Breaking News:

गडकरी, एम्स डायरेक्टर समेत आठ लोगों के खिलाफ मातृसदन दर्ज कराएगा हत्या का मुकदमा -

Monday, October 15, 2018

साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव पहुंचे सहायता : राज्यपाल -

Monday, October 15, 2018

#MeToo: बॉलिवुड की अभिनेत्रियों ने आरोपियों के साथ काम करने से किया इंकार -

Monday, October 15, 2018

भारतीय टीम ने वेस्ट इंडीज को हराकर हासिल की शानदार जीत -

Monday, October 15, 2018

“मैड” के सपने को मिला नया नेतृत्व -

Sunday, October 14, 2018

देश के लिए डॉ.कलाम का अद्वितीय योगदान रहा : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, October 14, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण -

Sunday, October 14, 2018

रूपातंरण कार्यक्रम सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भीः राज्यपाल -

Sunday, October 14, 2018

केदारनाथ यात्रा : 7 लाख के पार पहुंची दर्शनार्थियों की संख्या -

Sunday, October 14, 2018

“उपहार” का निराश्रित बेटियों की शादी में सराहनीय प्रयास -

Sunday, October 14, 2018

अधिकारी एवं कर्मचारी पूरी निष्ठा व ईमानदारी से करे कार्य : सीएम -

Saturday, October 13, 2018

राज्यपाल ने किया पंतनगर विश्वविद्यालय एवं जी.जी.आई.सी.का भ्रमण -

Saturday, October 13, 2018

मिस बॉलीवुड के लिए कॉम्पीटिशन का आयोजन -

Saturday, October 13, 2018

उद्यमी के घर पर भीड़ ने किया हमला -

Saturday, October 13, 2018

उत्तराखण्ड व हरियाणा के मध्य जल्द बहुद्देशीय परियोजनाओं के सम्बन्ध में एमओयू -

Saturday, October 13, 2018

दो दशक के बाद भारत और चीन के बीच फुटबॉल मैच -

Saturday, October 13, 2018

14 अक्टूबर को हाम्रो दशैं कार्यक्रम का भव्य आयोजन -

Friday, October 12, 2018

झलक एरा करेगा महिलाओं का सम्मान समारोहः मीनाक्षी -

Friday, October 12, 2018

फैशन प्रतियोगिता में माॅडलों ने बिखेरे जलवे -

Friday, October 12, 2018

#MeToo : अब पीयूष मिश्रा पर महिला पत्रकार ने लगाए आरोप -

Friday, October 12, 2018

गौरीकुंड से रामबाड़ा रोप-वे का विरोध, जानिए खबर

uk

रुद्रप्रयाग। विश्व प्रसिद्ध तीर्थ धाम केदारनाथ धाम में तीर्थ यात्रियों की सुविधा को देखते हुए सरकार ने गौरीकुंड से रामबाड़ा रोप-वे के निर्माण का निर्णय लिया है, जबकि 2002 से तत्कालीन तिवारी सरकार ने भी गौरीकुंड से रामबाड़ा रोप-वे निर्माण का ऐलान किया था, लेकिन 16 साल बाद फिर भाजपा सरकार ने यात्रियों की सुविधा को देखते हुये रो-वे निर्माण को हरी झंडी दे दी। केदारनाथ यात्रा से पन्द्रह हजार मजदूर जुड़े हुये हैं और मजदूरों को यह भय सताने लगा है कि रोप-वे का निर्माण होने से मजदूर बेरोजगार हो जाएंगे। केदारनाथ यात्रा से जुड़े मजदूरों ने रोप-वे का विरोध करते हुये स्पष्ट कहा कि सरकार रोप-वे निर्माण से पहले मजदूरों के भविष्य पर भी विचार करे। 2013 की आपदा से प्रभावित मजदूरों ने कहा कि सरकार को हवाई सेवाएं एवं रोप-वे निर्माण के बजाय गौरीकुंड से केदारनाथ मोटरमार्ग का निर्माण करना चाहिए। पूर्व जिला पंचायत सदस्य एवं मजदूर नेता गोविंद सिंह रावत ने कहा कि केदारनाथ यात्रा से हजारों मजदूरों का भविष्य जुड़ा हुआ है और सरकार को रोप-वे निर्माण से पहले मजदूरों के चैपट होते रोजगार पर भी सोचना चाहिये। उन्होंने कहा कि 2013 की दैवीय आपदा से मजदूर अभी तक उभर नहीं पाये हैं और रोप-वे का निर्माण होने से मजदूरों का असित्तव ही समाप्त हो जायेगा। उन्होंने कहा कि पहले सरकार ने हवाई सेवा शुरू कर मजदूरों को धक्का खाने के लिये मजबूर कर दिया है और अब रोप-वे के निर्माण से यात्रा से जुड़े मजदूर दो रोटी नसीब के लिये भी मोहताज हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार को हवाई सेवा एवं रोप-वे के निर्माण करने के बजाय गौरीकुंड से केदारनाथ मोटरमार्ग का निर्माण करना चाहिये, जिससे मजदूर यात्रा मार्ग पर अपना व्यवसाय कर सकें, लेकिन सरकार मोटरमार्ग निर्माण के बजाय रोप-वे का निर्माण करने जा रही है। श्री रावत ने कहा कि सरकार ने हवाई सेवाएं बंद और रोप-वे का निर्माण मजदूरों के विरोध के बाद भी किया तो सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ा जायेगा। उन्होंने कहा कि सालों से जनता सड़क की मांग को लेकर अपनी बात रख चुकी है, लेकिन सड़क निर्माण के बजाय बाहरी धन्ना सेठों को यहां लाकर यहां के बेरोजगारों के रोजगार को छीनने का प्रयास कर रही है, जिसे मजदूर कभी भी बर्दाश्त नहीं करेंगे।

Leave A Comment