Breaking News:

उत्तराखंड भाजपा की प्रदेश कार्यकारिणी घोषित, जानिए खबर -

Tuesday, February 25, 2020

अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रम्प ने की बॉलीवुड की तारीफ, जानिए खबर -

Tuesday, February 25, 2020

चार धाम देवस्थानम बोर्ड के पहले सीईओ बने मंडलायुक्त रविनाथ रमन -

Tuesday, February 25, 2020

देवस्थानम अधिनियम के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर, जानिए खबर -

Tuesday, February 25, 2020

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने किया श्रीनगर सरस मेले का शुभारम्भ -

Tuesday, February 25, 2020

दुःखद : बाइक की टक्कर से साइकिल सवार बुजुर्ग की मौत -

Monday, February 24, 2020

मसूरी : केंद्रीय मंत्री के ड्राइवर की हार्ट अटैक से मौत -

Monday, February 24, 2020

उत्तराखंड : देहरादून दिल्ली के बीच एलिवेटेड एक्सप्रेस की सौगात -

Monday, February 24, 2020

सराहनीय : उत्तराखंड पुलिस ने तीन विदेशीयो की बचाई जान -

Monday, February 24, 2020

बूट पॉलिश करने वाला बना इंडियन आइडल विजेता , जानिए खबर -

Monday, February 24, 2020

दुःखद : आठ साल की बच्ची ने लगायी फाँसी -

Saturday, February 22, 2020

मीडिया जिम्मेदारी से अपने दायित्वों का निर्वहन करेंः राजेन्द्र जोशी -

Saturday, February 22, 2020

काम की बात : बैंकिंग एवं वित्तीय सेवा के मामले भी स्थायी लोक अदालत में सम्मिलित -

Saturday, February 22, 2020

नही खर्च कर पाए 17 विधायक अब तक अपनी आधी भी विधायक निधि, जानिए खबर -

Saturday, February 22, 2020

उत्तराखंड सरकार : नई आबकारी नीति पर लगी मुहर -

Saturday, February 22, 2020

होटल के कमरे से मिला दिल्ली के पर्यटक का शव -

Friday, February 21, 2020

केदार धाम के कपाट 29 अप्रैल को खुलेंगे -

Friday, February 21, 2020

रेल मंत्री ने दिल्ली से देहरादून के लिए तेजस ट्रेन की सैद्धांतिक स्वीकृति दी -

Friday, February 21, 2020

इस धरती में पवित्रतम है ज्ञानः डॉ. पण्ड्या -

Friday, February 21, 2020

परमार्थ निकेतन में धूमधाम और उल्लास से मनाई गई शिवरात्रि -

Friday, February 21, 2020

जूते की दुकान से कलेक्टर बनने तक का सफर, जानिए खबर

जयपुर | जब आप अपने सपने को सच करना चाहेंगे तो उसके लिए सारी कठनाईयों का सामना करना आना चाहिए ऐसे ही इस कथन को सत्य किया है जूते की दुकान में बैठकर पढ़ाई करने वाले इस लड़के ने, शुभम की कहानी हमें सिखाती है कि अगर इंसान चाह ले तो कुछ भी कर सकता है। ये हैं साल 2018 के टॉपर शुभम गुप्ता जिन्हें आईएएस के बारे में पता तक नहीं था, लेकिन एक दिन पिता ने कहा कि बेटा कलेक्टर बन जाओ और उन्होंने ठान लिया कि ये ही करके दिखाना है। तमाम मुसीबतों के बावजूद शुभम कलेक्टर बन गए। शुभम ने एक इंटरव्यू में बताया कि वे जयपुर के एक मिडिल क्लास परिवार से हैं।

आर्थिक स्थिति इतनी खराब कि उन्हें अपना शहर छोड़ना पड़ा

बचपन से ही वे पिता के साथ उनकी दुकान पर बैठते थे। कारोबार के कारण उनकी और उनके पिता की मुलाकात बड़े-बड़े अफसरों से होती थी। पिता ने कहा कि कलेक्टर बन जाओ और बेटे ने अपने पिता की बात का मान रखा। बचपन में शुभम का परिवार जयपुर छोड़कर महाराष्ट्र शिफ्ट हो गया। उन्होंने बताया कि उस वक्त आर्थिक स्थिति इतनी खराब थी कि उन्हें अपना शहर छोड़ना पड़ा। वहां उनके पिता को जूते की दुकान खोलनी पड़ी। उनके गांव में हिंदी और अंग्रेजी मीडियम का एक भी स्कूल नहीं था। 10वीं कक्षा की पढ़ाई मराठी भाषा में करना बेहद मुश्किल था। चूंकि शुभम को मराठी समझ नहीं आती थी इसलिए उनके पिता ने उनका और उनकी बहन का दाखिला गांव से दूर एक स्कूल में करवाया। स्कूल घर से 80 किमी। की दूरी पर था इसलिए वे अपनी बहन के साथ सुबह 6 बजे की ट्रेन पकड़ते थे और स्कूल से अपने घर शाम 3 बजे आते थे।

Leave A Comment