Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

पढ़े : सिंगापुर के संस्थापक ली कुआन यू की मृत्यु की शोक पुस्तिका में प्रधानमन्त्री मोदी की टिप्पणी

narendra modi message on li kuwan

सिंगापुर के संस्थापक पिता श्री ली कुआन यू के अंतिम संस्कार पर शोक पुस्तिका में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने यह लिखा –

” श्री ली कुआन यू का निधन एक व्यक्ति का देहांत नहीं है बल्कि एक युग का अंत है।

वह उम्मीद की मशाल थे, न सिर्फ सिंगापुर बल्कि समूचे एशिया के लिए।

आज वह ज्योति नहीं रही लेकिन वह ऐसी मशाल है जो कई नए देशों में आशा के दिए को प्रज्ज्वलित करती रहेगी। जब तक यह ज्योति प्रज्ज्वलित रहेगी वे हमेशा प्रेरित करते रहेंगे।

उनका निजी जीवन मेरे जैसों के लिए प्रेरणा था। मैं इस प्रतिबद्ध कर्मयोगी, इस महान इन्सान के आगे नतमस्तक हूं। सभी भारतीयों की तरफ से, मैं उनको श्रृद्धासुमन अर्पित करता हूं। ”

Leave A Comment