Breaking News:

पानी बचाने के लिए , 84 साल का ‘नौजवान’ लगा रहा जी-जान -

Monday, June 17, 2019

वर्ल्ड कप 2019 : जीत के बाद विराट ने की रोहित और कुलदीप की सराहना -

Monday, June 17, 2019

वर्ल्ड कप की जीत से खुशी से झूमे रणवीर सिंह -

Monday, June 17, 2019

कथक नृत्य ने लोगो का मोहा मन ….. -

Sunday, June 16, 2019

केदारनाथ त्रासदी के छह साल, बदली तस्वीर -

Sunday, June 16, 2019

अटल आयुष्मान का “सिस्टम” मरीजों पर भारीः जन संघर्ष मोर्चा -

Sunday, June 16, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने महाकुंभ तैयारियों की समीक्षा की -

Sunday, June 16, 2019

पिथौरागढ़ भ्रमण पर पंहुचे मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 16, 2019

युवा डाॅक्टर गावों में 4-5 वर्ष की सेवा जरूर देंः राज्यपाल -

Saturday, June 15, 2019

मानव संसाधन विकास मंत्री निशंक ने किये भोले बाबा के दर्शन -

Saturday, June 15, 2019

उत्तराखण्ड को इको सिस्टम सर्विसेज के बदले मिले प्रोत्साहन राशिः सीएम -

Saturday, June 15, 2019

गंगा की सहायक नदियों से संबंधित प्रस्ताव नमामि गंगे में हो स्वीकृत -

Saturday, June 15, 2019

नहीं दर्ज होंगे पत्रकारों पर सीधे मुकदमे : डीजीपी -

Saturday, June 15, 2019

फिल्म ‘दिल तेरे संग’ की शूटिंग देहरादून एवं मसूरी में -

Saturday, June 15, 2019

ब्रिज एवम मार्ग का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Friday, June 14, 2019

“ब्लड फ्रेंडस” से बड़ा कोई फ्रेंडस नही …. -

Friday, June 14, 2019

16 जून : केदारनाथ आपदा के 6 साल, जख्म आज भी हरे -

Friday, June 14, 2019

त्रिवेंद्र कैबिनेट के विस्तार की मांग पकड़ने लगी जोर….. -

Friday, June 14, 2019

15 जून से डीएवी पीजी कॉलेज में स्नातक प्रथम वर्ष के होंगे रजिस्ट्रेशन -

Friday, June 14, 2019

मेयर ने किया ‘वचन दियूॅं छौं’ वीडियो का विमोचन -

Friday, June 14, 2019

SSB ने उठाया बॉर्डर के गांवों में अखबार पहुंचने का बीड़ा , जानिए ख़बर

लखीमपुर खीरी | भारत-नेपाल सीमा पर स्थित उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में जिले कई गांव ऐसे हैं, जहां अखबार ही नहीं पहुंचता है। इसमें थारू जनजाति के लगभग तीन दर्जन गांव ऐसे भी हैं, जहां कोई भी लाइब्रेरी ही नहीं है। इस समस्या को दूर करने के लिए सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की 39वीं वाहिनी के कमांडेंट मुन्ना सिंह और उनकी टीम ने कदम बढ़ाया है। जानकारी हो की कमांडेंट मुन्ना सिंह ने कहा, ‘यहां कई गांव ऐसे हैं, जहां अखबार ही नहीं पहुंचता है। हमने लोगों से पूछकर एक कॉमन पॉइंट पर दो अखबार भेजने शुरू किए हैं। अभी 14 पॉइंट ऐसे हैं, जहां अखबार पहुंचाए जा रहे हैं और इसका खर्च एसएसबी की ओर से उठाया जाएगा। इस योजना को शुरू हुए चार दिन हो गए हैं।’ थारू जनजाति के लोगों में एसएसबी का यह कदम काफी सराहनीय सिद्ध हो रहा है। जानकारी हो की थारू जनजाति के गांव में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं और सभी उम्र के लोगों के पढ़ने के लिए तमाम तरह के अखबार और मुख्य हिंदी और अंग्रेजी पत्र पत्रिकाएं भी पढ़ने की व्यवस्था उन्हीं के गांव में की गई है। चुनाव के माहौल में जहां एक तरफ अखबार के शौकीन निश्चित स्थान पर आकर रोज प्रमुख अखबारों का लुप्त लेते देखे जा रहे हैं। वहीं, प्रतियोगिताओं की तैयारी करने वाले छात्र-छात्रा अपना सामान्य ज्ञान भी मजबूत कर रहे हैं।

Leave A Comment