Breaking News:

राजनीति नहीं, राष्ट्रनीति में आना चाहता हूँः अमर सिंह -

Tuesday, January 15, 2019

उत्तराखण्ड के 90 प्रतिशत गांवो में इन्टरनेट कनेक्टिविटी जल्द -

Tuesday, January 15, 2019

डाॅ. सुजाता संजय फॉग्सी वीमेन एम्पावरमेंट अवार्ड से सम्मानित -

Tuesday, January 15, 2019

उत्तराखण्ड में 10 प्रतिशत आर्थिक आरक्षण जल्द लागू: मुख्यमंत्री -

Tuesday, January 15, 2019

द्रोणनगरी में निकली भगवान जगन्नाथ की भव्य रथयात्रा -

Monday, January 14, 2019

शिक्षा विभाग के खिलाफ शिक्षिका उत्तरा बहुगुणा नेखोला मोर्चा -

Monday, January 14, 2019

इस वर्ष प्रदेश के सभी गांव जुड़ेंगे सड़क मार्ग से, जानिए ख़बर -

Monday, January 14, 2019

इमरान हाशमी के नन्हे बेटे ने जीती कैंसर से जंग,जानिए खबर -

Monday, January 14, 2019

राज्यपाल ने सड़क दुर्घटनाओं पर जतायी चिन्ता -

Monday, January 14, 2019

ऋषिकेश पहुंची स्वस्थ भारत साइकिल यात्रा, टीएचडीसी ने किया स्वागत -

Sunday, January 13, 2019

केदारधाम ओढ़ी बर्फ की चादर, कार्य प्रभावित -

Sunday, January 13, 2019

वेब मीडिया एसोसिएशन : उत्तराखण्ड राज्य कार्यकारिणी का हुआ गठन -

Sunday, January 13, 2019

भारतीय टीम में हार्दिक पंड्या,राहुल की जगह इन खिलाड़ियों को मिला मौका -

Sunday, January 13, 2019

3 साल से गायब हैं ‘मुन्नाभाई’ के ऐक्टर ,जानिए खबर -

Sunday, January 13, 2019

पीआरएसआई देहरादून चैप्टर ने स्वस्थ भारत यात्रा अभियान के अंतर्गत सक्रिय भागीदारी निभाई -

Saturday, January 12, 2019

पूर्व सीएम हरीश रावत ने ‘मशरूम व खिचड़ी सक्रांत पार्टी’ का किया आयोजन -

Saturday, January 12, 2019

भारतीय हिमालय क्षेत्र से पलायन पर शोध पुस्तक की समीक्षा -

Saturday, January 12, 2019

जल्द रिलीज होगी जॉन अब्राहम की ‘रोमियो अकबर वॉटर’ -

Saturday, January 12, 2019

IND vs AUS: महेंद्र सिंह धोनी ने छुआ खास मुकाम,जानिए खबर -

Saturday, January 12, 2019

सात साहित्यकारों को मिला सारस्वत सम्मान, उत्तराखण्ड के युवा कवि एवम सम्पादक राज शेखर भट्ट भी हुए सम्मानित -

Saturday, January 12, 2019

अमेरिकी ग्रीन कार्ड की वेटिंग लिस्ट में 75 फीसदी भारतीय जानिए ख़बर

अमेरिका में ग्रीन कार्ड हासिल करने के लिए वेटिंग लिस्ट में 75 फीसदी भारतीय शामिल है। अमेरिकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवाओं के ताजा आंकड़ों के अनुसार, मई 2018 तक रोजगार आधारित प्राथमिकता श्रेणी के तहत 395,025 विदेशी नागरिक ग्रीन कार्ड पाने की कतार में थे। इनमें से 306,601 भारतीय थे। भारत के बाद इस सूची में चीन के नागरिक दूसरे नंबर पर हैं। अभी 67,031 चीनी नागरिक ग्रीन कार्ड पाने का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि इसके अलावा किसी भी अन्य देश के ग्रीन कार्ड का इंतजार कर रहे लोगों की संख्या 10,000 से अधिक नहीं है। अमेरिका में वैध स्थायी निवास के दर्जे को ग्रीन कार्ड कहा जाता है। इसके जरिए कोई भी शख्स वैध तौर पर अमेरिका में रह और काम कर सकता है। अमेरिका में मौजूदा कानून के तहत एक वित्तीय वर्ष में किसी भी देश के सिर्फ 7% लोगों को ही ग्रीन कार्ड दिया जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक, इस कोटे की वजह से अप्रवासी भारतीयों को ग्रीन कार्ड हासिल करने के लिए 70 साल तक इसका इंतजार करना पड़ सकता है। वहीं, अमेरिका के जीसी रिफार्म्स समूह की वेबसाइट के मुताबिक, अमेरिकी कानून के तहत सभी भारतीयों को स्थायी नागरिकता मिलने में 25 सालों से लेकर 92 सालों तक का समय लग सकता है। अमेरिका की मौजूदा आव्रजन नीतियों का सबसे खराब असर उन भारतीय-अमेरिकियों पर पड़ रहा है, जो काम के लिए एच-1बी वीजा पर अमेरिका पहुंचते हैं। इसी लिए ज्यादातर हाई-स्किल्ड वर्कर्स आमतौर पर ग्रीन कार्ड की होड़ में रहते हैं।

Leave A Comment