Breaking News:

जब पीएम मोदी ने रखी अरविन्द के कंधे पर हाथ … -

Monday, September 25, 2017

टेस्ट के बाद वनडे में भी नंबर 1 टीम बनी भारत -

Monday, September 25, 2017

पूरा जीवन पंडित दीनदयाल उपाध्याय का समाज सेवा के लिए रहा समर्पित : सीएम -

Monday, September 25, 2017

बाबा केदार व बदरीविशाल के राष्ट्रपति ने किए दर्शन -

Sunday, September 24, 2017

राजभवन परिसर में राष्ट्रपति ने लगाया चंदन का पौधा -

Sunday, September 24, 2017

समाधान पोर्टल के शिकायतों का समाधान कब… -

Sunday, September 24, 2017

नगर निगम में 67 गांवों को जोड़ने का हुआ विरोध -

Sunday, September 24, 2017

बादलो की गरज के साथ सरकार के खिलाफ गरजे ग्राम प्रधान -

Sunday, September 24, 2017

दो दिवसीय दौरे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे उत्तराखंड -

Saturday, September 23, 2017

भारी बरसात के चलते छः लिंक मार्ग हुए बंद -

Saturday, September 23, 2017

सेना के जवानो ने चलाया स्वच्छता अभियान -

Saturday, September 23, 2017

फिल्म ‘गोलमाल अगेन’ एक बार फिर अगेन …. -

Saturday, September 23, 2017

हुंडाई गाडी 15 लोगों ने कराई एक साथ बुक -

Friday, September 22, 2017

“सरकार” ने 13 विभागों को पूर्व से सृजित विभागों में किया समायोजित -

Friday, September 22, 2017

बढ़ती महंगाई के खिलाफ “आप” का प्रदर्शन कार्यकर्ता -

Friday, September 22, 2017

बाल अधिकार संरक्षण आयोग के प्रति जन जागरूकता फैलाने की जरूरत -

Friday, September 22, 2017

विधानसभा अध्यक्ष ने किया रामलीला का उद्घाटन -

Friday, September 22, 2017

ज्ञान-दर्शन व सेवा भाव के प्रति समर्पित थे स्वामी दयानंद सरस्वतीः राज्यपाल -

Friday, September 22, 2017

केंद्रीय मंत्री विजय सांपला दिखेंगे रामलीला के मंच पर -

Thursday, September 21, 2017

पीएम को सोनिया गांधी ने महिला आरक्षण बिल को लेकर लिखी चिट्ठी -

Thursday, September 21, 2017

दोनों हाथ नही पर रानी ने अपने दोनों पैरो से भरी उड़ान

rani

वाराणसी से करीब 40 किलोमीटर दूर बड़ागांव ब्लॉक के दल्लीपुर ताड़ी गांव में जन्मी 23 साल की रानी की कहानी किसी नायिका से कम नहीं है | ये कहानी है उस विकलांग बच्ची की जिसने अपनी जिंदगी ९ साल की उम्र में पहले गरीबी देखी | फिर एक दुर्घटना में अपनी दोनों हाथे गवानी पड़ी | विदित हो की यह जानकर हैरानी होगी कि रानी इस समय मुंबई आईआईटी से एमटेक कर रही है. हालांकि, उसका यहां तक पहुंचने का सफर किसी विकलांग पर्वतारोही के एवरेस्ट चढ़ने से भी कठिन था | 9 साल की मासूम रानी को यह नही जानकारी थी की हाथ कट जाने के बाद दोबारा नहीं लगाए सकते है | जिन हाथों से कभी वो जिस गुड़िया को सजाती थी उसे गंदा देख रानी तड़प उठती. वो अपने दर्द को भूल जाती | रानी के पिता महेश एक गरीब किसान थे वह दोनों हाथ लगवाने में असमर्थ थे |

STUDENT

रानी जब अपने पिता से कहती थी की मुझे पढ़ना लिखना है तो उनके पिता के आखो में आंसू के अलावा कोई और चारा नही था | हादसे के बाद रानी को देख घर का माहौल ऐसा था कि मां उसे देख आंसू रोक न पाती और पिता महेश अपने दर्द को छलकने न देते. ऐसे हालात में रानी की मां उसका सहारा बनीं और उसको इस बात का अहसास न होने देती कि वो अपने दोनों हाथ खो चुकी है. मां ने रानी को जीना सिखाया और पैरों से लिखना सीखने के लिए प्रेरणा दी | माँ की प्रेणना से वह अपनी उड़ान को दो पैरो के सहारे शुरू की जो अब इंजीनियरिंग कर अपनी माँ की प्रेणना को सफल बनाया | आज अपने हौसलों से रानी का सपना है कि वो आईएएस बनकर गरीब बच्चों की मदद करें | उनका इस बात का हमेशा मलाल रहता है कि सबने उसकी मदद की, लेकिन सरकार की ओर से कोई मदद नहीं मिली |

Leave A Comment