Breaking News:

उत्तराखंड : निकाय चुनाव का मतदान 18 नवंबर को -

Monday, October 15, 2018

व्यंग्यः कितना दर्द दिया मीटू के टीटू ने…..! -

Monday, October 15, 2018

टिहरी गढ़वाल के बंगसील स्कूल में सफाई अभियान की अनोखी पहल -

Monday, October 15, 2018

गडकरी, एम्स डायरेक्टर समेत आठ लोगों के खिलाफ मातृसदन दर्ज कराएगा हत्या का मुकदमा -

Monday, October 15, 2018

साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव पहुंचे सहायता : राज्यपाल -

Monday, October 15, 2018

#MeToo: बॉलिवुड की अभिनेत्रियों ने आरोपियों के साथ काम करने से किया इंकार -

Monday, October 15, 2018

भारतीय टीम ने वेस्ट इंडीज को हराकर हासिल की शानदार जीत -

Monday, October 15, 2018

“मैड” के सपने को मिला नया नेतृत्व -

Sunday, October 14, 2018

देश के लिए डॉ.कलाम का अद्वितीय योगदान रहा : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, October 14, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण -

Sunday, October 14, 2018

रूपातंरण कार्यक्रम सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भीः राज्यपाल -

Sunday, October 14, 2018

केदारनाथ यात्रा : 7 लाख के पार पहुंची दर्शनार्थियों की संख्या -

Sunday, October 14, 2018

“उपहार” का निराश्रित बेटियों की शादी में सराहनीय प्रयास -

Sunday, October 14, 2018

अधिकारी एवं कर्मचारी पूरी निष्ठा व ईमानदारी से करे कार्य : सीएम -

Saturday, October 13, 2018

राज्यपाल ने किया पंतनगर विश्वविद्यालय एवं जी.जी.आई.सी.का भ्रमण -

Saturday, October 13, 2018

मिस बॉलीवुड के लिए कॉम्पीटिशन का आयोजन -

Saturday, October 13, 2018

उद्यमी के घर पर भीड़ ने किया हमला -

Saturday, October 13, 2018

उत्तराखण्ड व हरियाणा के मध्य जल्द बहुद्देशीय परियोजनाओं के सम्बन्ध में एमओयू -

Saturday, October 13, 2018

दो दशक के बाद भारत और चीन के बीच फुटबॉल मैच -

Saturday, October 13, 2018

14 अक्टूबर को हाम्रो दशैं कार्यक्रम का भव्य आयोजन -

Friday, October 12, 2018

अच्छे लोग राजनीति में जरूर आए : त्रिवेन्द्र सिंह रावत

UK

देहरादून | मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने को डीबीएस पीजी काॅलेज देहरादून में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 121वीं जयन्ती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने इस अवसर पर रक्तदान शिविर का भी उद्घाटन किया। नेताजी सुभाष चन्द्र बोस को श्रंद्धाजंलि देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि नेताजी ने कहा था कि तुम मुझे खून दो मै तुम्हें आजादी दूंगा परन्तु आज खून की आवश्यकता नहीं है। आज जरूरत है भ्रष्ट्राचार का समूल नाश किया जाय। यह नौजवानों का समय है। भ्रष्ट्राचार को समाप्त करने में युवा पीढ़ी की अहम भूमिका है। हमें वैध तथा अवैध में फैसला करना होगा। भटकाव की स्थिति से बाहर निकल कर क्या सही है तथा क्या गलत है का निर्णय करते हुए सच का रास्ता अपनाना होगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा आजाद हिन्द सेना के सिपाही एम0 सिंह को सम्मानित किया गया।

युवाओ को राजनीति में भाग लेने का आहवाहन
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राजनीति में प्रदूषण का कारण है कि अच्छे लोगों का राजनीति से दूर रहना। यदि अच्छे लोग सब जगह नही आयेगे तो कोई ओर वहां आ जायेगा। काॅलेज की राजनीति व चुनावों से भी लोकतंत्र को सही दिशा मिल सकती है।

नौकरी की मानसिकता से बाहर सोचे
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि नौजवानों को सिर्फ नौकरी की मानसिकता से बाहर सोचने की जरूरत हैं। युवा उद्यमशीलता को अपनाये व उद्यमी बने। सरकार द्वारा स्टैण्डअप इण्डिया-स्टार्टअप इण्डिया, स्किल डेवलपमेन्ट प्रोग्राम, एमएसएमई नीति द्वारा युवाओं को उद्यमशीलता की ओर प्रोत्साहित किया जा रहा है।

भ्रष्ट्राचार को समाप्त करने में युवाओ की भूमिका
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि भ्रष्ट्राचार का सबसे अधिक नुकसान समाज के निर्धन वर्ग तथा भावी पीढ़ी को उठाना पड़ता है। हमारे नई पीढ़ी ही भ्रष्ट्राचार को जड़ से समाप्त करने की सरकार की मुहिम को सफल बना सकती हैं। अभी तक सरकार द्वारा भ्रष्ट्राचार के मामलों में 14 लोगों को जेल भेजा जा चुका है। मुख्यमंत्री ने बताया कि आज ही उन्हें टैक्स चोरी की शिकायत से सम्बन्धित एक मैसेज मिला। त्वरित कार्यवाही करते हुए मुख्यमंत्री ने सम्बन्धित अधिकारियों को जांच के निर्देश दिए तथा जांच में लगभग 60 लाख की टैक्स चोरी पकड़ी गई।

आत्महत्या के प्रयास कायरतापूर्ण
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि समाज में आत्महत्या जैसी दुष्प्रवृतियों को बढ़ावा नही दिया जाना चाहिये। अभी तक लगभग 11 लोगों द्वारा आत्महत्या करने की धमकियां प्राप्त हुई है। राजनीतिक कारणों से आत्महत्या के प्रयासों का खुलेआम समर्थन अत्यधिक निन्दनीय है। उन्होंने उपस्थित छात्र-छात्राओं से पूछा कि क्या आत्महत्या करने वालों को सरकार की ओर से आर्थिक मदद दी जानी चाहिए। छात्र-छात्राओं ने एकस्वर में कहा कि आत्महत्या जैसी दुष्प्रवृतियों हेतु बिलकुल भी किसी भी प्रकार आर्थिक मदद सरकारी खजाने से नहीं दी जानी चाहिए

Leave A Comment