Breaking News:

’संपर्क फ़ॉर समर्थन’ अभियान की तरफ कदम दर कदम, जानिये खबर -

Sunday, June 24, 2018

जुलाई में उत्तराखण्ड में दस्तक देगा मानसून -

Sunday, June 24, 2018

पर्वतीय क्षेत्र में एनसीसी मुख्यालय एवं एकेडमी के लिए जगह होगी उपलब्ध -

Sunday, June 24, 2018

उदय शंकर नाट्य अकादमी में कलाकारों ने दी सांस्कृतिक प्रस्तुतियां -

Sunday, June 24, 2018

पौधारोपण के क्षेत्र में मैती आंदोलन के प्रयास सराहनीय : सीएम त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 24, 2018

उत्तराखण्ड में शूटिंग करना मेरा सौभाग्य : मधुरिमा तुली -

Sunday, June 24, 2018

महाराष्ट्र व उत्तराखण्ड के सूचना विभाग ने साझा किये अपने अपने अनुभव -

Sunday, June 24, 2018

अनुसूचित जाति व जनजाति में उद्यमशीलता को बढ़ावा देने पर फोकस : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, June 23, 2018

‘‘ओक तसर विकास परियोजना’’ का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारम्भ -

Saturday, June 23, 2018

चैलाई के प्रसाद के रूप में तीन गुना मिल रहा फायदा, जानिए ख़बर -

Saturday, June 23, 2018

अमित शाह 24 जून को दून दौरे पर, जानिए ख़बर -

Saturday, June 23, 2018

औद्योगिक विकास योजना को लेकर कार्यशाला का आयोजन, जानिए ख़बर -

Saturday, June 23, 2018

साहसिक पर्यटन गतिविधियों पर रोक के फैसले का अध्ययन किया जा रहा : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Friday, June 22, 2018

हाईकोर्ट ने गंगा में राफ्टिंग सहित सभी वॉटर स्पोर्ट्स पर लगया बैन जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

सीएम ने की अनेक विभागो के कार्यो की जनपदवार समीक्षा , जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

पति ने पत्नी को पीटने की मांगी इजाजत जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

देश की रक्षा के लिए उत्तराखंड का एक और लाल शहीद -

Friday, June 22, 2018

फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ का पहला पोस्टर रिलीज़ -

Friday, June 22, 2018

जम्मू कश्मीर में एनएसजी कमांडो तैनात, करेंगे आतंकियों का सफाया -

Friday, June 22, 2018

यात्रियों को विमान से उतारने के लिए AC किया तेज़, जानिए ख़बर -

Friday, June 22, 2018

ज्योति चाहर ने ब्लॉगिंग से जीती दुनिया

jyoti-pic

यह सत्य है जहां चाह वहां राह और इसको सच किया है ज्योति चाहर ने | बेहद बुरे वक्त में भी हिम्मत नहीं हारी और अपने पैशन को ही प्रोफेशन बना लिया अगर आप वाकई कुछ कर गुज़रना चाहते हैं तो आपके लिए रास्ते अपने आप बनते चले जाते हैं. ऐसा ही कुछ हुआ ज्योति चाहर के साथ, ज्योति चाहर का परिवार 90 के दशक में हरियाणा के एक छोटे से गांव से आकर दिल्ली के नज़फगढ़ इलाके में बस गया. यह वह दौर था जब उनके यहां बेहद कम उम्र में ही लड़कियों की शादी कर दी जाती थी….

Read More

वेलेंटाइन डे पर दिल दान करने का संकल्प लिया राकेश रंजन

rakesh ranjan

कतरास | राकेश रंजन ने मोहन फाउंडेशान के प्लेज योर हार्ट अभियान में शामिल होकर ये संकल्प लिया । दिल के साथ उन्होंने आँख, लीवर, किडनी, लंग्स भी दान करने का फैसला लिया । समाजिक कुरूतियों के खिलाफ लड़ने वाले जागो संस्था के प्रमुख किसी पहचान के मोहताज़ नहीं । समाजिक कार्यो से अपनी पहचान बनाने वाले राकेश अब तक करीब 50 बार से अधिक बार रक्तदान भी कर चुकें हैं । राकेश बताते हैं की 18 वर्ष की आयु से ही रक्तदान कर रहें हैं । उनका रक्तग्रुप A- नेगेटीव होने के कारण जिले से बाहर भी रक्तदान करने…

Read More

मुसीबत की भवि‍ष्यवाणी करता है तुलसी का पौधा

ap

आपके घर, परिवार या आप पर कोई मुसीबत आने वाली होती है तो उसका असर सबसे पहले आपके घर में स्थित तुलसी के पौधे पर होता है. तुलसी का पौधा ऐसा है जो आपको पहले ही बता देगा कि आप पर या आपके घर परिवार को किसी मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है. पुराणों और शास्त्रों के अनुसार माना जाए तो ऐसा इसलिए होता है कि जिस घर पर मुसीबत आने वाली होती है उस घर से सबसे पहले लक्ष्मी यानी तुलसी चली जाती है. दरिद्रता, अशांति और क्लेश के बीच लक्ष्मी जी का निवास नहीं होता. ज्योतिष में…

Read More

यहां पर मौजूद है संजीवनी बूटी पहाड़

sanjeevini

रामायण में संजीवनी बूटी लक्ष्मण के प्राण वापस लाने और हनुमान के संजीवनी पर्वत को पूरा उठा लाने वाला प्रसंग सभी जानते हैं. वैध सुषेण ने संजीवनी को चमकीली आभा और विचित्र गंध वाली बूटी बताया है. संजीवनी पर्वत आज भी श्रीलंका में मौजूद है. माना जाता है कि हनुमानजी ने इस पहाड़ को टुकडे़ करके इस क्षेत्र विशेष में डाल दिया था. यह चर्चित पहाड़ श्रीलंका के पास रूमास्सला पर्वत के नाम से जाना जाता है. श्रीलंका की खूबसूरत जगहों में से एक उनावटाना बीच इसी पर्वत के पास है. श्रीलंका के दक्षिण समुद्री किनारे पर कई ऐसी जगहें…

Read More

कुल्हड़ में गोबर से बिजली किया पैदा

गोबर गैस प्लांट से बिजली बनाना तो सबको मालूम है. लेकिन कुल्हड़ में गोबर से बिजली पैदा करने का अनोखा प्रयोग हो रहा है, बाराबंकी जिले के एक गॉव में. यह गाँव है पूरेझाम तिवारी जो सुलतानपुर रोड पर हैदरगढ़ कस्बे से पाँच किलोमीटर की दूरी पर है. यह प्रयोग शुरू किया है एक युवा किसान ब्रजेश त्रिपाठी ने, जिनकी शैक्षिक योग्यता ‘इंटर पास, बीए इनकम्पलीट (यानी अधूरा) है.’ ग्राम पूरेझाम के खेतों से बिजली की बड़ी लाइन गुजरती है. गाँव में बिजली देने के लिए कुछ साल पहले खंभे भी गड़ गए थे. लेकिन न तार खिंचे, न बिजली…

Read More

अपने सपने संस्था ने मनीषा को “साहस” नामक पुरस्कार से किया सम्मानित

apne-sapne

आज अपने सपने संस्था सुभाषनगर स्थित अपने प्रांगण में राष्ट्रीय बालिका दिवस पर ‘साहस ‘ नामक कार्यक्रम का आयोजन किया गया | आयोजित कार्यक्रम में अपने सपने संस्था के सदस्यों द्वारा संस्था की बालिकाओ को शिक्षा के साथ साथ अन्य क्षेत्रो में कुछ ऐसा कर गुजरने का पाठ पढ़ाया गया जिससे समाज में लड़कियो के प्रति यह शब्द गूँजे “अगले जन्म मोहे बिटिया ही कीजो ” | कार्यक्रम में संस्था के प्रोजेक्ट प्रबन्धक अभिजीत सावन ने कहा की लड़कियो के प्रति समाज को अपनी सोच बदलनी होगी तभी एक अच्छे समाज का निर्माण हो सकता है वही संस्था सचिव विकास…

Read More

दिल्ली के नमन और देहरादून के सुमित समेत 25 बच्चो को मिला वीरता सम्मान

kids

नरेंद्र मोदी आज बच्चों राष्ट्रीय बाल वीरता सम्मान दिया | सम्मान पाने वालों में 13 लड़के और 12 लड़कियां हैं। 4 बच्चों को मरणोपरांत ये पुरस्कार दिया गया। जहां नमन 7 साल के बच्चे को बचाने के लिए 12 फीट गहरे पानी में कूद गए वही सुमित ममगई भाई को बचाने के लिए तेंदुए से भिड़ गया | अमन दिल्ली के पीतमपुरा में रहते हैं। क्या हुआ था उस दिन: घटना हरियाणा के सोनीपत की है। नमन अपनी रिश्तेदारी में गया हुआ था। नमन के मुताबिक, ” उस दिन काफी गर्मी थी मैं अपने भाई के साथ नहर में नहाने…

Read More

29 बार लड़े चुनाव, जीत मिली नही, राष्ट्रपति का चुनाव नहीं लड़ पाने का मलाल

chaman-lal

जिले के झसियापुरा निवासी चमन लाल बाबरा ग्राम प्रधान, नगरपालिका से लेकर विधानसभा और लोकसभा सहित कुल 29 बार चुनाव लड़े, लेकिन एक में भी उन्हें जीत नसीब नहीं हुई। हालांकि, खास बात ये है कि जिले के लोग इनकी भाषण के दीवाने थे। आलम ये था कि स्‍पीच सुनने के लिए लोग चंदा वसूलकर सभा करते थे। ऐसे में अभी भी इलाके में ‘भाषण वाले बाबरा’ के नाम से मशहूर हैं।ललितपुर लौटने के बाद उन्होंने यहां चुनाव लड़ना शुरू कर दिया। सबसे पहले उन्होंने नगर पालिका का चुनाव लड़ा। इसमें वह हार गए, लेकिन अच्छा भाषण देने वाले नेता…

Read More

आज भी यह विधायक करती है खेती-किसानी

pehchan

विधायक देवती कर्मा जनप्रतिनिधि होने के साथ-साथ कृषक और घरेलू महिला हैं। जनसमस्या को सड़क से सदन तक पहुंचाने के साथ ही वह खेती-किसानी में भी बखूबी जुटी रहती हैं। चाहे मानसून के पहले खेत जुताई का समय हो या फिर धान कटाई और मिंजाई का दौर। हर मौके पर देवती कर्मा मजदूरों के साथ खुद काम में जुट जाती हैं। वह कहती हैं कि आदिवासी किसान की बेटी और बहू हूं।मेरी जिम्मेदारी क्षेत्र की जनता की भलाई के लिए कार्य करना है चाहे वह राजनीति हो या खेती-किसानी। परिवार के खेत में शुरु से काम करती रही हूं और…

Read More

जब ठेले वाले का पैसा नहीं देने पर दरोगा पर भड़की थीं यह लड़की

naashi

नाशी न सिर्फ सबसे युवा चेहरा, बल्कि अपने कामों की वजह से भी चर्चा में रह चुकी हैं। इन्‍हें यंग अचीवर लीडर्स का सम्‍मान भी मिल चुका है।एक अखबार से बातचीत में नाशी अपनी लाइफ से जुड़े रोचक तथ्य शेयर किए। नाशी ने कहा- चुनाव लड़कर वह जनता की सेवा करना चहती है। जब ठेले वाले का पैसा नहीं देने पर दरोगा पर भड़की थीं नाशी सिर्फ युवा चेहरा ही नहीं, बल्कि अपने तेवर को लेकर भी चर्चा में रहती हैं। अगस्त 2015 में वो मीडिया की सुर्खियां बनी। दरअसल, पटियाली कोतवाली में तैनात दरोगा सुशील कुमार कई दिन से…

Read More