Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

सरकारी विद्यालयों की दुर्दशा के लिए दोषी कौन ?

हम सबके घरो के आस-पास कोई न कोई सरकारी विद्यालय या प्राइमरी विद्यालय तो होगा ही, परन्तु शायद ही मतदान करने के लिए मतदान दिवस के सिवा हम सबने उसकी तरफ देखा होगा, क्लेमेंट टाउन क्षेत्र में करीबन 15 से ज्यादा सरकारी विद्यालय अथवा प्राथमिक विद्यालय है, लेकिन इन सबकी हालत देख कर लगता है, कि सरकार ने कोई योजना ही ना बनाई हो, सरकारी विद्यालयों के लिए | लेकिन गूगल करने पर पता चला, की सर्व शिक्षा अभियान, मिड डे मिल, शिक्षा का अधिकार जैसी योजनाओं पर हजारो करोड़ रु. खर्च हो चुका है, और ऐसा नही है कि…

Read More

आप की कलह से धूमिल हुई वैकल्पिक राजनीति की उम्मीद

जो घटनाक्रम इन दिनों आम आदमी पार्टी में चल रहे है | यकीनी तौर पर वह उनका अंदरूनी मामला है और नैतिक रूप से हमे उस पर लिखने बोलने का हक भी नही बनता | पिछले कई दिनों से खुद को रोके हुए था ‘आप की कलह’ पर सम्पादकीय लिखने से | क्यूंकि उम्मीद ये थी कि आज नही तो कल “आप” के वरिष्ठ नेता आपस में बैठकर मामले का हल निकाल ही लेंगे | पर अब जब मिडिया में ये खबरे आने लगी है की योगेन्द्र यादव और प्रशांत भूषण आम आदमी पार्टी के अन्य असंतुष्ट नेताओ के साथ…

Read More

नदी या नाला (देहरादून की नदियों की व्यथा कथा)

इस बार की व्यथा कथा में है, देहरादून की नदियों की कहानी पहचान एक्सप्रेस के स्थानीय ब्यूरो  चद्रशेखर की जबानी रिस्पना, बिंदाल, सोंग, टोंस, इन सबके पीछे नदी शब्द का प्रयोग करना भी बड़ा अटपटा लगने लगा है, जब भी आप और मैं इसके आस-पास से निकलते होंगे, तो हर बार इसे एक गंदे नाले की तरह ही देखते है | अज किसी 80 के धसक के बाद के जन्मे उत्तराखंड वासी को पूछे, और बोले की ये तीन कभी देहरादून के एक बड़े हिस्से को जलापूर्ति करते थे, और इनका पानी पूरी तरह साफ़ था, तो आपको अपनी बात…

Read More

शहरो की रेडीमेड शादिया और गाँवो की पर्मानेंट

city-vs-village

हमारे देश में जहा एक ओर शादी का वातावरण और रस्म पुराने समय के जैसा उसी तरह महक बिखेरी हुई है वहीँ दूसरी तरफ शादी का रस्म और वातावरण केवल खानापूर्ति रह गया है.देश के गाँव वहीँ छोर है जहां शादी का रस्म और वातावरण दोनों को आज के समय में बाधे हुए है.वहीँ दूसरा छोर शहर है जो शादी के इन रस्मो को रेडीमेड बनाते जा रहे है.गाँव में शादी के समय में जिस घर में शादी का माहोल होता है वह शहर के लिए सिखने के बराबर है.जहां शादी के समय में घर का हर रिश्तेदार एक साथ…

Read More

भू – अध्यादेश,किसान और भारत सरकार

farmer-in india

भूमि अध्यादेश किसानो के लिए एक ऐसा जंजाल है जो सही और गलत का निर्णय भी उनके लिए बेईमानी लगती है.देश में अनेक किसान ऐसे है जिनका सब कुछ लेदेकार केवल उनकी जमीन ही पूँजी सरीक है.यही किसान अपनी जमीन को बेचने या देश के विकास के लिए जमीन को देने में नही हिचकता परंतु किसान अपनी जमीन का सही हक चाहता है.इनसब पर गौर किया जाय तो किसानो की पूँजी ही उनकी एक मात्र जीवन का दर्पण है उनकी भूमि.मोदी सरकार द्वारा भू अध्यादेश तो आया लेकिन किसानो के लिए कितना हितकर होगा ये तो दूर की बात है पर उससे…

Read More

स्वच्छ्ता अभियान का आइकॉन समझे या देश का दुर्भाग्य

desh ka bhavisy kaha ja raha

कूड़े बीनने वाले बच्चो को स्वच्छता अभियान का आइकॉन समझा जाय या देश का दुर्भाग्य समझा जाय . जिस तरह भारत सरकार अलग अलग अभियान प्रचार प्रसार के माध्यम से लोगो के बीच पहुचाती है ठीक उसी तरह ऐसे बच्चो के लिए अभियान क्यों नहीं देश की तरकी तभी होगी जब देश के भविष्य यानी बच्चो का भविष्य उज्जवल किया जाए . भारत सरकार और प्रदेश सरकार मिल कर इसके प्रति अभियान चलाये जिससे ऐसे बच्चो के भविष्य के साथ साथ उनके परिवार का भी भविष्य बनाया जा सके . ऐसे एक बच्चे का भविष्य सुधरना मतलब उनके पुरे परिवार…

Read More

आतंकवाद, इस्लाम और मासूम युवा

hamla

पूरे विश्‍व के लिये आतंकवाद एक ऐसी समस्या है जो ज़ड़ से जब तक समाप्त नहीं होगा एसे ही समाज के लिये शैतान के रूप मे बनी रहेगी.लगभग पूरा देश आतंकवाद से जुझ रहा है . आतंकी हमले की बात करे तो हाल ही में पाकिस्तान के पेशावर के एक स्कूल में आतंकियों ने जिस तरह से मासूमो पर आतंक फैलाया इसके बाद फ्रांस में एक साप्ताहिक पत्रिका के दफ्तर पर हमला कर आतंकियों ने दस पत्रकारों को मारा इतना ही नहीं अमेरिका से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक आतंकियों का आतंक बना हुआ है . जितने आतंकी संगठन है वे मासूम…

Read More