Breaking News:

भारतीय फुटबॉलर प्रथमेश ने किया रैंप -

Monday, October 14, 2019

कवि सम्मेलन : प्यार से भी हम मर जाते, आपने क्यों हथियार खरीदा… -

Monday, October 14, 2019

तीन निजी शिक्षण संस्थानों के खिलाफ दर्ज हुए केस, जानिए खबर -

Monday, October 14, 2019

आम लोगों के लिए लगाया प्याज मेला , जानिए ख़बर -

Monday, October 14, 2019

उत्तराखंड : मंत्रिमण्डल की बैठक होगी पेपरलेस -

Monday, October 14, 2019

जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

दून में लाइफस्टाइल फैशन वीक हुआ शुरू -

Sunday, October 13, 2019

चमोली में मैक्स गिरी खाई में नौ लोगों की मौत -

Sunday, October 13, 2019

एक वर्ष हो गए अभी भी घोषित नहीं हुए परीक्षा परिणाम , जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

“भारत भारती” के नाम से राज्य में प्रतिवर्ष हो एक कार्यक्रम -

Sunday, October 13, 2019

जापान में 60 साल का सबसे भीषण तूफान -

Saturday, October 12, 2019

बिग बॉस धारावाहिक के खिलाफ रक्षा दल -

Saturday, October 12, 2019

अज्ञात बीमारी से एक माह में छह लोगों की हो चुकी मौत,जानिए ख़बर -

Saturday, October 12, 2019

विरासत: कत्थक डांसर गरिमा आर्य व शाहिद नियाजी की प्रस्तुति -

Saturday, October 12, 2019

छड़ी यात्रा से उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, October 12, 2019

समय पर इलाज कराइए, जोड़ों के दर्द को दूर भगाइए -

Friday, October 11, 2019

फैशन वीक कल से , जानिए खबर -

Friday, October 11, 2019

पर्यावरणविद चंडी प्रसाद भट्ट को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पुरस्कार -

Friday, October 11, 2019

गाजियाबाद से पिथौरागढ़ हवाई सेवा शुरू, जानिए ख़बर -

Friday, October 11, 2019

अस्पताल ईलाज के दौरान मौत पर ईलाज का भुगतान बिल करे माफ : अपने सपने संस्था -

Friday, October 11, 2019

देहरादून : जीपीएस आराघर स्कूल में पेंटिंग कार्यक्रम का आयोजन

देहरादून । बच्चों के समय का बड़ा हिस्सा स्कूल में पढाई करते हुए क्लासरूम में बीतता हैं। स्कूल या क्लासरूम ही ऐसी जगह हैं जहां वे अपने कौशल के विकास के साथ-साथ, अपने साथियों के साथ मिलकर जीवन मूल्यों को विकसित करतें हैं। स्कूल में ही वे अपने व्यक्तित्व का निर्माण करते हैं, जो उन्हें बाद में समाज के साथ मिलझुल कर रहने और समाज में प्रतिष्ठा पाने में मदद करता हैं। स्कूल एक बच्चे के समग्र विकास में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं, तब ये जरुरी हो जाता है की स्कूल के वातावरण को दोस्ताना बनाया जाएँ और बच्चों को मजेदार गतिविधिओं के माध्यम से जरुरी चीजें सिखाया जाएँ।  स्कूल में सीखने के तरीकों को सुखद और प्रभावशाली बनाने के लिए, हनीवेल सेफ स्कूल्स प्रोग्राम के तहत सीड्स ने देहरादून के जीपीएस आराघर स्कूल में पेंटिंग के कार्यक्रम का आयोजन किया गया। सीड्स टीम के सदस्यों और हनीवेल इंडिया के वालंटियर्स ने पीले, हरे और नीले रंगों में स्कूल को पेंट किया। मनोवैज्ञानिको का कहना है की पीला ,हरा, और नीला रंग आंखों को भाता है और ये रंग एक खुश -नुमा माहौल बनाने में मददगार होता हैं। दिवारों को पेंट करने के कारण स्कूल को पूरी तरह से एक नया रूप मिल गया। स्कूल को रंगने में मदद करने के लिए हनीवेल इंडिया और सीड्स के 32 वालंटियर्स ने इस काम में अपना योगदान दिया।स्कूल की प्रिंसिपल, सुश्री लक्ष्मी ढौंडियाल, स्कूल को नया रूप देने के लिए वालंटियर्स ने जिस उत्साह  के साथ काम किया उसे देखकर रोमांचित हो गईं और उन्होंने आगे आकर स्कूल के लिए कार्य करने के लिए की सराहना की। उन्हें इस बात की खुशी थी की अब बच्चों के पास पढ़ने के लिए एक खुशनुमा और नया माहौल होगा। वालंटियर्स ने मौसम की परवाह नहीं करते हुए बड़ी संख्या में भाग लेकर स्कूल को एक नया रूप दिया। ज्यादातर वालंटियर्स ने ये महसूस किया की ये नया कलर-फुल वातावरण युवा बच्चों को अपनी रचनात्मकता बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करेगा। स्कूल को कलर करते वक्त वोलन्टीयर्स के बीच उत्सव जैसा माहौल था। अपने लिए आंवटित कार्य को करते हुए वे बहुत खुश थे। कार्यक्रम के अंत में स्कूल के प्रिंसिपल और टीचर्स ने स्कूल को नया कलर-फूल रूप देने के लिए वालंटियर्स के प्रयासों की सराहना की।

Leave A Comment