Breaking News:

JIO : एक साल के लिए फ्री सर्विस -

Monday, January 22, 2018

नई ‘कुतुब मीनार’ कचरे से हुई तैयार, जानिए खबर -

Monday, January 22, 2018

उत्तराखंड राज्य को सांस्कृतिक दल का पुरस्कार -

Monday, January 22, 2018

समाज के लिए कार्य करना एक चुनौती,इस चुनौती को करें स्वीकार : मदन कौशिक -

Monday, January 22, 2018

समाजिक कार्य के योगदान पर समाजसेवी हुए सम्मानित -

Monday, January 22, 2018

पासपोर्ट बनवाने वालो के लिए आई यह खबर … -

Sunday, January 21, 2018

“आप” के समर्थन में विपक्ष हुआ एकजुट -

Sunday, January 21, 2018

ब्लाइंड क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता भारत -

Sunday, January 21, 2018

सुपर डांसर्स शो : दून क्लेमेनटाउन निवासी आकाश थापा को जरूरत वोट की -

Saturday, January 20, 2018

डीएम ईवा ने सुनीं जनसमस्याएं -

Saturday, January 20, 2018

आइडिया के अनलिमिटेड रिचार्ज पर पाएं 3300 रूपये का कैशबैक -

Saturday, January 20, 2018

फेसबुक माध्यम से बजट के लिए लोगों से मांगे सुझाव -

Saturday, January 20, 2018

दर – दर भटक रही है अपने बच्चे के साथ यह महिला, जानिए खबर -

Thursday, January 18, 2018

बिग बॉस के इस प्रतिभागी का चेहरा सर्जरी से हुआ खराब, जानिए है कौन -

Thursday, January 18, 2018

प्रदेश में भू कानून में परिवर्तन की मांग को लेकर “हम” का धरना -

Thursday, January 18, 2018

शासकीय योजनाओं का हो व्यापक प्रचार-प्रसार : डाॅ.पंकज कुमार पाण्डेय -

Thursday, January 18, 2018

केंद्रीय वित्तमंत्री के समक्ष सीएम ने रखी ग्रीन बोनस की मांग -

Thursday, January 18, 2018

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

समाज का असली चेहरा ….

pahal

  अरुण कुमार यादव – सम्पादक समाज में रह कर समाज के असहाय लोगो को मदद और सम्मान देने की परम्परा जिस तरह से विलुप्त हो रही है यह एक सोचने का विषय है | इस वाक्यांश को ऐसे ही नही बोल रहा हूँ क्यों की ऐसी सच्चाई जानने के लिए जब रात्रि के समय सड़को पर असहाय लोगो से मिलने निकला तो कहि न कहि समाज रूपी सच का पर्दा सामने आने लगा | इस सफर के बातचीत के दौरान समाज का असली चेहरा भी देखने को मिला | इस दौरान मुलाक़ात वृद्ध व्यक्ति शम्भु जी से हुई बातचीत…

Read More

राजनेताओ को कब दिखेगी जनता

rajneeti

देश की बात हो या देश के कुछ राज्यो की , कही न कही राजनेता जनता को दरकिनार कर अपने ऊपर राजनीतिक स्वार्थ को हावी करते आ रहे है | उदाहरण के तौर पर जिस तरह से अरुणांचल में राजनीतिक स्वार्थ वस तख्ता पलट हुआ इसमें भाजपा के साथ साथ कांग्रेस भी उतनी ही जिम्मेदार है | विधायको का बागी होना और बागियों को हाथ थामना यह सभी कहानी जनता को चिड़ाने के लिए काफी है | ऐसे ही वर्तमान समय में उत्तराखण्ड की स्थिति भी यही कहानी बयान कर रही है | यहा पर भी विधायको का बागी होना…

Read More

ना रखना कदम इस राह पर तुम …..

no

आज नशा समाज में जिस तरह से अपनी मुंह फैला रही है वह देश के युवा वर्ग के लिए घातक सावित हो रही है | विदित हो की देहरादून की एक संस्था द्वारा नशे को लेकर देहरादून शहर के स्कूल कालेजो के छात्र छात्राओ पर एक सर्वे किया गया | एक हफ्ते तक चले इस अभियान में एक चौकाने वाला तथ्य सामने आया जिसमे नशे को लेकर छात्र छात्राओ पर सर्वे के मुताविक 70% ऐसे छात्र छात्राएं होते है जो स्कूल के 9वीं और कालेजो के शुरूआती दौर में आने पर नशे रूपी जाल में फस जाते है | संस्था…

Read More

केजरीवाल पर स्याही , अंडे , जूते फेकने का सच

kejariwal

जिस तरह से कुछ वर्षो से केजरीवाल पर जूते,स्याही,अंडे के माध्यम से राजनीतिक का खेल खेला जा रहा है वह कितना कामयाब हुआ यह आप के सामने है | विरोधी पार्टिया देश की राजनीतिक क्षेत्र को इतना निचले स्तर पर ला देंगे इसकी कल्पना भी नही की जा सकती | जिस राज्य में भ्रष्टाचार रोक कर जारी बजट से भी कम बजट में ब्रिज का निर्माण किया गया हो उस राज्य के मुख्यमंत्री पर विपक्ष पार्टियों के इशारो पर स्याही फेका जाता है , जिस राज्य में पुराने पानी का बिल माफ करने के साथ साथ जहाँ तीस सालो तक…

Read More

राष्ट्रपति शासन बनाम सरकार शासन

plm

उत्तराखंड में जिस तरह से राजनितिक उथल -पुथल चला और अंत में मामला कोर्ट तक पहुंचा अब तारीख पर तारीख का खेल कोर्ट द्वारा चल रहा है | लेकिन जिस तरह से उत्तराखंड की जनता राष्ट्रपति शासन को लेकर संतुष्ट दिख रही है वह राजनेताओ के लिए हैरान करने वाली बात है यदि राष्ट्रपति शासन और सरकार शासन की तुलना किया जाय तो जिस तरह से सरकारों द्वारा फिजूल खर्ची दिख रही थी वह राष्ट्रपति शासन में नहीं के बराबर दिख रही है एवं साथ ही साथ बिना दबाव के अधिकारियों का का कार्य करना एक अच्छी प्रकाष्टता दिखाई दे…

Read More

जरा मदद का हाथ तो बढ़ाये …

apne-sapne- ngo

समय के साथ साथ समाज की इंसानियत रूपी सरोकार का अंत दिखता हुआ दिख रहा है | समाज का वर्तमान स्तर इतना नीचे गिर जाएगा ऐसा सोचा भी नही गया होगा | विदित को की कुछ समय से देहरादून की एनजीओ अपने सपने संस्था भूख ‘हर पेट में रोटी’ नामक अभियान शुरू किया है इस अभियान में संस्था उन असहाय लोगो को खाना खिलाती है जो सड़क पर भूखे ही सो जाते है | इसी अभियान के तहत समाज का वह रूप भी देखने को मिला जो समाज के प्रति सोचा नही जा सकता | इस अभियान के दौरान एनजीओ…

Read More

इस खेल में हार तो जनता रही है …

uk

उत्तराखण्ड में खीचतान राजनीति के माध्यम से विकास का रथ रुकना राज्य के लिए सही संकेत नही है | जिस तरह से नेता अपने स्वार्थ के चक्कर में सरकार को स्थिर करने में लगे हुए वह राज्य की जनता के लिए शुभ संकेत नही है | दूसरी तरफ उतना ही जिम्मेदार सरकार भी है जो विकास रूपी पक्षपात का अमलीजामा कही न कही अपने ऊपर समावेशित किये हुए है | इस राजनीति रूपी सहमात के खेल में उत्तराखण्ड की जनता ठगा महसूस करने लगी है | राज्य को विकास चाहिए वह तभी सम्भव है जब सरकार पाँच साल स्थिर रहे…

Read More

एक दिन नही पूरे 365 दिन मनाया जाए महिला दिवस

mahila-divas

पूरे विश्व में महिला दिवस मनाया जाना क्या इतना भर से पूरे विश्व की महिलाओं का हक और सम्मान दिया जा सकता है जिस तरह से अंतराष्ट्रीय महिला दिवस आने पर संगठन, राजनीतिक पार्टियां और बुद्धजीवी अपने विचार और कार्यक्रम के द्वारा महिलाओं को हक, सम्मान और सुरक्षा दिलाने की बात करते है या सम्मान दिया जाता है। वह आप (समाज) के नजरिये से कितना अचम्भीत है। क्या महिलाओं के हक और सुरक्षा के साथ-साथ सम्मान की बात केवल एक दिन होनी चाहिये आप का जवाब होगा नहीं, तो हम क्यों महिलाओं के हक, सम्मान और सुरक्षा की बात एक…

Read More

आरक्षण , आरक्षण और केवल आरक्षण …..

reservation

देश में युवाओ को अपनी प्रतिभा पर विश्वास नही के बराबर है इसीलिए वह जातिगत आरक्षण को अपनाने के लिए इतने निचले स्तर तक चले जाएंगे यह एक सोचने युक्त विषय है | इसके जिम्मेदार हम खुद है जो देश के जातिगत आरक्षण के सिस्टम को आइना न दिखा कर उसको हमेशा प्रोत्साहित करने का काम करते आ रहे है | देश में अभी आरक्षण पर कुछ समय पहले बहस का भी दौर आया था पर राजनीतिक स्वार्थ इस पर ऐसी हावी हुई की वह दोबारा यह बहस उठ न सकी | देश से आरक्षण को समाप्त करने की शक्ति…

Read More

एक साल केजरीवाल…..

arvind-kejariwal

भाजपा और काँग्रेस जैसे पार्टियो को हार से भी अधिक हार का स्वाद चखाने वाली आम आदमी पार्टी को पुरे एक साल हो गए है | इन एक साल में केजरीवाल सरकार की उपलब्धिया और कमिया जानने के लिए मीडिया जितनी उत्साहित है शायद देश की जनता भी अन्य राज्यो के काम काज की लेखा-जोखा साल पुरे होने पर उनकी भी कमिया और उपलब्धियां जानने को उत्साहित है | जिस तरह से मीडिया द्वारा केजरीवाल सरकार के हिट या फ्लाफ होने की खबरे और इस पर चर्चा का जो नगाड़ा बजा रही है क्या यह नगाड़ा अन्य राज्यो के साल…

Read More