Breaking News:

शैल का नया गीत “कोका” बना युवा दिलो का धड़कन -

Saturday, July 21, 2018

मुख्यमंत्री केरवां गांव से रिस्पना पुनर्जीविकरण का करेंगे शुभारंभ जानिये खबर -

Saturday, July 21, 2018

डब्ल्यूआईसी इंडिया में फोटो प्रदर्शनी को कला प्रेमियों ने सराहा -

Saturday, July 21, 2018

देशभर में सेब का हब बन सकता है उत्तराखण्ड, जानिये खबर -

Saturday, July 21, 2018

सीएम त्रिवेंद्र कल केरवां गांव से रिस्पना पुनर्जीविकरण का करेंगे शुभारंभ -

Saturday, July 21, 2018

2026 में FIFA वर्ल्ड कप खेल सकता है भारत यदि …. -

Saturday, July 21, 2018

त्रिवेंद्र सरकार उत्तराखंड की जनता के सपने को कर रही साकार , जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

पूजा बेदी द्वारा फिक्की फ्लो के लिए ‘लाइफ ट्रांसफॉर्मेशन’ कार्यशाला -

Friday, July 20, 2018

पर्यटन व वन विभाग के मध्य उचित समन्वय आवश्यक : मुख्यमंत्री -

Friday, July 20, 2018

धरती के इतिहास में वैज्ञानिकों ने खोजा ‘मेघालय युग’ जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

सोनाली बेंद्रे ने बेटे रणवीर के लिए लिखी दिल छू जाने वाली बातें , जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

विकास कार्यों में धीमापन बरदाश्त नहींः मुख्यमंत्री -

Friday, July 20, 2018

सड़क पर पानी में खड़े होकर संभाला ट्रैफिक,जानिये खबर -

Friday, July 20, 2018

नैनीताल विधानसभा क्षेत्रों के विकास कार्यों की सीएम त्रिवेन्द्र ने की समीक्षा -

Thursday, July 19, 2018

एम्स ऋषिकेश पहुंचकर सीएम ने बस दुर्घटना के घायलों का जाना हाल-चाल -

Thursday, July 19, 2018

अपने सपने : पर्यावरण बचाने हेतु बच्चो ने किया लोगो को जागरूक -

Thursday, July 19, 2018

बहाली की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन का 79वा दिन, जानिये खबर -

Thursday, July 19, 2018

ऋषि कपूर की फिल्म “मुल्क” को U/A सर्टिफिकेट, जानिये खबर -

Thursday, July 19, 2018

जिंदा रहने के लिए गुफा की चट्टानों से टपकते पानी का किया इस्तेमाल , जानिये खबर -

Thursday, July 19, 2018

सुप्रीम कोर्ट ने खोले महिलाओ के लिए सबरीमाला मंदिर का द्वार ,जानिये खबर -

Thursday, July 19, 2018

दोनों हाथ नही पर रानी ने अपने दोनों पैरो से भरी उड़ान

rani

वाराणसी से करीब 40 किलोमीटर दूर बड़ागांव ब्लॉक के दल्लीपुर ताड़ी गांव में जन्मी 23 साल की रानी की कहानी किसी नायिका से कम नहीं है | ये कहानी है उस विकलांग बच्ची की जिसने अपनी जिंदगी ९ साल की उम्र में पहले गरीबी देखी | फिर एक दुर्घटना में अपनी दोनों हाथे गवानी पड़ी | विदित हो की यह जानकर हैरानी होगी कि रानी इस समय मुंबई आईआईटी से एमटेक कर रही है. हालांकि, उसका यहां तक पहुंचने का सफर किसी विकलांग पर्वतारोही के एवरेस्ट चढ़ने से भी कठिन था | 9 साल की मासूम रानी को यह नही जानकारी थी की हाथ कट जाने के बाद दोबारा नहीं लगाए सकते है | जिन हाथों से कभी वो जिस गुड़िया को सजाती थी उसे गंदा देख रानी तड़प उठती. वो अपने दर्द को भूल जाती | रानी के पिता महेश एक गरीब किसान थे वह दोनों हाथ लगवाने में असमर्थ थे |

STUDENT

रानी जब अपने पिता से कहती थी की मुझे पढ़ना लिखना है तो उनके पिता के आखो में आंसू के अलावा कोई और चारा नही था | हादसे के बाद रानी को देख घर का माहौल ऐसा था कि मां उसे देख आंसू रोक न पाती और पिता महेश अपने दर्द को छलकने न देते. ऐसे हालात में रानी की मां उसका सहारा बनीं और उसको इस बात का अहसास न होने देती कि वो अपने दोनों हाथ खो चुकी है. मां ने रानी को जीना सिखाया और पैरों से लिखना सीखने के लिए प्रेरणा दी | माँ की प्रेणना से वह अपनी उड़ान को दो पैरो के सहारे शुरू की जो अब इंजीनियरिंग कर अपनी माँ की प्रेणना को सफल बनाया | आज अपने हौसलों से रानी का सपना है कि वो आईएएस बनकर गरीब बच्चों की मदद करें | उनका इस बात का हमेशा मलाल रहता है कि सबने उसकी मदद की, लेकिन सरकार की ओर से कोई मदद नहीं मिली |

Leave A Comment