Breaking News:

समाज सेवा के लिये रहा पंडित दीन दयाल उपाध्याय का सम्पूर्ण जीवन : सीएम -

Monday, September 24, 2018

राधा क्यूँ गोरी मै क्यू काला …… -

Monday, September 24, 2018

लखनऊ : सीएम त्रिवेंद्र ने मध्य क्षेत्रीय परिषद् की बैठक में किया प्रतिभाग -

Monday, September 24, 2018

मंत्री ने राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी की पहल का किया स्वागत -

Monday, September 24, 2018

खुलेगा 300 बेड का नया जच्चा-बच्चा अस्पताल , जानिए खबर -

Monday, September 24, 2018

अखबारों की विश्वसनीयता आज भी बरकरार : प्रकाश पंत -

Monday, September 24, 2018

सीएम त्रिवेंद्र ने आयुष्मान भारत योजना के गोल्डन कार्ड किए वितरित -

Sunday, September 23, 2018

एक साथ एक समय चुनाव करवाने से धन, ऊर्जा व समय की होगी बचतः सीएम -

Sunday, September 23, 2018

जिलाधिकरी मंगेश घिल्डियाल चन्द्रशिला से तुंगनाथ धाम तक की साफ सफाई -

Sunday, September 23, 2018

मुंबई के एक शख्स ने एक ही लड़की की दो बार बचाई जान , जानिए खबर -

Sunday, September 23, 2018

रणवीर-दीपिका को टालनी पड़ी अपनी शादी,जानिए खबर -

Sunday, September 23, 2018

रमेश सिप्पी, शर्मन जोशी ने छात्रों से की खास मुलाकात , जानिये खबर -

Sunday, September 23, 2018

राज्यपाल ने की ‘ज्ञान कुंभ’ की तैयारियों की समीक्षा की -

Saturday, September 22, 2018

यात्री वाहन खाई में पलटा, 13 की मौत -

Saturday, September 22, 2018

ई हेल्थ-सेवा डेशबोर्ड का सीएम ने शुभारम्भ किया -

Saturday, September 22, 2018

मिस उत्तराखंड प्रतियोगिता “फस्ट लुक” आयोजित -

Saturday, September 22, 2018

सीएम ने किया ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान के तहत श्रमदान -

Saturday, September 22, 2018

जल्द नजर आएंगे विराट कोहली बड़े पर्दे,जानिए खबर -

Saturday, September 22, 2018

30 साल से बिना वेतन के संभालते हैं गंगाराम जी ट्रैफिक, जानिए खबर -

Saturday, September 22, 2018

रमेश सिप्पी को भा गई दून की वादियां, उत्तराखंड फिल्म इंडस्ट्री का भविष्य -

Saturday, September 22, 2018

उत्तराखंड : नई आबकारी नीति को मंजूरी

cm

उत्तराखंड सरकार ने राज्य की जनता के विरोध और असमंजस से बाहर निकलते हुए नई आबकारी नीति को हरी झंडी दे दी है। कैबिनेट की बैठक में आज सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आबकारी नीति के तहत 2310 करोड़ आय का लक्ष्य निर्धारित किया गया। साथ ही तय किया गया कि शराब पर दो फीसद सेस लगाया जाएगा। सेस की यह धनराशि सामाजिक सुरक्षा और सड़क सुरक्षा पर खर्च होगी।उत्तराखंड में भाजपा की नई सरकार बनने के बाद शराब नीति के मामले में बड़ी चुनौती पेश आई। राज्य के सभी जिलों में शराब विरोधी आंदोलन शुरू हो गए। इसके मूल में राष्ट्रीय राजमार्गों से शराब की दुकानों को हटाना कारण रहा। शासन ने फौरी व्यवस्था करते हुए राष्ट्रीय राजमार्गों से हटने वाली दुकानों को नजदीक ही ऐसे मार्गों पर स्थानांतरण कर दिया जो राज्य मार्ग की श्रेणी में आते हैं, लेकिन जनता ने शासन की इस नीति को स्वीकार नहीं किया और यह फैसला बाउंस बेक होकर सरकार के गले की फांस बन गया। इसके बाद सरकार ने बीच का रास्ता निकालते हुए कई राष्ट्रीय राजमार्गों को जिला मार्ग घोषित किया। इसके बावजूद शराब विरोधी आंदलन थमने के बजाय और फैल गए। वर्तमान में स्थिति यह है कि पहाड़ों के साथ ही मैदानी जिलों में भी शराब विरोधी आंदोलन सरकार की सबसे बड़ी मुश्किल बने हैं। इस हालात में आज कैबिनेट ने नई शराब नीति को मंजूरी दे दी। हालांकि इस नई नीति का जनता पर क्या प्रभाव होगा, यह भविष्य की गर्त में है, लेकिन सरकार को राजस्व के एक अहम साधन शराब की बिक्री को लेकर फिलहाल राहत मिलती दिख रही है। इसके पीछे सरकार की यह घोषणा भी है कि शराबबंदी करते हुए जल्द ही राज्य की कुल दुकानों का एक तिहाई को प्रथम चरण में कम कर दिया जाएगा। इससे सरकार को उम्मीद है कि जनता का गुस्सा थमेगा और राजस्व की भी हानि नहीं होगी। कैबिनेट के फैसलों की जानकारी देते हुए सरकार के प्रवक्ता व कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने बताया कि पर्वतीय जिलो में शराब की दुकानें खुलने का समय दोपहर 12 बजे से शाम छह बजे तक रहेगा। साथ ही सभी जिलों को शराब के राजस्व का लक्ष्य आवंटित कर दिया गया।

Leave A Comment