Breaking News:

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : प्रदेश भाजपा ने विभिन्न समितियों का गठन किया -

Tuesday, May 26, 2020

कोरोना संक्रमित लोगों की जाँच कर रहे अस्पतालो को मिलेगा 50 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : 51 कोरोना मरीज और मिले, संख्या हुई 400 -

Tuesday, May 26, 2020

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

ऑटो-रिक्शा चालकों ने की आर्थिक सहायता की मांग -

Sunday, May 24, 2020

दुःखद : महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या -

Sunday, May 24, 2020

अन्नपूर्णा रोटी बैंक चैरिटेबल ट्रस्ट पुलिस कर्मियों को पुष्प भेंट किया सम्मान -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो कि संख्या हुई 317 -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड: राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 298 -

Sunday, May 24, 2020

पानी में डूबकर दम घुटने से हुई युवती की मौत -

Saturday, May 23, 2020

उत्तराखंड में कोरोना का कहर , मरीजो की संख्या हुई 244 -

Saturday, May 23, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने कांस्टेबल स्व0 संजय गुर्जर की पत्नी को 10 लाख रूपये का चेक सौंपा -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना का कोहराम : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 173 हुई -

Saturday, May 23, 2020

कोरोना की मार: ठेले पर फल बेच जीविका चलाने को मजबूर यह कलाकार -

Saturday, May 23, 2020

सचिन आनंद एंव गणेश चन्द्र ठाकुर चुने गए कोरोना वॉरियर्स ऑफ द डे -

Friday, May 22, 2020

दोनों हाथ नही पर रानी ने अपने दोनों पैरो से भरी उड़ान

rani

वाराणसी से करीब 40 किलोमीटर दूर बड़ागांव ब्लॉक के दल्लीपुर ताड़ी गांव में जन्मी 23 साल की रानी की कहानी किसी नायिका से कम नहीं है | ये कहानी है उस विकलांग बच्ची की जिसने अपनी जिंदगी ९ साल की उम्र में पहले गरीबी देखी | फिर एक दुर्घटना में अपनी दोनों हाथे गवानी पड़ी | विदित हो की यह जानकर हैरानी होगी कि रानी इस समय मुंबई आईआईटी से एमटेक कर रही है. हालांकि, उसका यहां तक पहुंचने का सफर किसी विकलांग पर्वतारोही के एवरेस्ट चढ़ने से भी कठिन था | 9 साल की मासूम रानी को यह नही जानकारी थी की हाथ कट जाने के बाद दोबारा नहीं लगाए सकते है | जिन हाथों से कभी वो जिस गुड़िया को सजाती थी उसे गंदा देख रानी तड़प उठती. वो अपने दर्द को भूल जाती | रानी के पिता महेश एक गरीब किसान थे वह दोनों हाथ लगवाने में असमर्थ थे |

STUDENT

रानी जब अपने पिता से कहती थी की मुझे पढ़ना लिखना है तो उनके पिता के आखो में आंसू के अलावा कोई और चारा नही था | हादसे के बाद रानी को देख घर का माहौल ऐसा था कि मां उसे देख आंसू रोक न पाती और पिता महेश अपने दर्द को छलकने न देते. ऐसे हालात में रानी की मां उसका सहारा बनीं और उसको इस बात का अहसास न होने देती कि वो अपने दोनों हाथ खो चुकी है. मां ने रानी को जीना सिखाया और पैरों से लिखना सीखने के लिए प्रेरणा दी | माँ की प्रेणना से वह अपनी उड़ान को दो पैरो के सहारे शुरू की जो अब इंजीनियरिंग कर अपनी माँ की प्रेणना को सफल बनाया | आज अपने हौसलों से रानी का सपना है कि वो आईएएस बनकर गरीब बच्चों की मदद करें | उनका इस बात का हमेशा मलाल रहता है कि सबने उसकी मदद की, लेकिन सरकार की ओर से कोई मदद नहीं मिली |

Leave A Comment