Breaking News:

देहरादून : लिफाफे और मास्क निर्माण प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित हुई -

Saturday, August 8, 2020

उत्तराखंड : सीएम त्रिवेंद्र ने अधीनस्थ सेवा चयन आयोग भवन का किया लोकार्पण -

Saturday, August 8, 2020

देहरादून : एसएसपी ने किए 6 उप निरीक्षकों के तबादले -

Saturday, August 8, 2020

उत्तराखंड: आज इन जिलों में मिले अधिक कोरोना मरीज, जानिए खबर -

Friday, August 7, 2020

उत्तराखंड : हथकरघा और हस्तशिल्प उत्पादों को अमेजन के माध्यम से आनलाईन बिक्री का सीएम त्रिवेंद्र ने किया शुभारंभ -

Friday, August 7, 2020

भारत : देश मे कोरोना संक्रमित 20 लाख पार, जानिए खबर -

Friday, August 7, 2020

स्कूटी व बाइक चोर गिरोह गिरफ्तार, जानिए खबर -

Friday, August 7, 2020

एक बेहतर टीम का हाथ होता हैं किसी बड़े और पवित्र उद्देश्य की सफलता के पीछेः डीएम देहरादून -

Friday, August 7, 2020

अंतराष्ट्रीय अचीवरस अवार्ड से सम्मानित हुए विरेन्द्र सिंह रावत -

Friday, August 7, 2020

उत्तराखंड : कोरोना से मरने वालो की संख्या पहुँची सौ के पार, हरिद्वार में 71 और मरीज मिले -

Thursday, August 6, 2020

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की देख – रेख हेतु प्रकोष्ठ का गठन -

Thursday, August 6, 2020

उत्तराखंड: आज सात जिलों में मिले कोरोना के अधिक मामले , जानिए खबर -

Thursday, August 6, 2020

एक और अभिनेता के किया आत्महत्या, जानिए खबर -

Thursday, August 6, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत अपने आवास में जलाए दिये, जानिए खबर -

Thursday, August 6, 2020

उत्तराखंड : 18 आईएएस समेत 19 अफसरों के दायित्वों में किया गया फेरबदल -

Thursday, August 6, 2020

सुना था कि भगवान होते हैं, लेकिन वेलमेड हॉस्पिटल में मुझे साक्षात दर्शन हुए … -

Thursday, August 6, 2020

उत्तराखंड: आज 246 नए कोरोना मरीज मिले , जानिए खबर -

Wednesday, August 5, 2020

कई वर्षों के संघर्ष के बाद आज यह स्वर्णिम अवसर आया : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, August 5, 2020

वर्षो बाद आज रच गया इतिहास, जानिए खबर -

Wednesday, August 5, 2020

सिविल सेवा परीक्षा परिणाम : रामनगर के शुभम अग्रवाल ने हासिल किए 43वीं रैंक -

Wednesday, August 5, 2020

नदियों में अवैध खनन का सिलसिला जारी, प्रशासन बेखबर

कोटद्वार/देहरादून । स्थानीय प्रशासन की मिलीभगत से खनन माफिया दिनदहाड़े नदियों का सीना चीर रहे हैं। ऐसे में अवैध खनन के कारण नदियों में 2 से 3 मीटर तक गहरे गड्ढे बन दिये गए हैं। जो बरसात में बड़ी त्रासदी का कारण बन सकते हैं, लेकिन स्थानीय प्रशासन चैन की नींद सो रहा है। खुद प्रदेश की राजधानी देहरादून की रिस्पना, सुसवा व टौंस जैसी नदियों में अवैध खनन के कई मामले सामने आए। जिसमें प्रशासन अब तक शिकंजा कसने में विफल रहा है।  कोटद्वार क्षेत्र में चुगान और खनन के लिए सभी नदियां पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। बावजूद उसके इन नदियों में धड़ल्ले से अवैध खनन चल रहा है। कोटद्वार नगर क्षेत्र में स्थानीय प्रशासन ने 2 दर्जन से भी अधिक आरबीएम स्टॉक करने की परमिशन दी हुई है जबकि, कोटद्वार नगर क्षेत्र में सभी नदियों में चुगान और खनन के लिए पूर्णरूप से प्रतिबंधित हैं। उसके बाद भी प्रशासन की मिलीभगत से इन आरबीएम के स्टॉकों से रोजाना दर्जनों डम्पर आरबीएम भरकर पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में जा रहे हैं।सवाल यह है कि आखिर जब नदियां चुगान और खनन के लिए पूर्ण रूप से बंद है तो इन आरबीएम के स्टॉकों में आरबीएम कहां से आ रहा है। वहीं, स्थानीय प्रशासन इन आरबीएम स्टॉकों की जांच करने की जहमत तक नहीं उठाई. प्रशासन की लापरवाही के कारण आरबीएम स्टॉक के अनुज्ञापी नदियों का सीना चीरकर पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में अपना कारोबार कर रहे हैं। वहीं, इस मामले में कांग्रेस प्रवक्ता प्रदीप भट्ट ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मैं सरकार और प्रशासन से पूछना चाहता हूं कि नदियों को खोखला कौन कर रहा है। यह खनन प्रशासन के नाक के नीचे हो रहा है। उससे साफ जाहिर होता है कि प्रशासन को सब पता है कि कोटद्वार में अवैध खनन चल रहा है। इस मामले में उप जिलाधिकारी योगेश मेहरा का कहना है कि एक अवैध खनन का भंडारण पकड़ा गया है। लगातार प्रशासन की ओर से इस पर ध्यान दिया जा रहा है। अगर कोई व्यक्तिगत रूप से किसी निजी भूमि पर कोई भंडारण कर रहा है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी, जहां तक मालन और सुखरौ नदी की बात है वहां वन भूमि में खनन किया जा रहा है। इसके लिए वन विभाग को निर्देशित कर दिया गया है कि वह अवैध खनन को रोके. क्योंकि मुख्य रूप से इनके खिलाफ कार्रवाई करना वन विभाग का दायित्व है।

Leave A Comment