Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

खेल मंत्रालय द्वारा प्रतिभा पहचान पोर्टल की शुरूआत

vijay

युवा मामलों एवं खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विजय गोयल ने खेल विभाग के तहत प्रतिभा पहचान पोर्टल शुरू करने का फैसला किया है। इस पोर्टल का उद्देश्य देश के कोने-कोने के प्रतिभाशाली बच्चों को खेलों में उत्कृष्टता हासिल करने के लिये समुचित अवसर प्रदान करना है। बच्चे के खेल-प्रदर्शन और क्षमता को रेखांकित करने वाले वीडियो और फोटोग्राफ पोर्टल पर अपलोड किये जा सकेंगे। इन्हें स्वयं बच्चे, उनके माता-पिता, अध्यापक या अन्य लोग पोर्टल पर अपलोड कर सकते हैं। पड़ताल के बाद क्षमतावान बच्चों को कई तरह की जांचों से गुजरने का अवसर मिलेगा। यह जांच प्रक्रिया अन्य स्थानों के साथ-साथ निकट के साई केंद्र में की जायेगी। जो बच्चा जांच में सफल होगा उसे साई के प्रशिक्षण केंद्रों में प्रवेश दिया जायेगा। खेल मंत्रालय, राज्य सरकारों को ऐसे बच्चों को अपने केंद्रों में शामिल करने का आग्रह करेगा। जो प्रतिभावान बच्चे किसी कारणवश अपने घर से बाहर नहीं जा पायेंगे, उन्हें खेलों में उत्कृष्टता हासिल करने के लिये छात्रवृत्ति दी जायेगी। पोर्टल से प्रतिभावान बच्चों को अवसर मिलेगा कि वे अपने घर में ही रहकर खेल प्रशिक्षण केंद्रों में प्रवेश ले सकें और इसके लिये प्रक्रियाओं को सरल बनाया जायेगा। इस कदम से खासतौर से समाज के वंचित वर्गों के बच्चों को लाभ मिलेगा। योजना के अंतर्गत आठ साल या उससे अधिक आयु के प्रतिभाशाली बच्चों को लक्ष्य बनाया गया है। कार्यक्रम में राष्ट्रीय खेल परिसंघों, कार्पोरेट घरानों और अन्य हितधारकों को भी शामिल करने का प्रयास किया जा रहा है।

Leave A Comment