोर्टल के शिकायतों का समाधान कब… -

Sunday, September 24, 2017

नगर निगम में 67 गांवों को जोड़ने का हुआ विरोध -

Sunday, September 24, 2017

बादलो की गरज के साथ सरकार के खिलाफ गरजे ग्राम प्रधान -

Sunday, September 24, 2017

दो दिवसीय दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे उत्तराखंड -

Saturday, September 23, 2017

भारी बरसात के चलते छः लिंक मार्ग हुए बंद -

Saturday, September 23, 2017

सेना के जवानो ने चलाया स्वच्छता अभियान -

Saturday, September 23, 2017

फिल्म ‘गोलमाल अगेन’ एक बार फिर अगेन …. -

Saturday, September 23, 2017

हुंडाई गाडी 15 लोगों ने कराई एक साथ बुक -

Friday, September 22, 2017

“सरकार” ने 13 विभागों को पूर्व से सृजित विभागों में किया समायोजित -

Friday, September 22, 2017

बढ़ती महंगाई के खिलाफ “आप” का प्रदर्शन कार्यकर्ता -

Friday, September 22, 2017

बाल अधिकार संरक्षण आयोग के प्रति जन जागरूकता फैलाने की जरूरत -

Friday, September 22, 2017

विधानसभा अध्यक्ष ने किया रामलीला का उद्घाटन -

Friday, September 22, 2017

ज्ञान-दर्शन व सेवा भाव के प्रति समर्पित थे स्वामी दयानंद सरस्वतीः राज्यपाल -

Friday, September 22, 2017

केंद्रीय मंत्री विजय सांपला दिखेंगे रामलीला के मंच पर -

Thursday, September 21, 2017

पीएम को सोनिया गांधी ने महिला आरक्षण बिल को लेकर लिखी चिट्ठी -

Thursday, September 21, 2017

आप की कलह से धूमिल हुई वैकल्पिक राजनीति की उम्मीद

आप की कलहजो घटनाक्रम इन दिनों आम आदमी पार्टी में चल रहे है | यकीनी तौर पर वह उनका अंदरूनी मामला है और नैतिक रूप से हमे उस पर लिखने बोलने का हक भी नही बनता | पिछले कई दिनों से खुद को रोके हुए था ‘आप की कलह’ पर सम्पादकीय लिखने से | क्यूंकि उम्मीद ये थी कि आज नही तो कल “आप” के वरिष्ठ नेता आपस में बैठकर मामले का हल निकाल ही लेंगे | पर अब जब मिडिया में ये खबरे आने लगी है की योगेन्द्र यादव और प्रशांत भूषण आम आदमी पार्टी के अन्य असंतुष्ट नेताओ के साथ मिलकर एक नई पार्टी का गठन कर सकते है, तो यकीन मानिए बहुत बड़ा झटका लगा | झटका खाने का कारण भी है | यदि ऐसी कोई खबर किसी अन्य राजनितिक दल से आ रही होती तो हम लोग उसे एक सामन्य प्रक्रिया मानकर अधिक ध्यान भी नही देते | परन्तु अपने गठन से लेकर अब तक अपने अलग राजनितिक अंदाज के लिए पहचाने जाने वाले आप में ऐसा कलह हो जाएगा, कभी अनुमान भी नही लगाया था |

पढ़े – बहुत जल्द नई पार्टी बना सकते है योगेन्द्र-प्रशांत

 

विपक्ष को दिया मौका

विपक्ष‘आप’ ने जिन विपक्षी पार्टियों को विधानसभा चुनाव में पूरी तरह हाशिये पर धकेल दिया था | उन सभी को अब मौका मिल गया आप इस मामले की आड़ में हमलावर होने का | मैं पिछले कई दिनों से सोसल मिडिया पर देख रहा हूँ की किस तरह से आम आदमी पार्टी और अरविन्द केजरीवाल लगातार सोसल मिडिया द्वारा मजाक बनाये जा रहे है | विपक्षी दल भी अरविन्द को अहंकारी और तानाशाह होने के आरोप लगा रहे है | इस तरह जिस अहंकार की बात अरविन्द ने अपने शपथ ग्रहण में की थी आज वही आरोप उनपर भी लग रहे है | कांग्रेस-बीजेपी को उम्मीद है की यह मामला जितना लम्बा खींचेगा और आप की जितनी बदनामी होगी उतना ही उन्हें फायदा होगा | वह लोगो के बीच यह संदेश देने में सफल होंगे की अरविन्द केजरीवाल की कथनी और करनी में भारी अंतर है |

वैसे यदि देखा जाए तो तो इन सारी परिस्थितियों के  लिए जिम्मेदार भी स्वयं आप के नेता ही है, जिन्होंने कभी स्टिंग तो कभी ब्लॉग और चिट्ठी बम से एक दुसरे को नीचा दिखाने की कोई कोर कसर बाकि नही छोड़ी |

 

दिल्ली के बाहर आप का भविष्य

aap volenteersफिलहाल जिस हालत में आम आदमी पार्टी है, बहुत मुश्किल है की वह किसी अन्य राज्य में खड़ी भी हो पाए | क्यूंकि आम आदमी पार्टी अन्य पार्टियों की तरह कॉर्पोरेट घरानों से आने वाले चंदे और भाड़े पर लायी भीड़ से तो काम चला नही सकती | कुछ आदर्शवादी युवा वोलेंटियर्स के अतिरिक्त उसके पास वर्तमान में अपनी कोई पूंजी नही है | और आज की स्थिति में या तो यह वोलेंटियर दो गुटों में बंट गया है | या बिलकुल शिथिल पड़ गया है | इसलिए पंजाब में थोड़ी बहुत उम्मीद के अतिरिक्त आप को दिल्ली के बाहर पैर जमाने में ‘जमाना’ लग सकता है |

 

वैकल्पिक राजनीति के प्रयोग को लगा झटका

आम आदमी पार्टी की जीत से जन्हा एक और क्षेत्रीय पार्टियों को बल मिला था की वह भी मोदी की आंधी से टकरा सकते है | वंही दूसरी और कुछ ऐसे भी लोग थे जिन्हें अपने-अपने राज्यों में भी ऐसे प्रयोग करने का हौसला मिला था | इस कलह ने जन्हा एक और ‘आप’ की अपनी छवि को नुकसान पंहुचाया वंही वैकल्पिक राजनीति के भविष्य को भी धूमिल किया है | इस कलह ने देश में वैकल्पिक राजनीति को फिर से कई साल पीछे धकेल दिया है |

arvind

अब यदि अरविन्द केजरीवाल पांच साल तक दिल्ली को वैसा बना पाए जैसा की वह दावा करते है तो यकीनी तौर पर वैकल्पिक राजनीति की उम्मीद पाले लोगो के लिए यह भी एक जीत की तरह ही होगी | शायद इसीलिए केजरीवाल का पूरा ध्यान भी फिलहाल सिर्फ दिल्ली पर केन्द्रित है | बस अब आगे आगे देखते है दिल्ली में होता है क्या |

 

दीपक कोठियाल (मैनेजिंग एडिटर पहचान एक्सप्रेस)

Leave A Comment