Breaking News:

जल्द खुलेगा जैनेरिक दवाओं का स्टोर : डीएम -

Thursday, August 17, 2017

आयरन लेडी इरोम शर्मिला ने की शादी -

Thursday, August 17, 2017

एक बूढ़ी महिला बीमार पति को ठेले से खींच हॉस्पिटल पहुंची,खबर हुई वायरल -

Thursday, August 17, 2017

उत्तराखंड की संस्कृति के रंग दिखेंगे इस फैशन वीक-2017 में -

Thursday, August 17, 2017

गंगा संरक्षण रथ यात्रा को सीएम ने दिखायी हरी झण्डी -

Thursday, August 17, 2017

टॉपलेस हुई बिग बॉस कंटेस्टेंट, फोटो हुआ वायरल -

Thursday, August 17, 2017

यूपी – उत्तराखंड : सेना में भर्ती के लिए करे 20 सितंबर तक ऑनलाइन आवेदन -

Wednesday, August 16, 2017

भारत के इस क्रिकेटर की 4 साल बाद मैदान पर हुई वापसी -

Wednesday, August 16, 2017

आधार-पैन लिंकिंग पर आई बड़ी ख़बर, जानिये ख़बर … -

Wednesday, August 16, 2017

90 साल के नत्थे सिंह आजादी की रात से बना रहे तिरंगा -

Wednesday, August 16, 2017

बंद हो चुकी है अब तक 1.94 लाख कंपनियां…. -

Wednesday, August 16, 2017

डाॅ.ए.पी.जे.अब्दुल कलाम के नाम से जाना जाएगा सचिवालय का मुख्य भवन -

Tuesday, August 15, 2017

लाल किले पर दिखी उत्तराखण्ड की संस्कृति एवं वेशभूषा -

Tuesday, August 15, 2017

जेडीयू पूर्व मंत्री-सांसद समेत 21 लोगों को किया निलंबित -

Monday, August 14, 2017

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दस कैदियों की सजा होगी माफ ! -

Monday, August 14, 2017

जो सुई के छेद से निकल जाए ऐसा है दुनिया का सबसे छोटा सोने का तिरंगा, जानिये ख़बर -

Monday, August 14, 2017

आइंस्टीन का लेटर हुआ 14 लाख में नीलाम -

Monday, August 14, 2017

पूरा गांव व दो बसें मलबे में दफन, 50 लोगों की मौत -

Monday, August 14, 2017

नए नोट छापने में RBI के 13 हजार करोड़ रूपये हुए खर्च -

Saturday, August 12, 2017

बस मेरा बकाया चुका दो : दिनेश मोंगिया -

Saturday, August 12, 2017

गरीबी में हुई थी देश को तिरंगा देने वाले की मौत, जानिए खबर….

Tiranga-Flag

ध्वज का आरंभिक स्वरूप गांधीजी के सामने पेश करने से पहले करीब 30 देशों के राष्ट्रीय ध्वजों का विश्लेषण किया था राष्ट्रीय ध्वज की कल्पना करने वाले पिंगली वेंकैया ने आप जानते हैं कि भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा का निर्माता कौन था? आज जो तिरंगा भारत काराष्ट्रीय ध्वज है उसका सफर 1921 में आजादी से पहले शुरू हुआ था। उससे पहले भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अलग-अलग मौकों पर भिन्न-भिन्न झंडों का प्रयोग करते थे। 1921 में आंध्र प्रदेश के रहने वाले पिंगली वेंकैया ने अखिल भारतीय कांग्रेस कार्य समिति के बेजवाड़ा ह्अब विजयवाड़ा सत्र में महात्मा गांधी के सामने भारत के राष्ट्रीय ध्वज के तौर पर लाल और हरे रंग का झंडा प्रस्तुत किया। देश को तिरंगा देने वाले पिंगली वेंकैया का जन्म दो अगस्त 1876 को वर्तमान आंध्र प्रदेश में हुआ था। पिंगली वेंकैया भूविज्ञान और कृषि क्षेत्र से विशेष लगाव था। वो हीरे की खदानों के विशेषज्ञ थे इसलिए उन्हें ‘डायमंड वेंकैया’ भी कहा जाता था। वेंकैया 1906 से 1911 तक अपने जीवन का बड़ा हिस्सा कपास की विभिन्न किस्मों पर शोध में व्यतीत किया था इसलिए उन्हें ‘पट्टी ह्कपास वेंकैया’ भी कहा जाता था। उन्होंने कंबोडियाई कपास की एक किस्म पर अपना शोध पत्र भी प्रकाशित करवाया था। माना जाता है कि पिंगली वेंकैया ने ध्वज का आरंभिक स्वरूप गांधीजी के सामने पेश करने से पहले करीब 30 देशों के राष्ट्रीय ध्वजों का विश्लेषण किया था। भारत को आजादी मिलने से पहले संविधान सभा ने जून 1947 में राजेंद्र प्रसाद की अध्यक्षता वाली समिति को भारत के राष्ट्रीय ध्वज की परिकल्पना प्रस्तुत करने की जिम्मेदारी दी। मौलाना अब्दुल कलाम आजाद, सरोजनी नायडू, सी राजागोपालचारी, केएम मुंशी और बीआर आंबेडकर इस समिति के सदस्य थे। समिति ने सुझाव दिया कि कांग्रेस के झंडे को ही कुछ बदलाव के साथ भारतीय के राष्ट्रीय ध्वज के रूप में स्वीकार कर लेना चाहिए। गांधीवादी वेंकैया ने पूरा जीवन सादगी से गुजारा। चार जुलाई 1963 को आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में एक झोपड़ी में उनका निधन हो गया। आजादी के बाद चार दशकों तक वेंकैया सरकारी उपेक्षा के शिकार रहे। साल 2009 में भारत सरकार ने उनकी सुध लेते हुए उनकी स्मृति में डाक टिकट जारी किया। साल 2015 में विजयवाड़ा के आल इंडिया रेडियो भवन के बाहर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने पिंगली वेंकैया की प्रतिमा का अनावरण किया। हालांकि देश को तिरंगा देने वाले वेंकेया के बारे में सरकार का रुख इस बात से भी बता चलता है कि भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर दिए fiतिरंगे के इतिहासfl में पिंगली वेंकैया का नाम तक नहीं है। उन्हें बस आंध्र प्रदेश का एक युवक बताया गया है।

Leave A Comment