Breaking News:

आखिर क्यों पिघल रही है कार , जानिए खबर….. -

Tuesday, October 17, 2017

दीपावली : घर की साज सज्जा करे वास्तु शास्त्र के अनुसार -

Tuesday, October 17, 2017

उत्तराखंड क्रिकेट : बीसीसीआई मान्यता जल्द -

Monday, October 16, 2017

कांग्रेस सरकार के कार्यकाल की योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन करेंगे नरेन्द्र मोदी : रावत -

Monday, October 16, 2017

बिना जूतों के दौड़े और इसके बावजूद भी मेडल , गरीबी को दी मात , जानिये खबर -

Monday, October 16, 2017

WWE रिंग में मुकाबला करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी कविता -

Monday, October 16, 2017

उत्तराखंड : कांग्रेसी नेता के आफिस में घुसे बदमाश, जेवर व नगदी लूटी -

Sunday, October 15, 2017

मुख्यमंत्री से ब्लाइन्ड क्रिकेट ऐसोसिएशन के सदस्यों ने की शिष्टाचार भेंट -

Sunday, October 15, 2017

मैड एवं अपने सपने समेत अनेक संगठनों ने दीवाली पर बम पटाखे न फोड़ने की संयुक्त अपील -

Sunday, October 15, 2017

यूथ आईकॉन से 39 हस्तियों का हुआ सम्मान -

Sunday, October 15, 2017

डीएम व अपर सचिव ने किया गुच्चू पानी में सफाई अभियान -

Sunday, October 15, 2017

“मैड” ने बदली गन्दी दीवार की कायाकल्प -

Saturday, October 14, 2017

कौन बनेगा करोड़पति शो अंतिम पड़ाव में …. -

Saturday, October 14, 2017

T20 : आखिरी मैच रद्द , सीरीज बराबरी पर समाप्त -

Saturday, October 14, 2017

15 वर्षीय प्रिया बाल विवाह कुप्रथा के खिलाफ लड़ रही जंग -

Saturday, October 14, 2017

नहीं ढूंढ पा रही एक माह से बहन व भांजी को पुलिस -

Friday, October 13, 2017

प्रधानों को मंत्री ने जूस पिलाकर अनशन तुड़वाया -

Friday, October 13, 2017

द एशियन स्कूल में प्रदर्शनी का आयोजन -

Friday, October 13, 2017

सीपीएम कार्यालय पर हुए हमले की प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने की निंदा -

Friday, October 13, 2017

आॅल वेदर रोड परियोजना प्रगति की हुई समीक्षा -

Friday, October 13, 2017

अबुल हसन ग़रीबों, मरीज़ों को अपने ऑटो में मुफ्त में सफर कराते हैं

nek-kaam

मिलिए जनाब अबुल हसन से, एक ऑटो रिक्शा चलाने वाला जिसका दिल किसी राजा से भी रईस है |वो ग़रीबों, मरीज़ों को अपने ऑटो में मुफ्त में सफर कराते हैं| वो लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार अपने पैसों से करते हैं, वो रोज़ आना 4 ग़रीबों को अपने पैसे से खाना खिलाते हैं और रमज़ान में ये गिनती 20 तक हो जाती है| यही नहीं, हर साल वो 10 ग़रीब बच्चों को उनकी तालीमी फीस के लिए 1000 रुपये देते हैं और साथ हैं इम्तिहान में प्रथम आने वाले १० ग़रीब बच्चों को प्रतिभा पुरूस्कार भी देते हैं| वो लोगों से कपडे जमा करके ग़रीबो और मिस्कीनों तक पहुंचाते हैं| उनके ऑटो में हमेशा थोड़ा पेट्रोल अलग से रखा रहता है ताकि रास्ते में किसी का तेल खत्म होने पर उसकी मदद की जा सके और साथ ही गर्मियों में प्यासों की प्यास बुझाने के लिए ठन्डे पानी का कैन भी उनके ऑटो में रहता है| वो सड़क पर मौजूद गढ्ढों को खुद ही भर देते हैं मिटटी से और बेहूदा और गुमरहकन पोस्टर/ होर्डिंग को खुद ही फाड़ देते हैं| अबुल हसन कहते हैं की “मैं मानता हूँ की इंसानो की खिदमत करने के लिए किसी पद की ज़रूरत नहीं है और इसी तरह किसी की मदद करने के लिए अमीर होने की ज़रूरत नहीं बस आपके पास एक दयालु ह्रदय होना चाहिए | अबुल हसन तेलंगाना के रहने वाले हैं और मानव सेवा को सबसे बड़ा काम मानते हैं, उनकी आय ऑटो से और अपने मकान के किराए से होती है पर उनका खर्च दर्जनो के लिए होता है क्योंकि उनका दिल बड़ा है, काश हम सब का दिल भी ऐसा हो जाता तो कोई भूका नहीं सोता… आगे बढ़िए, अच्छा काम करने के लिए अमीर या मशहूर होना ज़रूरी नहीं है| अमीर तो बहुत होंगे पर इनसे अमीर बहुत कम ही है|

Leave A Comment