Breaking News:

दुःखद : सीएम के ओएसडी गोपाल रावत का कोरोना के चलते निधन -

Tuesday, September 22, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 42651, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सराहनीय कार्य : जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा सामाग्री किये वितरित -

Tuesday, September 22, 2020

बेटी दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

सीएम त्रिवेन्द्र एवं वन मंत्री ने ‘आनन्द वन’ का किया लोकापर्ण -

Tuesday, September 22, 2020

महाआरती का आयोजन, जानिए खबर -

Tuesday, September 22, 2020

कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में न हो विलम्ब : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र -

Tuesday, September 22, 2020

राज कम्युनिकेशन के सफलतापूर्वक 15 वर्ष हुए पूरे, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज प्रदेश में मिले 814 कोरोना मरीज, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

IPL : भारतीय खिलाड़ियों की फिटनेस को लेकर उठ रहे सवाल -

Monday, September 21, 2020

अनुराग-पायल केस में कंगना के बयान से खलबली, जानिए खबर -

Monday, September 21, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने थानो में एग्री बिजनेस ग्रोथ सेंटर का किया लोकार्पण -

Monday, September 21, 2020

केदारनाथ आपदा : सर्च अभियान में मिले चार नर कंकाल -

Monday, September 21, 2020

उत्तराखंड: आज देहरादून में चार सौ से अधिक कोरोना मरीज मिले, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

कोरोना महामारी मे मदद का हाथ बढ़ा रहे विरेन्द्र सिंह रावत -

Sunday, September 20, 2020

देहरादून स्थित सभी कोर्ट एक ही परिसर में स्थापित हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, September 20, 2020

चीन को खुफिया जानकारी देने पर पत्रकार समेत तीन गिरफ्तार -

Sunday, September 20, 2020

उत्तराखंड कांग्रेस ने एक सप्ताह तक के सभी सार्वजनिक कार्यक्रम किये रद्द -

Sunday, September 20, 2020

ब्रांडेड कपड़े के नाम पर नकली माल, रहे सावधान, जानिए खबर -

Sunday, September 20, 2020

भारत में खेल प्रेमियों के लिए आने वाला समय उत्साहजनक -

Sunday, September 20, 2020

उत्तराखंड : रिकार्ड 34 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने की पांच धाम यात्रा

CharDhamTour

देहरादून | राज्य में प्रतिवर्ष आयोजित की जाने वाली चारधाम यात्रा देश विदेश के श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र रही है। केंद्र सरकार तथा राज्य सरकार द्वारा यात्रियों की सुगमता और सुविधाओं हेतु अबाध रूप से किये जा रहे विकास कार्यों के परिणामस्वरूप इस वर्ष रिकार्ड 34 लाख 10 हजार 380 श्रद्धालुओं द्वारा चारों धामों तथा हेमकुण्ड साहिब के दर्शन किये गये। चारधाम यात्रियों की संख्या में पिछले वर्श के मुकाबले लगभग 22.6 प्रतिषत का इजाफा हुआ। यात्रा का आरम्भ 07 मई को गंगोत्री व यमुनोत्री के कपाट खुलने के साथ हुआ और 17 नवम्बर को बद्रीनाथ के कपाट बंद होने के साथ ही यात्रा का समापन होगा। माह मई एवं जून में हिमालयी क्षेत्रों में खुषगंवार मौसम के चलते सर्वाधिक यात्रा संचालित हुई। जूलाई माह से बरसात के चलते यात्रा कुछ कमी आई मगर सितंबर माह से यात्रा ने फिर तेजी पकड़ ली। इस वर्श चारधाम एवं हेमकुण्ड साहिब में कुल 34 लाख 10 हजार 380 श्रद्धालुओं ने दर्षन किये, जबकि पिछले वर्श 2018 में 27 लाख 81 हजार 428 श्रद्धालु चारधाम एवं हेमकुण्ड साहिब की यात्रा पर आये थे। प्रत्येक धाम में पिछले वर्शों से अधिक यात्री इस वर्श दर्षन के लिए पहुंचे। सर्वाधिक आष्चर्यजनक आंकडे़ केदारनाथ धाम पहुंचने वाले यात्रियों के रहे, जहां पिछले वर्श 7 लाख 31 हजार 991 यात्रियों के मुकाबले इस वर्श लगभग 10 लाख यात्रियों ने बाबा केदार के  दर्षन के लिए दस्तक दी, जोकि एक कीर्तिमान है। वर्श 2013 में आई भयावह आपदा के बाद इतनी अधिक संख्या में श्रद्धालुओं का यहां पहंुचना उत्तराखंड सरकार के लिए एक असाधारण उपलब्धि है। केदारनाथ के लिए विभिन्न हैली कम्पनियों के वायुयानों ने कुल 20 हजार 9 सौ 15 उड़ाने भरी। इस वर्श लगभग 1 लाख से भी अधिक यात्री हैलीकाॅप्टर के द्वारा केदारनाथ पहंुचे। राज्य के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने केदारनाथ पुर्ननिर्माण के लिए युद्ध स्तर पर किए गए अवस्थापना कार्यों के लिए प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी का विषेश आभार प्रकट किया है। ज्ञातव्य है कि प्रधानमंत्री स्वयं कई मौकों पर केदारनाथ पहंुचकर पुर्ननिर्माण कार्यों का जायजा लेते रहे हैं। माह मई में उनके द्वारा रूद्र ध्यान गुफा में ध्यान करने के बाद यह गुफा श्रद्धालुओं के बीच विषेश आकर्शण का केन्द्र बन गई। राज्य के सचिव पर्यटन, दिलीप जावलकर कहते हैं कि चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की निरंतर बढ़ रही संख्या स्थानीय अर्थव्यवस्था की मजबूती की द्योतक है। स्थानीय लोगों को यात्रा मार्ग पर होम स्टे निर्माण हेतु प्रेरित करने के उद्देष्य से पंडित दीनदयाल गृह आवास-विकास (होम स्टे) योजना के माध्यम से आकर्शक सब्सिडी भी दी जा रही है। इस बारे में इच्छुक व्यक्ति जनपदीय पर्यटन कार्यालयों तथा पर्यटक सूचना केन्द्रों से अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। हमेशा की तरह बद्रीनाथ धाम सर्वाधिक श्रद्धालुओं के आगमन का केंद्र बना, जहां सर्वाधिक 11 लाख 74 हजार श्रद्धालुओं ने दर्षन किये। पिछले वर्श बद्रीनाथ में दर्षन करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या 10 लाख 48 हजार थी। यमुनोत्री में पिछले वर्श 3 लाख 94 हजार 445 श्रद्धालुओं ने दर्षन किए थे, जबकि इस वर्श 4 लाख 65 हजार 534 श्रद्धालुओं ने दर्शन किया। गंगोत्री धाम में पिछले वर्श 4 लाख 47 हजार 838 श्रद्धालुओं ने दर्षन किये जबकि इस वर्श 5 लाख 30 हजार 334 श्रद्धालु दर्षन करने पहंुचे। हेमकुण्ड साहिब में पिछले वर्श 1 लाख 59 हजार 103 श्रद्धालुओं के मुकाबले इस वर्श 2 लाख 40 हजार 478 श्रद्धालु दर्षन करने पहंुचे। चारधाम यात्रा के लिए सबसे पहले यमुनोत्री उसके बाद गंगोत्री की यात्रा की जाती है। गंगोत्री की यात्रा के बाद केदारनाथ और अंत में बद्रीनाथ जी की यात्रा होती है। इसके पश्चात श्रद्धालु वापस हरिद्वार और ऋशिकेष पहुंचते हंै। चारधाम यात्रा मार्गों पर गढ़वाल मण्डल विकास निगम के पर्यटक आवास गृह अवस्थित हैं, जिनकी बुकिंग यात्रियों को पहले से ही पैकेज के साथ करनी होती है। 

Leave A Comment