Breaking News:

देवभूमि डायलॉग कार्यक्रम : सीएम ने समाज के लिए सराहनीय कार्य करने वालो को किया सम्मानित -

Friday, April 20, 2018

शीला रावत का अनिश्चित कालीन धरना जारी, जानिए खबर -

Friday, April 20, 2018

युवाओं को रोजगार से स्वरोजगार की ओर आना होगा आगे : सीएम -

Friday, April 20, 2018

युवा इंजीनियर भीख मांगते बच्चों का भविष्य बनाने के लिए कर रहा पदयात्रा, जानिए ख़बर -

Friday, April 20, 2018

2020 तक एक लाख युवाओं को कौशल विकास से जोड़कर रोजगार देने का लक्ष्य, जानिए ख़बर -

Friday, April 20, 2018

उत्तराखण्ड राज्य बेहतर फिल्म अनुकूल पर्यावरण के लिए विशेष उल्लेख पुरस्कार के लिए चयनित -

Thursday, April 19, 2018

सहारा समूह को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, अपनी पसंद की संपत्ति बेचने का मिला अधिकार -

Thursday, April 19, 2018

सुप्रीम कोर्ट ने जज लोया की मौत से जुड़ी जांच याचिकाएं खारिज की -

Thursday, April 19, 2018

जब तक प्रधानमंत्री मेरी मांगें नहीं मानेंगे, मैं अनशन नहीं तोड़ूंगी: स्वाति -

Thursday, April 19, 2018

थाईलैण्ड यात्रा से राज्य में निवेश वृद्धि प्रबल : सीएम -

Thursday, April 19, 2018

भारत की ‘‘लुक ईस्ट’’ और थाईलैण्ड की ‘‘लुक वेस्ट’’ नीति एक दूसरे की पूरक : सीएम -

Wednesday, April 18, 2018

चारधाम यात्रा शुरू, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट खुले -

Wednesday, April 18, 2018

“इण्डिया स्किल उत्तराखण्ड” पहुँचा ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी, जानिए ख़बर -

Wednesday, April 18, 2018

प्रधानमंत्री मोदी मिले ब्रिटेन की पीएम से -

Wednesday, April 18, 2018

आप के राघव चड्ढा ने 2.5 रुपये मेहनताना गृह मंत्रालय को लौटाया -

Wednesday, April 18, 2018

BCCI भी आएगी RTI के दायरे में , लाॅ कमीशन ने की सिफारिश -

Wednesday, April 18, 2018

देवभूमि डायलॉग : 20 अप्रैल को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र युवाओं से करेंगे सीधा संवाद -

Wednesday, April 18, 2018

दिल्ली गैंगरेपः 20 लाख में माता-पिता ने किया आरोपियों से सौदा -

Tuesday, April 17, 2018

आसाराम केस : जेल में ही सुनाया जाएगा हाईकोर्ट का फैसला -

Tuesday, April 17, 2018

बैंकाॅक में सीएम त्रिवेंद्र ने उत्तराखंड राज्य को दिलाई एक नई पहचान -

Tuesday, April 17, 2018

किसान गजेन्द्र की मौत पर राजनेता राजनीति और मीडिया टीआरपी में लगी

ajab gajab

  किसान पर राजनीति करना देश के लिए तो ठीक है पर किसान की मौत पर राजनीति करना देश के लिए शर्म की बात है|जिस तरह से किसान के फसलों को नुकसान प्रकृति द्वारा पहुचा है उसकी भरपाई सरकार जिस तरह कर रही वह शर्मनाक और अशोभनीय है |मीडिया गजेन्द्र जैसे न जाने कितनो किसानो की ख़बर दबाये बैठी है जो आप के रैली में आत्महत्या करने वाले किसान गजेन्द्र की ख़बर को आप के सहारे टीआरपी बढ़ाने में लगी हुई है|प्रश्न यह बार बार मन में आ रहा है क्या आम आदमी पार्टी के रैली से पहले या उसके…

Read More

धरती का सीना छलनी करके आखिर क्या मिला

EarthDay

आज 45वां पृथ्वी दिवस यानि 22 अप्रैल का दिन है, विश्व के 192 देश पृथ्वी के प्रति आज अपना चिंतन ब्यक्त करेंगे… जीवन दायनी पृथ्वी पर हो रहे उथल पुथल के लिए हमें तय करना होगा हम जिस प्रकार का जीवनयापन कर रहे हैं, क्या उससे आने वाली पीढियां हमें माफ़ कर पायेंगी? विश्व की जनसँख्या आज 7 अरब के पार पहुँच चुकी है, अकेले भारत पर गौर करें तो 68 वर्ष पूर्व जब भारत आजाद हुवा था तब भारत की जनसँख्या मात्र 30 करोड़ थी जो आज बढ़ कर 130 करोड़ हो चुकी है और ये सरकारी आंकड़ा है…

Read More

निजी स्कूलों पर हिंसा के द्वारा मनमानी रोकना उचित नहीं

school_chale_ham

निजी स्कूलों की मनमानी पर आंदोलन और धरना सरकार के दबाव के लिए एक रास्ता दिखता है पर जिस तरह से निजी स्कूलों पर छात्र संगठन अपनी मनमानी कर रहे है वह कितना उचित है | निजी स्कूलों द्वारा फ़ीस कम करने के लिए स्कूलों पर हिंसक व्यवहार करना क्या उचित है, जिस तरह से स्कूल कालेज मनमानी फ़ीस उसूल रहे है उसको सही ठहराया नहीं जा सकता है परन्तु जब कोई संगठन हिंसक आचरण करता है तो उसको भी सही नहीं ठहराया जा सकता है |स्कूलों की फ़ीस रूपी मनमानी को रोकना अति आवश्यक है पर स्कूलों में तोड़…

Read More

निजी स्कूलो की मनमानी कब तक ?

school_chale_ham

उत्तराखण्ड राज्य बनने से अब तक विकास का पहिया जिस भी रफ़्तार से हो पर देहरादून में शिक्षा को लेकर पुरे देश में अपनी एक अलग पहचान बनी है|उत्तर प्रदेश राज्य से अलग होने के बाद उत्तराखण्ड राज्य की जनता का सपना था की आम लोगो से जुडी सभी समस्या का समाधान आसानीपूर्वक हल हो सकेंगे लेकिन जिस प्रकार से निजी स्कूलो द्वारा अविभावकों की जेब पर प्रहार कर रहे है ऐसा उम्मीद को न थी| एक बार फ़िर देहरादून की अनेक संगठनो की एक जुटता से निजी स्कूली की फीस को लेकर उनकी मनमानी को रोकने के लिए सरकार…

Read More

श्री अमरनाथ जी यात्रा – आस्‍था का प्रतीक

जम्‍मू-कश्‍मीर में श्री अमरनाथ जी की पवित्र यात्रा हिन्‍दू तीर्थ यात्रियों की आस्‍था का प्रतीक है। यह यात्रा हर वर्ष सावन के महीने में शुरू होती है। देश के विभिन्‍न भागों से आए लाखों श्रद्धालु दक्षिण कश्‍मीर स्‍थित श्री अमरनाथ जी की गुफा में प्राकृतिक रूप से बर्फ से बने शिवलिंग की अराधना करते हैं। इस यात्रा का काफी महत्‍व है इसलिए यह जरूरी है कि प्रत्‍येक श्रद्धालु को यात्रा के इतिहास के बारे में सतही जानकारी हो। यात्रा के दौरान बालटाल और पहलगाम के रास्‍ते पवित्र गुफा तक जाने वाले मार्ग पर स्‍थित विभिन्‍न धार्मिक स्‍थलों की जानकारी लेना…

Read More

परम्परागत मीडिया के एकाधिकार को चुनौती देगा सोशल मीडिया

* राजीव रंजन नाग   प्राचीन काल से ही सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए कई अनेक रोचक एवं अनोखे तरीके अपनाए जाते रहे हैं। आज वह एक कहानी की तरह लगती है। बीते दशकों में संचार टेक्नोलॉजी में आए चमत्कारिक परिवर्तन का सर्वाधिक फायदा सूचना जगत को हुआ है और मीडिया की इस पर निर्भरता बढ़ गई है। स्कॉटलैण्ड के अलेक्जेंडर ग्राहम बेल ने 1876 मे ‘टेलीफ़ोन’ का आविष्कार किया तो इसे मानव के प्रगतिशील विकास की राह में यह एक क्रांतिकारी कदम माना गया। तकनीकी विकास के कारण आज दुनिया मुट्ठी में समा गई है। चीन और अमेरिका के बाद भारत दुनिया का सबसे…

Read More

Epic Tv Channel- सिर्फ नाम नही , चैनल भी दुसरो से हटकर

वैसे तो आज कल रोज़ ही कोई ना कोई नया चैनल लोंच होने की खबर आती रहती है | आप और हम भी इन चैनलों की भीड़ से परेशान होने लगे है | क्यूंकि लगभग सभी चैनल्स उन्ही घिसी-पिटी परिपाटियो पर चल रहे | धारावाहिकों में हो रही वही एक दुसरे के विरुद्ध साज़िशे, वही सास-बहु सिरीयल | कभी कभी अलग-अलग चैनलों पर प्रसारित ऐसे धारावाहिकों को देखकर लगता है | आखिर इन्हें अलग चैनल बनाने की जरूरत ही क्यों पड़ी, जब दिखाना वही सब था | पर अब हम दर्शको के लिए एक नया चैनल आया है एपिक (EPIC)…

Read More

ताकि… ईमानदार अधिकारियो में ईमानदारी की लौ जलती रहे

ashok_ khemka

ईमानदारी शब्द राजनीति क्षेत्र के साथ साथ सरकारी विभाग में शून्य के बराबर दिखता है| देश की राजनीति और राजनेता देश के विकास में अहम् योगदान रहता है परन्तु दुर्भाग्य है जिस देश में लाल बहादुर शास्त्री,सरदार बल्लभ भाई पटेल, इन्दिरा गांधी,अटल विहारी बाजपेई जैसे राजनेता हुए उसी देश में अब की राजनीति और राजनेता पहले की राजनीति और राजनेता से इतने भिन्न लगते है जिसकी कल्पना आज की युवा पीढ़ी नहीं की थी| इन सबका तात्यपर्य आज के राजनेता जिस तरह से ईमानदार आधिकारियो का तबादला कर रहे उससे देश और देश के अधिकारियो में क्या सन्देश देना चाहते…

Read More

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना- युवा सशक्‍तिकरण की नई दिशा

किसी भी देश के आर्थिक और सामाजिक विकास के लिए कौशल और ज्ञान दो प्रेरक बल हैं। वर्तमान वैश्‍विक माहौल में उभरती अर्थव्‍यवस्‍थाओं की मुख्‍य चुनौती से निपटने में वे देश आगे हैं जिन्‍होंने कौशल का उच्‍च स्‍तर प्राप्‍त कर लिया है। किसी भी देश में कौशल विकास कार्यक्रम के लिए मुख्‍य रूप से युवाओं पर ही जोर होता है। इस मामले में हमारा देश अच्‍छी स्‍थिति में है। जनसंख्‍या का एक बड़ा हिस्‍सा उत्‍पादक आयु समूह में है। यह भारत को सुनहरा अवसर प्रदान करता है, परंतु एक बड़ी चुनौती भी पेश करता है। हमारी अर्थव्‍यवस्‍था को इसका लाभ…

Read More

सरकारी विद्यालयों की दुर्दशा के लिए दोषी कौन ?

हम सबके घरो के आस-पास कोई न कोई सरकारी विद्यालय या प्राइमरी विद्यालय तो होगा ही, परन्तु शायद ही मतदान करने के लिए मतदान दिवस के सिवा हम सबने उसकी तरफ देखा होगा, क्लेमेंट टाउन क्षेत्र में करीबन 15 से ज्यादा सरकारी विद्यालय अथवा प्राथमिक विद्यालय है, लेकिन इन सबकी हालत देख कर लगता है, कि सरकार ने कोई योजना ही ना बनाई हो, सरकारी विद्यालयों के लिए | लेकिन गूगल करने पर पता चला, की सर्व शिक्षा अभियान, मिड डे मिल, शिक्षा का अधिकार जैसी योजनाओं पर हजारो करोड़ रु. खर्च हो चुका है, और ऐसा नही है कि…

Read More