Breaking News:

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए : उत्पल कुमार सिंह -

Wednesday, January 17, 2018

पर्वतीय राज्यों को मिले 2 प्रतिशत ग्रीन बोनस : सीएम -

Wednesday, January 17, 2018

सिर दर्द हो तो करे यह उपाय …. -

Monday, January 15, 2018

उत्तरायणी महोत्सव में रंगारंग कार्यक्रमों की धूम -

Monday, January 15, 2018

सौर ऊर्जा से चलने वाली कार का दिया प्रस्तुतीकरण -

Monday, January 15, 2018

सीएम ने ईको फ्रेण्डली किल वेस्ट मशीन का किया उद्घाटन -

Monday, January 15, 2018

औद्योगीकरण को बढ़ावा देने को लेकर प्रदेश में सिंगल विंडो सिस्टम लागू -

Monday, January 15, 2018

युवा क्रिकेटर के लिए भारतीय तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मांगी मदद -

Sunday, January 14, 2018

कक्षा सात की बालिका ने प्रधानमंत्री के लिए लिखी चिट्ठी, जानिए खबर -

Sunday, January 14, 2018

हरियाली डेवलपमेंट फाउंडेशन ने की गरीब, अनाथ एवं बेसहारा लोगो की मदद -

Sunday, January 14, 2018

रेडिमेड वस्त्रों के 670 सेंटर स्थापित किये जायेंगेः सीएम -

Sunday, January 14, 2018

सीएम ने 14 विकास योजनाओं का किया शिलान्यास -

Saturday, January 13, 2018

एयरटेल और एमेजाॅन ने मिलाया हाथ , किया मेंबरशिप पेशकश -

Saturday, January 13, 2018

किसने ठुकराया 15 करोड़ रूपये का का ऑफर …. -

Saturday, January 13, 2018

परीक्षा में टॉप कीजिए सड़क आप के नाम ….. -

Saturday, January 13, 2018

महापुरुषों में से एक थे स्वामी विवेकानंद…. -

Friday, January 12, 2018

पवित्र ग्रंथों का ‘डिजिटलाइजेशन’ करेगा IIT कानपुर -

Friday, January 12, 2018

अकेलापन दूर करने के लिए पहुँचा जेल

jail

कभी कभी अकेलेपन में लोगों की जिंदगी इतना बेसहारा हो जाता है वह मानसिक तनाव में डूब जाता है | ऐसा ही एक मामला चीन के हैंगचाउ में हुआ | मनुष्य सामाजिक प्राणी है | इस कारण वह अकेलापन बर्दाश्त नही कर पाता | एक चोर अकेलेपन और उससे उपजी उदासी , निराशा से उबरने के लिए खुद ही पुलिस के पास पहुच गया ताकि जेल जा सके | दरअसल गुरूवार को चीन में स्थानीय पारंपरिक वैलेनटाइन डे मनाया जाना था और इस चोर के पास न ही कोई प्रेमिका थी और न ही कोई साथी जिसके साथ वह अपनापन महसूस कर सके |इस चोर का कोई परिजन भी नही है | उस दिन अकेलेपन से बहुत निराश हुआ उससे निजात पाने के लिए वह खुद ही पुलिस के पास पहुच कर अपनी सारी चोरी का जुर्म काबुल लिया | अब उसे जेल में मुफ़्त भोजन , ठिकाना और वहा के कैदियों के साथ गप्पे मारने का मौक़ा मिल गया |

Leave A Comment