Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण

hard

चम्पावत। डिप्रेशन एक छोटा सा शब्द है लेकिन इसके परिणाम बहुत ही भयावह हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार मानसिक रोगों में डिप्रेशन विश्व में हार्ट अटैक के बाद मृत्यु का दूसरा बड़ा कारण है। मानसिक रोग पूरी दुनिया में एक महामारी का रूप ले चुका है। ऐसा माना जाता है कि आज चार में से एक व्यक्ति मानसिक अवसाद, मानसिक तनाव का शिकार है। लेकिन समय पर उपचार से यह ठीक भी हो जाता है। अधिकांश लोग मानसिक रोग को पागलपन से जोड़ते हैं। जबकि मानसिक रोग एक बीमारी है जो किसी व्यक्ति को हो सकती है और सही समय पर परामर्श व उपचार से यह ठीक भी हो जाती है। लेकिन अहम बात यह है कि लोगों को पता ही नहीं होता कि वे मानसिक रोग के शिकार हो रहे हैं और अगर पता है भी तो उपचार कहां होगा या कैसे कराएं की जानकारी नहीं होती। नेशनल मेंटल हैल्थ एक्ट के तहत प्रत्येक जिले से एक एमबीबीएस डॉक्टर को केंद्रीय मान्यता प्राप्त इंस्टिट्यूट से मानसिक चिकित्सा की ट्रेनिंग कराई जा रही है। जिससे लोगों को मानसिक अवसाद, तनाव आदि से छुटकारा मिल सके। यहां जिला चिकित्सालय में भी चिकित्सकों द्वारा मानसिक रोगियों का उपचार किया जा रहा है। विगत छह माह में जिला चिकित्सालय में 300 से अधिक मानसिक रोगियों का उपचार किया जा चुका है तथा 50 मानिसिक रोगियों को नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हैल्थ एंड न्यूरो साइंस बैंगलोर से वीडियो कंसल्टेशन भी कराया जा रहा है। इसके अलावा वर्ष 2017 से जनपद में संचालित राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम में प्रति वर्ष ओपीडी एवं शिविरों में 250 से 300 तक व्यक्तियों को व्यैक्तिक मानसिक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की गई हैं। जिला चिकित्सालय में डॉ. राजेश कुमार गुप्ता व साइकेट्रिक सोशल वर्कर हेम बहुगुणा लोगों को मानसिक रोग के प्रति जागरुक किया जा रहा है।

Leave A Comment