Breaking News:

टाइगर श्रॉफ और अभिनेत्री दिशा पटानी की आगामी फ़िल्म “बागी 2” का ट्रेलर लांच -

Thursday, February 22, 2018

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दुसरे टी-20 मैच में 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-1 की बराबरी -

Thursday, February 22, 2018

कमल हासन ने शुरू की अपनी सियासी पारी -

Thursday, February 22, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक -

Thursday, February 22, 2018

EPFO ने ब्याज दर घटाकर की 8.55% -

Thursday, February 22, 2018

पांचमुखी हनुमानजी की करे पूजा… -

Wednesday, February 21, 2018

तीसरी शादी को लेकर इमरान खान थे दबाव में , जानिए खबर -

Wednesday, February 21, 2018

ऐतिहासिक झंडा मेला दून में छह मार्च से -

Wednesday, February 21, 2018

कथन इंडसइंड बैंक का …. -

Wednesday, February 21, 2018

पापड़ बेचने वाले के रोल से हुई शुरुआत … -

Tuesday, February 20, 2018

मोदी- माल्या को भारत लाने की कोशिशों में अब तक कितना खर्च, जानिए खबर -

Tuesday, February 20, 2018

दामाद ने सास पर पत्नी को देह व्यापार में धकेलने का लगाया आरोप -

Tuesday, February 20, 2018

नरसिंग देवता महायज्ञ का हुआ शुभारंभ -

Tuesday, February 20, 2018

11 हजार से अधिक बच्चों के साथ सीएम ने गाया वंदेमातरम -

Tuesday, February 20, 2018

बैंक की एक शाखा में तीन साल से ज्यादा नहीं रहेंगे अधिकारी -

Monday, February 19, 2018

शत्रुघ्‍न सिन्हा का प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना… -

Monday, February 19, 2018

पीएम मोदी को पाकिस्तान का 2.86 लाख का बिल -

Monday, February 19, 2018

गुजरात निकाय चुनाव: बीजेपी ने दी कांग्रेस को शिकस्त -

Monday, February 19, 2018

भाजपा मुख्यालय का पता बदला -

Sunday, February 18, 2018

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव में पिछली बार से 17% कम वोटिंग -

Sunday, February 18, 2018

अब राष्ट्रपति पद भी राजनीति से अछूता नहीं रहा …

india

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राजनीति का सबसे खास पहलू यह है कि मोदी वहां से लिस्ट बनाना शुरू करते हैं जहां पर कयासों की सूची समाप्त होती है। राष्ट्रपति पद के लिए जितने नामों पर पिछले कुछ महीनों से माथापच्ची चल रही थी, उनसे इतर एक नाम देकर मोदी ने एकबार फिर लोगों को चैंका दिया है और यह नाम है बिहार के राज्यपाल और भारतीय जनता पार्टी के नेता रामनाथ कोविंद का. कोविंद कम बोलने वाले शालीन चेहरे हैं. विवादों से नाता न के बराबर रहा है. दलित हैं और उत्तर प्रदेश के कानपुर से आते हैं. कोरी बिरादरी का चेहरा हैं जो कि उत्तर प्रदेश में दलितों की तीसरी बड़ी आबादी है और बुंदेलखंड क्षेत्र में अपना खासा प्रभाव रखती है. कोविंद का नाम इसीलिए विपक्ष को एक झटका है. एनडीए के कुछ घटक, जो किसी अन्य नाम पर नखरे दिखा सकते हैं, शांति से कोविंद के नाम को स्वीकार कर लेंगे. लेकिन सबसे बड़ा असमंजस विपक्ष में है. नीतीश सहित कई नेताओं के लिए कोविंद का विरोध आसान नहीं होगा. कोविंद के विरोध का मतलब एक दलित नाम का विरोध करना होगा. मायावती के लिए भी भले ही जाटव न होना एक बहाना हो लेकिन दलित होना जाटव होने से ज्यादा बड़ी राजनीतिक स्थिति है और मायावती अब इस स्थिति में कैसे विरोध करेंगी? यह उनके लिए सहज नहीं होगा. यही स्थिति नीतीश की है. नीतीश कोविंद के साथ नहीं खड़े होते हैं तो उनकी राजनीतिक विचारधारा से लेकर वोटबैंक तक गलत संदेश जाएगा.दलित राजनीति वाली दक्षिण की पार्टियां, वाम के गढ़ों में भी एक दलित नाम के विरुद्ध निर्णय कोई सुग्राह्य बात नहीं होगी. सबसे ज्यादा घिरी नजर आ रही है कांग्रेस. जगजीवन राम की विरासत वाली पार्टी के लिए उत्तर प्रदेश के एक दलित के विरुद्ध खड़े हो पाना कोई कम चुनौतीभरा काम नहीं होगा. सूत्रों का कहना है कि एनडीए के दलित उम्मीदवार के जवाब में विपक्ष भी दलित कार्ड खेल सकता है। टीवी रिपोर्ट्स की मानें तो यूपीए की तरफ से पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को उम्मीदवार बनाया जा सकता है। इन सभी से यही रास्ते निकलते है की अब
राष्ट्रपति पद भी राजनीति से अछूता नहीं रहा |

Leave A Comment