Breaking News:

स्वच्छता अभियान चलाते हुए सेल्फी प्वाइंट में घाट को बदला, जानिए खबर -

Sunday, April 21, 2019

मछली का अवैध शिकार करने वाला गिरोह फिर सक्रिय -

Sunday, April 21, 2019

देहरादून चैप्टर द्वारा 33वीं राष्ट्रीय जनसंपर्क कार्यशाला का आयोजन -

Sunday, April 21, 2019

सोशल मीडिया के योद्धाओं की फौज तैयार करेंगे बाबा रामदेव -

Sunday, April 21, 2019

एनडीए व एनए परीक्षा आयोजित, आसान रहा पेपर -

Sunday, April 21, 2019

छोलिया नृत्य विशेष आकर्षण का रहा केंद्र -

Saturday, April 20, 2019

बेटियों के जीवन की सुरक्षा को लेकर हुआ मंथन , जानिए खबर -

Saturday, April 20, 2019

35वीं बीसीआई मूट कोर्ट प्रतियोगिता का आयोजन -

Saturday, April 20, 2019

विंग कमांडर अभिनंदन के लिए ‘वीर चक्र’ की सिफारिश , जानिए ख़बर -

Saturday, April 20, 2019

फिल्म ‘कलंक’ ने तीसरे दिन भी की करोड़ो की कमाई -

Saturday, April 20, 2019

आईपीएल : पंजाब टीम ने कोटला की पिच को धीमा करार दिया -

Friday, April 19, 2019

दून संस्कृति ने धूमधाम से मनाई बैसाखी -

Friday, April 19, 2019

सचिवालय कूच करेंगे 108 सेवा के कर्मचारी , जानिए ख़बर -

Friday, April 19, 2019

हनुमान जयंती पर सुंदरकांड का आयोजन, 51 किलो का लड्डू चढ़ाया -

Friday, April 19, 2019

दिव्यांग बच्चे किसी से कम नहीं होते : राज्यपाल -

Friday, April 19, 2019

फिल्म ‘मेंटल है क्या’ के लिए खड़ी हुई नई मुश्किल , जानिए ख़बर -

Friday, April 19, 2019

विभिन्न सामाजिक कार्यों के साथ अनमोल इंडस्ट्रीज ने पूरे किये अपने 25 वर्ष -

Thursday, April 18, 2019

पत्रकार बिजेन्द्र कुमार यादव पर हुए प्राणघातक हमले के मामले की होगी जांच, डीजीपी ने दिए आदेश -

Thursday, April 18, 2019

IPL 2019: ‘ब्रोमांस’ करते नजर आए धवन और पंड्या -

Thursday, April 18, 2019

सेना अधिकारी है दिशा की बहन शेयर की वर्दी वाली तस्वीर -

Thursday, April 18, 2019

इश्योरेंस कम्पनी को 10 लाख ब्याज भुगतान का आदेश

upbho

 

वाहन ट्रांसफर की सूचना न देने के आधार पर बीमा क्लेम न देने को माना गलत

देहरादून। जिला उपभोक्ता फोरम ने वाहन चोरी के बीमा क्लेम को बीमा कम्पनी को वाहन ट्रांसफर की सूचना न देने के आधार पर खारिज करना गलत मानते हुये बीमा कम्पनी को उपभोक्ता को 10 लाख 15 हजार का भुगतान का आदेश दिया है। इसमें 10 हजार रूपये मानसिक क्षतिपूर्ति तथा 5 हजार रू. बाद व्यय भी शामिल है। इसके अतिरिक्त बीमा कम्पनी को 7 प्रतिशत वार्षिक की दर से वाद दायर करने से भुगतान की तिथि तक का ब्याज भी भुगतान करने को आदेशित किया गया है। काशीपुर के जमील अहमद तथा मुशर्रफ की ओर से अधिवक्ता नदीम उद्दीन एडवोकेट द्वारा जिला उपभोक्ता फोरम में परिवाद दायर करके कहा गया था कि जमील अहमद ने अपने ट्रक सं0 यू0के0-6सी ए-0916 का बीमा ओरिएण्टल इश्योरेंस कम्पनी लि0 की काशीपुर शाखा कार्यालय से करवाया जो 31-10-2014 से 30-10-2015 तक वैध था। इसी बीच 27-11-2014 को जमील अहमद ने अपना बीमित ट्रक मुशर्रफ को बेच दिया जिसे सम्बन्धित परिवहन अधिकारी के अभिलेखों मेें दर्ज कर दिया जिसकी प्रति 28-11-2018 को जब प्राप्त हुई तो बीमा कम्पनी का कार्यालय बन्द हो चुका था। 29 व 30 नवम्बर को कम्पनी का कार्यालय बन्द था। इस कारण वाहन हस्तांतरण की सूचना नहीं दी जा सकी। 29 व 30 नवम्बर 2014 की रात को काशीपुर से बीमित ट्रक चोरी हो गया। परिवादीगण द्वारा काफी ढूंढने पर जब वाहन नहीं मिला तब इसकी रिपोर्ट कोतवाली काशीपुर में दर्ज करायी और पुलिस द्वारा प्रयास करने पर भी जब वाहन नहीं मिला तब पुलिस ने अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट काशीपुर के न्यायालय में अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत की गयी जिसे न्यायालय ने स्वीकार कर लिया। परिवादी ने बीमा कम्पनी को चोरी की सूचना दी जिस पर कम्पनी के अधिकारी व सर्वेयर ने घटना स्थल का सर्वे किया तथा इससे संबंधित जानकारी तथा सम्बन्धित कागजातों की प्रतियां प्राप्त की। जब बीमा कम्पनी द्वारा क्लेम की धनराशि नहीं दी गयी तब सूचना का अधिकार के अन्तर्गत सूचना मांगी गयी। जिसमें कम्पनी ने बताया कि वाहन हस्तांतरण की सूचना परिवादी द्वारा नहीं दी गयी इसलिये क्लेत निरस्त किया गया। इस पर परिवादीगण ने अपने अधिवक्ता नदीम उद्दीन एडवोकेट के माध्यम से नोटिस भिजवाया। जिस पर भी कोई कार्यवाही न करने पर उपभोक्ता फोरम में परिवाद दायर किया गया। बीमा कम्पनी की ओर से वाहन हस्तांतरण की सूचना बीमा कम्पनी को न देने तथा बीमा कराने वाले जमील अहमद का चोरी के समय बीमित वाहन में कोई बीमित हित न होने के आधार पर बीमा क्लेम खारिज करने का कथन किया। जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष आर0डी0 पालीवाल तथा सदस्य सबाहत हुसैन खान ने परिवादीगण के अधिवक्ता नदीम उद्दीन के तर्कों से सहमत हुये अपने निर्णय में लिखा कि मामले के तथ्य व परिस्थिितियां ऐसी थी कि परिवादीगण ने बिना किसी देरी के विपक्षी बीमा कम्पनी को वाहन चोरी की सूचना 1 दिसंबर 2014 को दी। वाहन बीमित था और बीमित अवधि में ही चोरी हुआ। चोरी की 29-30 नवंबर 2014 की रात्रि को चूंकि मुशर्रफ ही वाहन का स्वामी था इसलिये परिवादी मुशर्रफ ही बीमा धनराशि पाने का अधिकारी है। जिला उपभोक्ता फोरम ने बीमा कम्पनी को बीमित वाहन की धनराशि रू. दस लाख 7 प्रतिशत साधारण ब्याज जो परिवाद दायर करने की तिथि 16 फरवरी 2017 से वास्तविक भुगतान की तिथि तक देय होगा का भुगतान एक माह के अंदर करने का आदेश दिया। साथ ही मानसिक क्षति के 10 हजार तथा वाद व्यय के रू. पांच हजार का भी भुगतान करने का आदेश दिया है।

Leave A Comment