Breaking News:

उत्तराखंड : निकाय चुनाव का मतदान 18 नवंबर को -

Monday, October 15, 2018

व्यंग्यः कितना दर्द दिया मीटू के टीटू ने…..! -

Monday, October 15, 2018

टिहरी गढ़वाल के बंगसील स्कूल में सफाई अभियान की अनोखी पहल -

Monday, October 15, 2018

गडकरी, एम्स डायरेक्टर समेत आठ लोगों के खिलाफ मातृसदन दर्ज कराएगा हत्या का मुकदमा -

Monday, October 15, 2018

साधन विहीन व निर्बल वर्ग के बच्चों को यथा सम्भव पहुंचे सहायता : राज्यपाल -

Monday, October 15, 2018

#MeToo: बॉलिवुड की अभिनेत्रियों ने आरोपियों के साथ काम करने से किया इंकार -

Monday, October 15, 2018

भारतीय टीम ने वेस्ट इंडीज को हराकर हासिल की शानदार जीत -

Monday, October 15, 2018

“मैड” के सपने को मिला नया नेतृत्व -

Sunday, October 14, 2018

देश के लिए डॉ.कलाम का अद्वितीय योगदान रहा : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, October 14, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण -

Sunday, October 14, 2018

रूपातंरण कार्यक्रम सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भीः राज्यपाल -

Sunday, October 14, 2018

केदारनाथ यात्रा : 7 लाख के पार पहुंची दर्शनार्थियों की संख्या -

Sunday, October 14, 2018

“उपहार” का निराश्रित बेटियों की शादी में सराहनीय प्रयास -

Sunday, October 14, 2018

अधिकारी एवं कर्मचारी पूरी निष्ठा व ईमानदारी से करे कार्य : सीएम -

Saturday, October 13, 2018

राज्यपाल ने किया पंतनगर विश्वविद्यालय एवं जी.जी.आई.सी.का भ्रमण -

Saturday, October 13, 2018

मिस बॉलीवुड के लिए कॉम्पीटिशन का आयोजन -

Saturday, October 13, 2018

उद्यमी के घर पर भीड़ ने किया हमला -

Saturday, October 13, 2018

उत्तराखण्ड व हरियाणा के मध्य जल्द बहुद्देशीय परियोजनाओं के सम्बन्ध में एमओयू -

Saturday, October 13, 2018

दो दशक के बाद भारत और चीन के बीच फुटबॉल मैच -

Saturday, October 13, 2018

14 अक्टूबर को हाम्रो दशैं कार्यक्रम का भव्य आयोजन -

Friday, October 12, 2018

जरा हटके : मुसलमानों ने की गुरु पूर्णिमा की पूजा

ekta

धर्म के आड़ में जहाँ एक तरफ नफरत का साया मड़राता है वही धर्म को लेकर राजनीति भी जनता के बीच खेली जाती है वही एक तरफ धर्म नगरी काशी में गुरु पूर्णिमा के अवसर पर सांप्रदायिक सद्भावना का वह नजारा देखने को मिला जिसके लिए कभी महान संत रामानंद एवं उनके शिष्‍य कबीर ने सपना देखा था। पातालपुरी मठ में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पीठाधीश्‍वर महंत बालक दास की आरती उतार पूरी दुनिया को संदेश दिया। काशी के विख्‍यात आश्रमों से लेकर मठों-विद्यालयों तक में गुरु पूर्णिमा उत्‍सव की धूम रही। पड़ाव स्थित भगवान अवधूत राम आश्रम, रवीद्रपुरी स्थित बाबा कीनाराम आश्रम, गढ़वा घाट, मणिकर्णिका स्थित सतुआ बाबा आश्रम, अखाड़ा गोस्‍वामी तुलसीदास, अन्‍नपूर्णा मठ, मछली बंदर मठ, धर्मसंघ, परमहंस आश्रम समेत अन्‍य आश्रमों में बड़ी संख्‍या में शिष्‍यों के गुरु पूजन करने पहुंचने से मेले सा नजारा रहा। अखाड़ा गोस्‍वामी तुलसीदास में गोस्‍वामी तुलसीदास की खड़ाऊं, उनके तैलचित्र और मानस की मूल पोथी का पूजन किया गया। शहर के बीच स्थित पातालपुरी मठ में मुस्लिम धर्मगुरु इरफान अहमद शम्‍सी, मुस्लिम राष्‍ट्रीय मंच के नेता मो. अजहरुद्दीन और उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की सदस्‍य नाजनीन अंसारी के साथ पहुंचे मुस्लिम भाई-बहनों ने महंत बालक दास का माल्‍यार्पण कर आरती उतारी और दुपट्टा ओढ़ाकर सम्‍मान किया। कोई भी धर्म भेद नहीं सिखाता है। सभी धर्मों में गुरु को सर्वोच्‍च स्‍थान प्राप्‍त है। रामानंद ने कबीर को शिष्‍य बनाकर संदेश दिया था कि धर्म के आधार पर भेदभाव इंसानियत के खिलाफ है।

Leave A Comment