Breaking News:

व्यंग्यः हर मानुष को पता चल गया है कि मीटू क्या है…. -

Wednesday, October 17, 2018

रामपाल समेत 15 दोषियों को उम्रकैद -

Tuesday, October 16, 2018

वित्त आयोग की बैठक में अहम निर्णय , जानिए खबर -

Tuesday, October 16, 2018

उत्तराखंड : राज्यपाल ने जरूरतमंद बच्चो एवं वृद्धजन के बीच बिताये समय -

Tuesday, October 16, 2018

दशहरा को लेकर डीएम व एसएसपी ने लिया व्यवस्थाओं का जायजा -

Tuesday, October 16, 2018

सिंधु, साइना डेनमार्क ओपन बैडमिंटन में भारतीय चुनौती संभालेंगी -

Tuesday, October 16, 2018

उत्तराखंड : निकाय चुनाव का मतदान 18 नवंबर को -

Monday, October 15, 2018

व्यंग्यः कितना दर्द दिया मीटू के टीटू ने…..! -

Monday, October 15, 2018

टिहरी गढ़वाल के बंगसील स्कूल में सफाई अभियान की अनोखी पहल -

Monday, October 15, 2018

गडकरी, एम्स डायरेक्टर समेत आठ लोगों के खिलाफ मातृसदन दर्ज कराएगा हत्या का मुकदमा -

Monday, October 15, 2018

साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव पहुंचे सहायता : राज्यपाल -

Monday, October 15, 2018

#MeToo: बॉलिवुड की अभिनेत्रियों ने आरोपियों के साथ काम करने से किया इंकार -

Monday, October 15, 2018

भारतीय टीम ने वेस्ट इंडीज को हराकर हासिल की शानदार जीत -

Monday, October 15, 2018

“मैड” के सपने को मिला नया नेतृत्व -

Sunday, October 14, 2018

देश के लिए डॉ.कलाम का अद्वितीय योगदान रहा : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, October 14, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण -

Sunday, October 14, 2018

रूपातंरण कार्यक्रम सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भीः राज्यपाल -

Sunday, October 14, 2018

केदारनाथ यात्रा : 7 लाख के पार पहुंची दर्शनार्थियों की संख्या -

Sunday, October 14, 2018

“उपहार” का निराश्रित बेटियों की शादी में सराहनीय प्रयास -

Sunday, October 14, 2018

अधिकारी एवं कर्मचारी पूरी निष्ठा व ईमानदारी से करे कार्य : सीएम -

Saturday, October 13, 2018

इंदिरा अम्मा कैंटीन अभियान जनता के लिए बनी संजीवनी

indiraamma

राज्य में इंदिरा अम्मा कैंटीन अभियान को जहाँ जनता खुले दिल से इसकी प्रशंसा कर रही है वही रावत सरकार के लिए एक बड़ी उपलब्धि बनती जा रही है | इन भोजनालयों के माध्यम से एक ओर जहां उत्तराखंड के पारम्परिक व्यंजनों को प्रोमोट किया जा रहा है वहीं इनके संचालन का दायित्व महिला स्वयं सहायता समूहों को देकर उनकी आर्थिक स्थिति को मजबूत किया जा रहा है। इंदिरा अम्मा भोजनालय की अधिक से अधिक कैंटीन स्थापित की जा रही है। अभी तक स्थापित सभी कैंटीनों द्वारा अच्छा प्रदर्शन किया गया है। इनके माध्यम से अल्प आय वालों को सस्ता…

Read More

चुनाव न समझ महापर्व समझे ….

election-uk

हम सभी अब सबसे बड़ा महापर्व मनाने की और है | यह पर्व न ही हिन्दू का है , न ही मुस्लिम का है और न ही सिख और ईसाई का है , यह पर्व सम्पूर्ण धर्म एवम् जाति का मिला हुआ समावेश है जिसको हम लोग बड़ी ही सादगी से मनाते है | तभी तो कहा गया है कि भारत की संस्कृति में विविधता में भी एकता है | हम सभी इस महापर्व की विवेचना करे तो तो इससे यही निष्कर्ष निकलता है कि हम कितने सच्चाई से इस महापर्व को मनाते है | हम जिस सौहार्द से ईद…

Read More

”अब फेंकना बंद करो खोजना शुरू करो”

AN-32

भैया लोग जिसको झंडा फहराना था फहरा लिये, जिसको भाषण जरूरत से अधिक देना था दे दिए , जिसको फेसबुक व्हाट्सअप पर स्वतंत्रता दिवस मनाना था मना लिये, अब तो २५ दिन होने को है पर अबतक भारतीय वायुसेना के मालवाहक विमान एएन-३२ के बारे में कोई सुराग नहीं मिला है, उसमें २९ लोग सवार थे। ये विमान २५.७.२०१६ को सुबह ८.३० बजे चेन्नई एयरपोर्ट से पोर्ट ब्लेयर जाने के लिए उड़ी थी । अब तो लगो आपलोग इस अभियान में…. , ये मीडिया वाले, राष्ट्रवादी, मंत्री-संत्री, बाबा-तांत्रिक, सब कहाँ सो गये है !!! कुम्भकरण के पताल का रास्ता खोजने…

Read More

क्या है लोकतंत्र ७० साल मे न लोक जान पाये न तंत्र….

Independence-Day

कल एक सरकारी स्कुल का 12-13 वर्ष का विद्यार्थी हाथ में तिरंगा झंडा लेकर जा रहा था, मैंने कौतूहलवश पूछा कि ये क्या है, उसने कहा ‘अंकल 15 अगस्त को मैं और मेरी छोटी बहन अपने टपरे पर झंडा वंदन करेंगे’ मैंने कहा “बेटा ये तो बहुत अच्छी बात है, एक बात और बताओ, लोकतंत्र का मतलब समझते हो…???”उसका जवाब सुनकर मेरे पैरोँ तले जमींन ही खसक गयी, पढ़िए उसका जवाब क्या था | “अंकल,15 अगस्त 47 को हमारा देश आजाद हुआ था,उसके बाद हमारे यहाँ लोकतंत्र आया, दादाजी बताते है की अंग्रेजो ने बहुत अत्याचार किये, लेकिन अंग्रेज़ो में…

Read More

मन व्यथित है, घृणा से भरा है ….

rape_minor

बुलंदशहर हाईवे पर हुई गैगरेप की घटना ने समाज के नैतिक पतन की पराकाष्ठ पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है !!!!आखिर इंसान किस स्तर तक गिर गया है !!क्या देश के ये कानून रोक पाएँगे बलात्कार जैसी घटनाएं ?? आखिर कितनी दामिनी और बनाएगा ये निच पशु समाज….सोच कर रूह काँप उठती है की क्या गुजरा होगा उस परिवार के साथ…एक पिता के सामने उसकी पत्नी और पुत्री के साथ रेप…घृणा हो रही है… थूकने को मन…थू थू थू थू…. सारे आरोपियों को बिच चौराहे पर बोटी-बोटी काट दिया जाए तो भी कम है….गैंगरेप की शिकार हुई नाबालिग बेटी के पिता…

Read More

शिक्षा का होता व्यापार, जनता है लाचार

एक ओर देश के प्रधानमंत्री जहां देश में बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान को चलाकर शिक्षा पर जोर दे रहे हैं। दूसरी ओर प्रदेश के मुख्यमंत्री निजी स्कूलों में भी गरीब बच्चों के दाखिले देने की बात कर रहे हैं, रि-एडमिशन बंद करने की बात कर रहे हैं । लेकिन इसके उलट इन स्कूलों में गरीब बच्चों के दाखिले तो दूर बल्कि अमीर लोगों को भी शिक्षा के मन्दिर के नाम पर खोली हुई इन दुकानों में अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए पसीने आ रहे हैं। आपको बता दें कि देश के अन्दर ऐसे दर्जनों स्कूल हैं जो सरकार के…

Read More

जागरूकता केवल दिवस पर ही क्यों ?

international-yoga-day

देश में जब भी जागरूकता रूपी दिवस मनाई जाती है उस दिवस पर जो भी जागरूकता का संदेश या कार्य संदेश होता है वह उसी दिन के लिए क्यों सिमट जाती है यह एक सोचनीय विषय है | वैसे तो देश में जागरूकता रूपी दिवस अधिकांशतः मानते है परन्तु हम बात करेंगे मुख्यतः अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस , विश्व नशा मुक्ति दिवस, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर | सबसे पहले अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण दिवस की बात करें तो देश में सरकारी और गैर सरकारी संगठन पौधे लगाने के साथ साथ पेड़ को न काटने रूपी संदेश और इस पर उस दिन अधिकाधिक संख्या…

Read More

अधिकारी , राजनीतिक दबाव और राजनेता

neta

देश में जिस तरह से राजनीतिक दबाव अपनी पैर पसार रही है यह देश के लिए अच्छा संकेत नहीं है | देश में लगभग सभी विभागों में राजनीतिक दबाव इतनी हावी होती जा रही है जिसका अंदाजा आने वाले समय में लगाना बहुत ही कठिन होगा | देश में राजनीतिक दबाव का सबसे बड़ा असर पुलिस विभाग में होता है | दबाव के रास्ते से देश के नेताओ द्वारा खुद ही सही गलत का निर्णय लेना कितना उचित है यह आप वर्तमान समय में देख ही रहे है | उच्च स्तर से लेकर निचले स्तर तक के अधिकारियों का अधिकारी…

Read More

पार्टी सदस्य बनाम सामाजिक सदस्य

rajya-sabha

हाल ही में देश में सम्पन्न हुए राज्य सभा चुनाव में बहुत कुछ देखने और सिखने को मिला | यहा देखने का अभिप्राय राजनीतिक पार्टियों का एक दूसरे को पटकनी देने के लिए किस हद तक जा सकते है उससे है वही सिखने का अभिप्राय पार्टियों द्वारा नेताओ को ही राज्य सभा भेजने से है | इसी होड़ में राज्यो की समस्या और मुद्दे एक डिब्बे में बन्द के बराबर है | क्यों न ऐसा हो लोक सभा का जिस तरह से अधिकाँश सदस्य राजनीतिक पार्टियों के सदस्य होते है इसी क्रम में राज्य सभा के अधिकतर सदस्य जमीन से…

Read More

खेल संगठनों में ना हो राजनीति का “फिक्स” खेल

khel

सम्पादक – अरुण कुमार यादव देश के हर क्षेत्र में नेताओ का प्रभुत्व बढ़ना किस हद तक सही है यहा हर क्षेत्र का मतलब खेल संगठन , कला संगठन से है | खेल संगठनो में क्रिकेट क्षेत्र की बात करे तो इस संगठन में अध्यक्ष पद पर मानो राजनीति दल से जुड़े नेताओ के लिए आरक्षित हो | क्रिकेट का सही ज्ञान तो दूर की बात क्रिकेट के सभी नियम तक मालुम नही होते है वह क्या एक अच्छे खिलाड़ियों के साथ इन्साफ दे सकते है जवाब नही का ही आएगा | प्रातिभा गुरु के चरण मागती है पर यहाँ…

Read More