Breaking News:

टीवी अभिनेत्री सेजल शर्मा ने की आत्महत्या, जानिए ख़बर -

Saturday, January 25, 2020

हादसा : सड़क दुर्घटना में जवान की दर्दनाक मौत -

Saturday, January 25, 2020

किसानों का गन्ना मूल्य भुगतान समय पर किया जाय : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, January 25, 2020

30 हजार प्रगणक एवं 06 हजार सुपरवाइजर लगेंगे जनगणना में, जानिए खबर -

Saturday, January 25, 2020

मंथन : “समावेशी शिक्षा” के विभिन्न पहलुओं पर…. -

Friday, January 24, 2020

फरवरी माह में जन प्रतिनिधियों का होगा सम्मेलन, जानिए खबर -

Friday, January 24, 2020

ऋषिकेश में 1 से 7 मार्च तक ‘योग महोत्सव’ -

Friday, January 24, 2020

उत्तराखण्ड में 200 यूनिट तक बिजली और पानी के बिल हो माफ़ : सुनील सेठी -

Friday, January 24, 2020

503 लोेकसभा सांसदों ने नहीं दिया सम्पत्ति का विवरण, जानिए खबर -

Friday, January 24, 2020

रोजगार मेला : 70 कम्पनियों द्वारा 4500 युवाओं को मिलेगा रोजगार -

Thursday, January 23, 2020

सूचना विभाग के उपनिदेशक केएस चौहान “मुख्यमंत्री सुशासन एवं उत्कृष्टता पुरस्कार” से होंगे सम्मानित -

Thursday, January 23, 2020

“समावेशी शिक्षा” के विभिन्न पहलुओं पर होगा मंथन, जानिए खबर -

Thursday, January 23, 2020

सीबीआई ने दो अधिकारियों को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार -

Thursday, January 23, 2020

महाकुम्भ 2021 को लेकर पुलिस विभाग ने कसी कमर,जानिए खबर -

Thursday, January 23, 2020

नई पहल : नवनिर्मित पहाड़ी शैली का होम स्टे ‘बासा’ शीघ्र ही पर्यटकों के लिए खुलेगा -

Thursday, January 23, 2020

‘म्यारू पहाड़ म्यारू परांण’ पत्रिका का सीएम त्रिवेंद्र ने किया विमोचन -

Wednesday, January 22, 2020

आंदोलनकारियों ने सरकारी नौकरी में आरक्षण देने की मांग की -

Wednesday, January 22, 2020

परिवहन निगम के कर्मचारियों को समय पर वेतन भुगतान किया जाए : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, January 22, 2020

पुलवामा मुठभेड़ में उत्तराखंड का लाल हुआ शहीद -

Wednesday, January 22, 2020

60 वर्षीय वृद्ध ने अपने आवेदन की रिसीव मांगी, SDM ने भेजा जेल -

Wednesday, January 22, 2020

एक रिपोर्ट : 2023 में चारधाम यात्रा क्षेत्र में 80 लाख पर्यटक

CharDhamTour

एसडीसी फाउंडेशन ने जारी की एक रिपोर्ट

देहरादून । एसडीसी फाउंडेशन ने राज्य के चारधाम और इससे लगते क्षेत्रों में आने वाले पर्यटकों के रुझान को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है। ‘एनालाइजिंग द टूरिस्ट पैटर्न इन चारधाम रीजन ऑफ उत्तराखण्ड’ शीर्षक से यह रिपोर्ट भारतीय सांख्यिकी संस्थान बेंगलुरु की छात्रा अभिति मिश्रा ने एसडीसी के सह संस्थापक आशुतोष कंडवाल के मार्गदर्शन में तैयार की है। रिपोर्ट मुख्य रूप से उत्तराखंड के चार धामों केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री के साथ ही श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, जोशीमठ और उत्तरकाशी शहरों में पहुंचने वाले पर्यटकों की संख्या का आधार बनाकर तैयार की गई है। विश्लेषण प्रणाली का इस्तेमाल करते हुए रिपोर्ट में 2019 से 2023 तक के पांच वर्षों की अवधि में इस क्षेत्र में पहुंचने वाले पर्यटकों की संख्या का अनुमान लगाया गया है। रिपोर्ट में 2013 की प्राकृतिक आपदा के बाद पर्यटकों की संख्या में आई गिरावट और बाद में उसकी रिकवरी संबंधी तथ्यों का भी अध्ययन किया गया है। रिपोर्ट कहती है कि 2021 में राज्य में आने वाले कुल पर्यटकों में से 16.36 प्रतिशत श्रीनगर, रुद्रप्रयाग, जोशीमठ और उत्तरकाशी पहुंचेंगे। 2020 में चारधाम यात्रा क्षेत्र में 55 लाख पर्यटक पहुंचेंगे, जबकि 2023 में 80 लाख पर्यटकों के इस क्षेत्र में पहुंचने की संभावना है। पिछले 19 वर्षों में चारधाम यात्रा क्षेत्र में आने वाले पर्यटकों की संख्या पर गौर करें तो 2012 में सर्वाधिक 55.3 लाख पर्यटक यहां पहुंचे। 2013 की आपदा के बाद पर्यटकों की संख्या में 93 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। 2014 में मात्र 8.4 लाख पर्यटक ही चारधाम पहुंचे। यह पिछले 19 वर्षों की सबसे कम संख्या थी। इसके बाद में सालों में धीरे-धीरे पर्यटकों की संख्या में वृद्धि हुई और 2016 से 2018 के बीच पर्यटकों की संख्या में 18 प्रतिशत की अभूतपूर्व वृद्धि हुई। हालांकि इस क्षेत्र में आने वाले विदेशी पर्यटकों की संख्या बहुत कम है। यह संख्या कभी भी 1 प्रतिशत से अधिक नहीं बढ़ पाई। आशुतोष कंडवाल का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों में देखा गया है कि पर्यटकों की संख्या बढ़ जाने से इस क्षेत्र में व्यवस्थाएं चरमरा जाती हैं और अन्य व्यवस्थाओं के साथ ही कचरा प्रबंधन की समस्या भी खड़ी हो जाती है। वे कहते हैं कि यह रिपोर्ट चारधान यात्रा से पर्यटन से जुड़ी सरकारी एजेंसियों, नीति निर्माताओं और जिला अधिकारियों को यात्रियों की संख्या को समायोजित करने और कचरा प्रबंधन की बेहतर व्यवस्था करने में सहायक सिद्ध होगी। वे कहते हैं कि यात्रा सीजन में कचरे का अवैज्ञानिक और अनियोजित निपटान चिन्ता का विषय है और हाल के वर्षों में इस तरह के सवाल खड़े हुए हैं। एसडीसी फाउंडेशन रिपोर्ट को संबंधित अधिकारियों के साथ साझा करेगी। 

Leave A Comment