Breaking News:

JIO : एक साल के लिए फ्री सर्विस -

Monday, January 22, 2018

नई ‘कुतुब मीनार’ कचरे से हुई तैयार, जानिए खबर -

Monday, January 22, 2018

उत्तराखंड राज्य को सांस्कृतिक दल का पुरस्कार -

Monday, January 22, 2018

समाज के लिए कार्य करना एक चुनौती,इस चुनौती को करें स्वीकार : मदन कौशिक -

Monday, January 22, 2018

समाजिक कार्य के योगदान पर समाजसेवी हुए सम्मानित -

Monday, January 22, 2018

पासपोर्ट बनवाने वालो के लिए आई यह खबर … -

Sunday, January 21, 2018

“आप” के समर्थन में विपक्ष हुआ एकजुट -

Sunday, January 21, 2018

ब्लाइंड क्रिकेट वर्ल्ड कप जीता भारत -

Sunday, January 21, 2018

सुपर डांसर्स शो : दून क्लेमेनटाउन निवासी आकाश थापा को जरूरत वोट की -

Saturday, January 20, 2018

डीएम ईवा ने सुनीं जनसमस्याएं -

Saturday, January 20, 2018

आइडिया के अनलिमिटेड रिचार्ज पर पाएं 3300 रूपये का कैशबैक -

Saturday, January 20, 2018

फेसबुक माध्यम से बजट के लिए लोगों से मांगे सुझाव -

Saturday, January 20, 2018

दर – दर भटक रही है अपने बच्चे के साथ यह महिला, जानिए खबर -

Thursday, January 18, 2018

बिग बॉस के इस प्रतिभागी का चेहरा सर्जरी से हुआ खराब, जानिए है कौन -

Thursday, January 18, 2018

प्रदेश में भू कानून में परिवर्तन की मांग को लेकर “हम” का धरना -

Thursday, January 18, 2018

शासकीय योजनाओं का हो व्यापक प्रचार-प्रसार : डाॅ.पंकज कुमार पाण्डेय -

Thursday, January 18, 2018

केंद्रीय वित्तमंत्री के समक्ष सीएम ने रखी ग्रीन बोनस की मांग -

Thursday, January 18, 2018

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

जनता ,चुनाव ,सांसद और संसद का स्थगित होना

Parliament-House

देश में चुनाव होने पर करोड़ो रूपये खर्च हो जाते है देश की जनता से वोट माँगने पर अप्रत्यक्ष रूप से उम्मीदवार लाखो रूपये खर्च करते है देश की जनता अपने सांसदो को चुन कर संसद में भेजती है जिससे उनके लिए जन सुविधाओ के साथ साथ अनेको योजनाओ और नए कानूनों का क्रियवान्त कर देश को विकसित देश की श्रेणी में ला सके | लेकिन हर पाँच साल नई उम्मीद अँधेरे में खोई नज़र आती है जिस तरह से संसद का काम काज प्रत्येक सत्र में प्रभावित होता है उससे जनता की उम्मीदे जवाब दे रही है | जनता…

Read More

खेल और खिलाड़ी बनाम सरकार और राजनेता

Olympic-Medals-Prev

(अरुण कुमार यादव – सम्पादक ) किसी भी देश की पहचान उसके खेल से होता है और साथ ही साथ उस देश के खिलाड़ियों से होता है | जिस तरह से हमारे देश में क्रिकेट खेल अन्य खेलो पर हावी है यह कही न कही अन्य खेलो और उस खिलाड़ियों के लिए सही दिशा नही है | क्रिकेट में जहाँ रूपयों की बरसात होती है वही अन्य खेलो की तो दूर की बात उनके खिलाड़ियों के लिए प्रायोजक तक नही मिलते है | सहायता पर रही सही कसर देश के राजनेता पूरी कर देते है | कुछ खिलाड़ी ऐसे भी…

Read More

देश में ठेकेदारी प्रथा हो समाप्त

Untouchability

अरुण कुमार यादव (संपादक) देश के विकास में सरकारी योजनाऐ उतना ही महत्व रखती है जितना गैर सरकारी योजनाए | लेकिन इन सरकारी योजनाओ पर ठेकेदारी प्रथा हावी होती हुई नज़र आ रही है ठेकेदारी प्रथा जितना हावी होगी भ्रष्टाचार उतना ही अपना मुँह बाये खड़ी रहेगी | देश की बड़ी बड़ी सरकारी योजनाओ को अमली जामा पहनाने में कितनी कमीशन बना हुआ रहता है यह किसी से छुपा नही रहता लेकिन छुपाना क्या अब तो खुलेआम मण्डी भाव की तरह बोली लगाई जाती है इस पद्धति पर देश के कुछ राजनेता इस पर सहमति जताते है तो कुछ अच्छे…

Read More

इसे कानून का लचीलापन कहे या भ्रष्ट सिस्टम की समझदारी

vyapam-ghotala

अरुण कुमार यादव (संपादक ) देश में लोगो पर कानून हावी है या नेता या भ्रष्ट सिस्टम इनका आकलन लगाना और आसान हो जाएगा यदि आसाराम का केस देखे या पत्रकारो को ज़िंदा जलाने का केस या व्यापम घोटाले का केस ये तीनो कानून के डर को दर्शाता है या नही आप खुद समझदार है | हालिया समय में कानून की बे-खौफ़ तस्वीर आप के सामने है इन्ही कड़ी में सबसे पहले आसाराम केस की बात करे तो इस केस में एक के बाद एक गवाहों की मौत | इसी तरह व्यापम के केस में एक के बाद एक मौत…

Read More

आर्थिक रूप में प्रतिभाए हो रही कमजोर

reality-shows-in-india

अरुण कुमार यादव (संपादक ) पहले के दशक में बच्चों पर पढ़ाई को लेकर जोर अधिक दिया जाता था उस दशक में पढ़ाई के अतरिक्त खेल ,गीत संगीत या कुछ अलग करने का हुनर तो था लेकिन वह हुनर कही न कही दब जाता था | पिछले दशक में भी लोग पढ़ाई के अलावा और क्षेत्रो में आगे आये है लेकिन आज के दौर में बच्चों के माता पिता पढ़ाई के साथ साथ उनके अलग प्रतिभा को गम्भीरता से आगे बढ़ने के लिए साथ देते है | वर्तमान समय में अनेक टी वी चैनलों द्वारा रियल्टी शो के माध्यम से देश की…

Read More

सही मायने में हो फर्जी डिग्रियों की जाँच

fake-deegri

  अरुण कुमार यादव देश में फर्जी डिग्री का अनुमान लगाना असंभव तो हो सकता पर देश के लिए उचित तभी होगा जब शीर्ष से लेकर छोटे पदों पर रहने वाले नौकरशाही और देश के हर मंत्री सांसद से लेकर प्रधान तक की डिग्री की जाँच हो | जिस तरह से दिल्ली के कानून मंत्री तोमर की डिग्री फर्जी निकली और साथ ही साथ देश की शिक्षा मंत्री पर फर्जी डिग्री का आरोप लग रहे है उससे तो यही प्रतीत होता है की ऐसे न जाने कितने नेताओ के डिग्री फर्जी हो सकते है |पुरे देश में ऐसे लोगो के…

Read More

ऐसा घोटाला , शर्म से सिर झुक जाए

अरुण कुमार यादव (संपादक) केदारनाथ में आपदा को आए हुए दो साल होने वाले है लेकिन आज भी सब कुछ ठीक ठाक नही चल रहा है | जिस तरह से केदारनाथ आपदा घोटाले का जीन बाहर आया है उससे तो यही प्रतीत होता है की इंसानियत की लौ अधिकारियो के दिल से बुझ चुकी है|घोटाले बहुत से हुए पर इंसानियत को झकझोर देने वाला केदारनाथ आपदा घोटाला देवभूमि के के लिए शर्म की बात है |जिस समय पूरे देश में लोगो की सहानभूति और मदद अपरम्पार थी उसी समय राज्य के अधिकारियो द्वारा घोटाले सेट करने में लगे हुए थे…

Read More

ईमानदार अधिकारियो का तबादले पर तबादला ,तबादले पर तबादला

IPS_TRIPTI_BHATT

अरुण कुमार यादव (संपादक) देश में जहाँ ईमानदार अधिकारियो द्वारा देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने में कोई कोर कसर नही छोड़ रही है वही इन अधिकारियो के कोर कसर को खत्म करने में राजनेता , हर क्षेत्र के माफिया कोई कसर नही छोड़ रहे है | कुछ राज्यो के अलावा बाकी सभी राज्यो में ईमानदार अधिकारियो की दशा और दिशा माफिया और राजनेताओ पर टिकीं हुई रहती है|चाहे उत्तर प्रदेश हो या हरियाणा या महाराष्ट् यह राज्य इन सूचियो में टॉप में आते है | इन्ही क्रम में ताजी घटना उत्तराखण्ड की भी है | देहरादून के विकासनगर में तैनात…

Read More

कुमार पर विश्वास पर मीडिया पर अविश्वास

kumar_vishwas

मशहूर कवि कुमार विश्वास पर जिस तरह से मीडिया के द्वारा प्रश्नो की बौछार पड़ रही है शायद ऐसे ही प्रश्नो की बौछार देश की तरक्क़ी के लिए होती तो कुछ तो सुकून होता | जितनी गंभीरता से मीडिया ऐसे समाचार को ब्रेकिंग बनाती है शायद कुछ ऐसे समाचारो को ब्रेकिंग बनाते जो बेईमानो की किला ध्वस्त करने में सहायक होती जो अमीर और गरीब के साथ साथ अमीरी और गरीबी के फासलों में अंतर ला सके जो कतार में सबसे अंतिम में खड़ा इंसान अपनी हक़ के लिए बाहे फैलाये हुए है उसको उसका हक दिल सके| मीडिया देश में…

Read More

सरकारी स्कूल, अध्यापक , और जिम्मेदारी

sarkari_school

सरकार सरकाई देती है सरकारी स्कूलो को मॉडल बनाने की की इच्छा सकती को| देश में कुछ सरकारी स्कूलो को छोड़ कर वह भी किसी प्राइवेट मदद के द्वारा बाकी स्कूलो की दशा आप के सामने है जो खुद अलग अलग तरीके से अपनी व्यथा पर शर्मिंदा है| जब सरकार उसी स्कूल की अध्यापक या अध्यापिका से स्कूल का बजट के प्रति रिपोर्ट तैयार कराना, मध्यान्तर भोजन की जिम्मेदारी, विजली पानी के बिल की जिम्मेदारी, देश में होने वाले चुनाव की भी जिम्मेदारी किसी भी सरकारी सर्वे के साथ साथ स्कूल की बॅलेन्स शीट की जिम्मेदारी तो कैसे होगी बच्चों…

Read More