Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

बाजारों में उमड़ी भीड़, नियमों का पालन कराना चुनौती

देहरादून । लाकडाउन पार्ट चार जिसके नये रूप रंग में होने की बात प्रधानमंत्री मोदी ने कही थी उसकी रूप रेखा सामने आ चुकी है। राज्य में कोई रेड जोन नहीं है इसलिए बाजारों को आंशिक रूप से खोल दिया गया है तथा यातायात में भी ढील दे दी गयी है। अब चंद पाबंदिया ही शेष बची है। खास बात यह है कि लाकडाउन में केन्द्र और अब राज्य सरकार द्वारा दी गयी तमाम तरह की ढील के बाद राजधानी दून सहित तमाम अन्य शहरों के बाजारों में और सड़कों पर खासी भीड़ देखी जा रही है। कदाचित यह कहना भी गलत नहीं होगा कि पहले ही दिन आम दिनों की तरह लोग सड़कों पर निकल पड़े है। कहीं भी किसी तरह की सोशल डिस्टेंसिंग की बात अब महज एक औपचारिकता बनकर रह गयी है। शायद लोगों ने यह मान लिया है कि कोरोना खत्म हो गया। खास बात यह है कि अभी न तो लाकडाउन खत्म हुआ है और न ही कोरोना खत्म हुआ है। लेकिन इस सच के साथ कि कोरोना अभी लम्बे समय तक खत्म नहीं होना है लोगों को अब इनके साथ ही जीना होगा। सरकारों ने लोगों से प्रतिबंध कम कर दिये है। कहने का आशय है कि लोगों को कोरोना के साथ कैसे जीना है यह उन्हे खुद तय करना है। अगर वह खुद अहतियात नहीं बरतते है तो मरने के लिए भी वह खुद जिम्मेदार होगें। यानि की अब सभी लोगों को कोरोना के साथ ही ेजीना मरना है। इस ढील के बाद जिस तरह की भीड़ बाजारों और सड़कों पर देखी जा रही है उससे साफ है कि पुलिस प्रशासन भी अब सोशल डिस्टेंसिंग व अन्य नियमों का पालन उनसे नहीं करा पायेगा।

Leave A Comment