Breaking News:

मेयर से मांगी ज़रूरतमंदो के लिए मदद, जानिए खबर -

Wednesday, April 8, 2020

उत्तराखंड : शाक्य बौद्ध समुदाय ने मुख्यमंत्री राहत कोष में 23 लाख रूपये की राशि दी -

Wednesday, April 8, 2020

सीएम, मंत्रियों व विधायकों के वेतन मेें होगी 30 प्रतिशत की कटौती -

Wednesday, April 8, 2020

दून के तीन होटलों को सरकार ने किया अधिग्रहित -

Wednesday, April 8, 2020

उत्तराखण्ड पीसीएस एसोसिएशन 15 दिन के वेतन का चेक सीएम राहत कोष में दिया -

Wednesday, April 8, 2020

नैनीताल बैंक प्रधानमंत्री राहत कोष में देगा 15 लाख रुपये की धनराशि -

Wednesday, April 8, 2020

लॉकडाउन : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने अधिकारियों से लिए फीडबैक -

Tuesday, April 7, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने शहीद जवान अमित कुमार और देवेंद्र सिंह की पार्थिव देह पर पुष्प चक्र अर्पित कर दी श्रद्धांजलि -

Tuesday, April 7, 2020

सफाई कार्मिकों को किया पुरस्कृत, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

फूल उगाने वाले किसानों के चेहरे मुरझाए, जानिए खबर -

Tuesday, April 7, 2020

हेल्प मी वेलफेयर सोसायटी ने गरीबों की मदद किये -

Tuesday, April 7, 2020

उत्तराखंड में पांच और कोरोना पॉजिटिव मामले सामने आए, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 31 -

Monday, April 6, 2020

सीएम ने उत्तराखंड के जवानों की शहादत को नमन किया -

Monday, April 6, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में बेहतर समन्वय के लिए बनाया गया कंट्रोल रूम -

Monday, April 6, 2020

पौड़ी : पाबौ में चट्टान से गिरने से महिला की मौत -

Monday, April 6, 2020

जुबिन नौटियाल ने ऑनलाइन शो से कोरोना फाइटर्स को कहा थैंक्यू -

Monday, April 6, 2020

अनूप नौटियाल व डा. दिनेश चौहान रहे कोरोना वाॅरियर -

Monday, April 6, 2020

पहल : देहरादून में 7745 भोजन पैकेट वितरित किये गये -

Sunday, April 5, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र ने परिवार संग दीप जला कर हौसला बढाने का दिया सन्देश -

Sunday, April 5, 2020

उत्तराखंड में चार और कोरोना पाॅजीटिव मामले सामने आए, संख्या 26 हुई -

Sunday, April 5, 2020

MAX ने 6 साल की बच्ची को नया जीवन दिया

dr MAX

देहरादून | छह साल की शशि रानी (बदला हुआ नाम) को मुजफ्फरनगर से MAX अस्पताल देहरादून भेज दिया गया। भर्ती के समय वह अपनी दोनों आंखों की दृष्टि खो चुकी थी और पिछले दस दिनों से वह इस परेशानी से जूझ रही थी। वह सुस्त और नींद सी अवस्था में थी, उसका वज़न और भूख भी कम हो गर्ठ थी। डाॅ. ए. के. सिंह और डाॅ. प्रियम्वदा की टीम ने जांच करने पर पाया कि बच्ची ब्रेन ट्यूमर से पीडि़त थी। उसके दिमाग में एक बड़ा ट्यूमर था जिसके कारण उसकी आॅप्टिक तंत्रिका दब गई थी और इसका असर उसकी देखने की क्षमता पर पड़ा था। यह बहुत ही जटिल मामला था, रोगी के बचने की सम्भावना बहुत कम थी। डाॅक्टर मरीज़ के उपचार के लिए तैयार थे लेकिन बच्ची के पिता दुविधा में थे। वे बच्ची की जान बचाना चाहते थे, लेकिन उनके पास पैसे का इंतज़ाम भी नहीं था। उन्होंने अपनी यह परेशानी मैक्स अस्पताल, देहरादून के प्रबन्धन को बताई और MAX इण्डिया फाउन्डेशन की उदारता के चलते उनकी यह समस्या हल हो गई।

Leave A Comment