Breaking News:

उत्तराखंड : जर्मन डेवलपमेंट बैंक स्वच्छ पेयजल और गंगा सफाई के लिए देगा 960 करोड़ -

Wednesday, July 18, 2018

गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, July 18, 2018

डॉ. हाथी का रोल कर सकते हैं सतीश कौशिक, जानिये खबर -

Wednesday, July 18, 2018

100 का नया नोट होगा ऐसा , नोटों की छपाई शुरू -

Wednesday, July 18, 2018

एयर होस्टेस अनीशिया बत्रा की मौत मामले में आरोपी पति गिरफ्तार -

Wednesday, July 18, 2018

“स्पेशल बच्चों” का जीवन संवार रही है मणि , जानिये खबर -

Wednesday, July 18, 2018

खुलेगा सीबीएसई का ट्रेनिंग सेंटर देहरादून में , जानिये खबर -

Tuesday, July 17, 2018

अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र के निदेशक के खिलाफ प्रदर्शन हुआ तेज , जानिए खबर -

Tuesday, July 17, 2018

विलुप्त हो रही संस्कृति के संरक्षण हेतु मेलों का हो आयोजन : मुख्यमंत्री -

Tuesday, July 17, 2018

18 युवकों से रचाई शादी,लुटेरी दुल्हन हुई गिरफ्तार -

Tuesday, July 17, 2018

मोदी व अमित शाह को खून से लिखा पत्र -

Tuesday, July 17, 2018

हरेला पर कोसी नदी के पुनर्जीवन अभियान का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारम्भ -

Monday, July 16, 2018

क्रोएशिया को हरा फ्रांस 20 साल बाद बना चैंपियन -

Monday, July 16, 2018

मोहम्मद शहजाद बसपा से निष्कासित, जानिये खबर -

Monday, July 16, 2018

लकवाग्रस्त बीरा को हेल्पेज ने दिया सहारा, जानिये खबर -

Monday, July 16, 2018

रैंप वॉक कर मॉडल्स ने बिखेरे जलवे , जानिये खबर -

Monday, July 16, 2018

मैड के सदस्यों ने किया बाढ़ प्रभावित जगहों के निरक्षण के साथ मदद -

Monday, July 16, 2018

गरीबी से लड़कर अपना एक अलग मुकाम हासिल किया हिमा दास ने -

Sunday, July 15, 2018

विम्बलडन मैदान का एक बाज 10 साल से कर रहा निगरानी, जानिये खबर -

Sunday, July 15, 2018

ट्विंकल खन्ना के लिए अक्षय का ट्वीट मचा रहा धमाल -

Sunday, July 15, 2018

बेमौसमी वर्षा और अतिवृष्टि से हुए नुकसान पर मुख्यमंत्री हरीश रावत का अरुण जेटली व कृषि मंत्री को पत्र

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली व कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह को पत्र भेजकर राज्य में बेमौसमी वर्षा और अतिवृष्टि से हुए नुकसान से अवगत कराया है। मुख्यमंत्री वत ने केन्द्रीय वित्त मंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि राज्य में बेमौसमी वर्षा और अतिवृष्टि से प्रदेश के किसानों को काफी नुकसान हुआ है। इससे प्रदेश के 90प्रतिशत किसान, जो कृषि क्षेत्र से जुड़े हुए है, पर काफी बुरा प्रभाव पड़ा है। राज्य सरकार द्वारा अपने स्तर से किसानों को राहत दी गई है। इसके लिए राज्य सहकारी बैंक से कृषि व उद्यान हेतु लिये गये ऋण का ब्याज आगामी 6 माह तक राज्य सरकार वहन करेगी। एस.एल.बी.सी. के संयोजक द्वारा बताया गया है कि विभिन्न राष्ट्रीय बैंको द्वारा भी प्रदेश के किसानों को कृषि ऋण और किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से लगभग 9500 करोड़ रुपये धनराशि के ऋण वितरित किये गये है, जिन पर 10 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर के अनुसार लगभग 950 करोड़ रुपये ब्याज की धनराशि होती है। यदि केन्द्र सरकार आगामी 6 माह (01 अप्रैल, से 30 सितम्बर, 2015 तक) तक प्रदेश के किसानों द्वारा लिये गये ऋण के ब्याज पर छूट प्रदान कर दे अथवा केन्द्र सरकार वहन करे, तो इससे काफी राहत मिलेगी।
harish rawat
मुख्यमंत्री रावत ने केन्द्रीय वित्त मंत्री से अनुरोध किया है कि प्रदेश की विषम भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए शीघ्र ही इस संबंध में निर्णय लिया जाय। उत्तराखण्ड को विशेष राज्य का दर्जा है, जिसके अनुसार केन्द्र सहायतित योजनाओं में 90ः10 अनुपात में योजनाओं का लाभ मिलना चाहिए था, लेकिन इसको परिवर्तित करते हुए विभिन्न योजनाओं को अलग अनुपात में कर दिया गया है, जैसे 50ः50, 75ः25 आदि, जो कि राज्य के विकास को अवरूद्ध करने जैसा कार्य है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड भले ही छोटा राज्य है, लेकिन हमे जो नुकसान हो रहा है, वह कही अधिक है।
मुख्यमंत्री  रावत ने के्रन्द्रीय कृषि मंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि विगत दिनों की बेमौसमी वर्षा और अतिवृष्टि से राज्य के किसानों को काफी नुकसान हुआ है। राज्य सरकार के अनुमान के अनुसार प्रदेश के विभिन्न जनपदों में 51 प्रतिशत से 69 प्रतिशत तक की क्षति हुई है। फसलों की क्षति के साथ ही फल वृक्ष एवं पौधों के फूल गिरने व पराग खराब होने से औधानिक फसलों (सब्जी एवं फल) में 56.71 प्रतिशत तक की क्षति हुई है। मुख्यमंत्री  रावत ने केन्द्रीय मंत्री से अनुरोध किया है कि अत्याधिक वर्षा एवं तेज हवाओं के कारण फसलों के उत्पादन में होने वाली क्षति का आंकलन कराने हेतु केन्द्रीय दल भेजने के साथ ही किसानों को क्षतिपूर्ति हेतु राहत/धनराशि शीघ्र उपलब्ध कराने का कष्ट करें। केन्द्रीय मंत्री को भेजे गये पत्र में जनपदवार हुए उत्पादन में हुई क्षति का आंकलन दिया गया है, जिसमें जनपद ऊधमसिंहनगर में 63 प्रतिशत, नैनीताल में 57 प्रतिशत, अल्मोड़ा में 51 प्रतिशत, बागेश्वर में 55 प्रतिशत, पिथौरागढ़ में 60 प्रतिशत, चम्पावत में 53 प्रतिशत, हरिद्वार में 69 प्रतिशत, पौड़ी में 56 प्रतिशत, टिहरी में 60 प्रतिशत, उत्तरकाशी में 55 प्रतिशत, रूद्रप्रयाग में 55 प्रतिशत, चमेाली में 55 प्रतिशत तथा देहरादून में 61 प्रतिशत का आंकलन किया गया है।

Leave A Comment