Breaking News:

उत्तराखंड सरकार की हाईकोर्ट ने की तारीफ -

Monday, December 11, 2017

शादीशुदा जोड़ों का अनोखा शो ‘‘आपकी खूबसूरती उनकी नज़र से’’ -

Monday, December 11, 2017

जज्बा हो तो सब मुमकिन है, जानिये खबर -

Monday, December 11, 2017

जन क्रांति विकास मोर्चा ने ड्रग माफियाओं का फूंका पुतला -

Monday, December 11, 2017

गरीब बच्चो का हक न मारे रावत सरकार : आम आदमी पार्टी -

Monday, December 11, 2017

पर्वतीय क्षेत्र में विकास मील का पत्थर होगा साबित : मुख्यमंत्री -

Monday, December 11, 2017

मैड संस्था ने नगर निगम को सुझाया साफ़ सफाई रूपी “रास्ते” -

Monday, December 11, 2017

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

गरीब महिलाओं को छात्रों ने दिया ‘अधिकार’

pahal

नई दिल्ली | पूर्वी दिल्ली की कुछ महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने में दिल्ली स्कूल ऑफ आर्ट्स ऐंड कॉमर्स के 11 छात्रों ने मदद की। इन स्टू़डेंट्स ने ‘अधिकार’ नाम का एक प्रॉजेक्ट तैयार किया जिसके तहत महिलाओं को शिष्टाचार, आत्मरक्षा के गुर और ड्राइविंग करना सिखाया गया। इसके अलावा इन छात्रों ने महिलाओं को ट्रैफिक के नियमों के बारे में जानकारी दी और ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में भी मदद की। इन स्टूडेंट्स ने गरीब महिलाओं को माइक्रो-फाइनैंस के जरिए ई-रिक्शा खरीदने में भी मदद की। रोजगार के इस साधन से ये महिलाएं औसतन 30,000 रुपये महीने की कमाई कर रही हैं। स्टूडेंट्स ने साल 2015 में इस प्रॉजेक्ट की शुरुआत की और ये स्टूडेंट्स 10 लाख अमेरिकी डॉलर की सीड फंडिंग की कोशिश कर रहे हैं।  इस प्रॉजेक्ट के मेंबर स्टूडेंट ऋषभ कोहली ने कहा, ‘हमने महिला शोषण की समस्या से शुरुआत की थी। हमने पाया कि मेट्रो महिलाओं के लिए सुरक्षित है लेकिन उसके बाहर? स्टडी से पता चलता है कि 67 फीसदी महिलाएं यौन शोषण का शिकार हुई हैं।’ अधिकार प्रॉजेक्ट को अब तक कई अवॉर्ड मिल चुके हैं। प्रॉजेक्ट को वॉलमार्ट विमिन एम्पावरमेंट ग्रांट, महिंद्रा राइज ग्रांट, ब्लूडार्ट ग्रांट और इनैक्टस इंडिया अवॉर्ड्स से नवाजा जा चुका है। महिलाओं के यौन शोषण की समस्या का समाधान दो पहलुओं वाले मॉडल के रूप में सामने आया। पहला, कैब-रिक्शा-ऑटो और मेट्रो में महिला ड्राइवर होना ताकि वे कहीं आने-जाने में सुरक्षित महसूस कर सकें और दूसरा उन्हें रोजगार मिल सके

Leave A Comment