Breaking News:

इन देशो में नहीं देना पड़ता है आयकर, जानिए खबर -

Thursday, October 19, 2017

व्हाट्सऐप : अब कीजिये रियल टाइम लोकेशन भी शेयर , जानिए खबर -

Thursday, October 19, 2017

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत ने जनता को दिया 20 करोड का दीपावली सौगात -

Thursday, October 19, 2017

उत्तराखंड के प्रदेश अध्यक्ष बने इंजिनियर राजीव गुप्ता , जानिए खबर -

Thursday, October 19, 2017

मैड संस्था गरीब बच्चों के संग मनाई दीपावली -

Thursday, October 19, 2017

छात्रा ने की आत्महत्या -

Tuesday, October 17, 2017

आखिर क्यों पिघल रही है कार , जानिए खबर….. -

Tuesday, October 17, 2017

दीपावली : घर की साज सज्जा करे वास्तु शास्त्र के अनुसार -

Tuesday, October 17, 2017

उत्तराखंड क्रिकेट : बीसीसीआई मान्यता जल्द -

Monday, October 16, 2017

कांग्रेस सरकार के कार्यकाल की योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन करेंगे नरेन्द्र मोदी : रावत -

Monday, October 16, 2017

बिना जूतों के दौड़े और इसके बावजूद भी मेडल , गरीबी को दी मात , जानिये खबर -

Monday, October 16, 2017

WWE रिंग में मुकाबला करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी कविता -

Monday, October 16, 2017

उत्तराखंड : कांग्रेसी नेता के आफिस में घुसे बदमाश, जेवर व नगदी लूटी -

Sunday, October 15, 2017

मुख्यमंत्री से ब्लाइन्ड क्रिकेट ऐसोसिएशन के सदस्यों ने की शिष्टाचार भेंट -

Sunday, October 15, 2017

मैड एवं अपने सपने समेत अनेक संगठनों ने दीवाली पर बम पटाखे न फोड़ने की संयुक्त अपील -

Sunday, October 15, 2017

यूथ आईकॉन से 39 हस्तियों का हुआ सम्मान -

Sunday, October 15, 2017

डीएम व अपर सचिव ने किया गुच्चू पानी में सफाई अभियान -

Sunday, October 15, 2017

“मैड” ने बदली गन्दी दीवार की कायाकल्प -

Saturday, October 14, 2017

कौन बनेगा करोड़पति शो अंतिम पड़ाव में …. -

Saturday, October 14, 2017

T20 : आखिरी मैच रद्द , सीरीज बराबरी पर समाप्त -

Saturday, October 14, 2017

गरीबी में हुई थी देश को तिरंगा देने वाले की मौत, जानिए खबर….

Tiranga-Flag

ध्वज का आरंभिक स्वरूप गांधीजी के सामने पेश करने से पहले करीब 30 देशों के राष्ट्रीय ध्वजों का विश्लेषण किया था राष्ट्रीय ध्वज की कल्पना करने वाले पिंगली वेंकैया ने आप जानते हैं कि भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा का निर्माता कौन था? आज जो तिरंगा भारत काराष्ट्रीय ध्वज है उसका सफर 1921 में आजादी से पहले शुरू हुआ था। उससे पहले भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अलग-अलग मौकों पर भिन्न-भिन्न झंडों का प्रयोग करते थे। 1921 में आंध्र प्रदेश के रहने वाले पिंगली वेंकैया ने अखिल भारतीय कांग्रेस कार्य समिति के बेजवाड़ा ह्अब विजयवाड़ा सत्र में महात्मा गांधी के सामने भारत के राष्ट्रीय ध्वज के तौर पर लाल और हरे रंग का झंडा प्रस्तुत किया। देश को तिरंगा देने वाले पिंगली वेंकैया का जन्म दो अगस्त 1876 को वर्तमान आंध्र प्रदेश में हुआ था। पिंगली वेंकैया भूविज्ञान और कृषि क्षेत्र से विशेष लगाव था। वो हीरे की खदानों के विशेषज्ञ थे इसलिए उन्हें ‘डायमंड वेंकैया’ भी कहा जाता था। वेंकैया 1906 से 1911 तक अपने जीवन का बड़ा हिस्सा कपास की विभिन्न किस्मों पर शोध में व्यतीत किया था इसलिए उन्हें ‘पट्टी ह्कपास वेंकैया’ भी कहा जाता था। उन्होंने कंबोडियाई कपास की एक किस्म पर अपना शोध पत्र भी प्रकाशित करवाया था। माना जाता है कि पिंगली वेंकैया ने ध्वज का आरंभिक स्वरूप गांधीजी के सामने पेश करने से पहले करीब 30 देशों के राष्ट्रीय ध्वजों का विश्लेषण किया था। भारत को आजादी मिलने से पहले संविधान सभा ने जून 1947 में राजेंद्र प्रसाद की अध्यक्षता वाली समिति को भारत के राष्ट्रीय ध्वज की परिकल्पना प्रस्तुत करने की जिम्मेदारी दी। मौलाना अब्दुल कलाम आजाद, सरोजनी नायडू, सी राजागोपालचारी, केएम मुंशी और बीआर आंबेडकर इस समिति के सदस्य थे। समिति ने सुझाव दिया कि कांग्रेस के झंडे को ही कुछ बदलाव के साथ भारतीय के राष्ट्रीय ध्वज के रूप में स्वीकार कर लेना चाहिए। गांधीवादी वेंकैया ने पूरा जीवन सादगी से गुजारा। चार जुलाई 1963 को आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में एक झोपड़ी में उनका निधन हो गया। आजादी के बाद चार दशकों तक वेंकैया सरकारी उपेक्षा के शिकार रहे। साल 2009 में भारत सरकार ने उनकी सुध लेते हुए उनकी स्मृति में डाक टिकट जारी किया। साल 2015 में विजयवाड़ा के आल इंडिया रेडियो भवन के बाहर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने पिंगली वेंकैया की प्रतिमा का अनावरण किया। हालांकि देश को तिरंगा देने वाले वेंकेया के बारे में सरकार का रुख इस बात से भी बता चलता है कि भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर दिए fiतिरंगे के इतिहासfl में पिंगली वेंकैया का नाम तक नहीं है। उन्हें बस आंध्र प्रदेश का एक युवक बताया गया है।

Leave A Comment