Breaking News:

अधिकारियों व कार्मिकों को निरन्तर प्रशिक्षण की जरूरत , जानिए खबर -

Tuesday, December 11, 2018

एनआईटी मामला : हाईकोर्ट ने राज्य,एनआईटी और केंद्र सरकार को जवाब दाखिल करने को कहा -

Tuesday, December 11, 2018

जनसंपर्क और मीडिया लोक कल्याणकारी राज्य की प्रमुख विशेषता : राज्यपाल -

Monday, December 10, 2018

मानव अधिकार दिवस : इस वर्ष 2090 वाद में से 1434 वाद निस्तारित -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर व माही गिल गंगाआरती में हुए शामिल -

Monday, December 10, 2018

एकता कपूर और जितेंद्र हरिद्वार में करेंगे महाआरती , जानिए खबर -

Monday, December 10, 2018

पहल : एक साथ विवाह बंधन में बंधे 21 जोड़े -

Monday, December 10, 2018

सीएम ने की विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

पौराणिक मेले हमारी पहचान : सीएम त्रिवेंद्र -

Sunday, December 9, 2018

मैड और एनसीसी की टीम ने रिस्पना को किया साफ़ -

Sunday, December 9, 2018

राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन : हिमालय और गंगा राष्ट्र का गौरव -

Sunday, December 9, 2018

दून नगर निगम बढ़ाएगा हाउस टैक्स, जानिए खबर -

Sunday, December 9, 2018

आईएमए पीओपीः 347 कैडेट बने भारतीय सेना का हिस्सा -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र 40वें आॅल इण्डिया पब्लिक रिलेशन्स काॅन्फ्रेंस का किया शुभारम्भ -

Saturday, December 8, 2018

कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या की कोशिश, हालत गंभीर -

Saturday, December 8, 2018

सीएम त्रिवेंद्र किये कई घोषणाएं , जानिए खबर -

Saturday, December 8, 2018

‘केदारनाथ’ फिल्म के नाम से ऐतराज: सतपाल महाराज -

Saturday, December 8, 2018

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र करेंगे राष्ट्रीय जनसंपर्क सम्मेलन का शुभारंभ -

Friday, December 7, 2018

सीएम एप ने दिलाई गरीब परिवारों को धुएं से मुक्ति, जानिए खबर -

Friday, December 7, 2018

गावस्कर : विराट नहीं भारत के ओपनर करेंगे सीरीज का फैसला -

Friday, December 7, 2018

दो हजार चाय बागान श्रमिक बेरोजगारी की कगार पर

भले ही राज्य सरकार रोजगार मुहैया कराने और पलायन रोकने के लाख दावे करे, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। सरकार की अनदेखी के चलते दो हजार चाय बागान श्रमिक बेरोजगारी की कगार पर है। श्रमिकों ने कई बार इस संबंध में  शासन-प्रशासन के नुमाइंदों को ज्ञापन दिए, लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है। इससे गुस्साए श्रमिकों ने अब उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। उत्तराखंड चाय बागान श्रमिक संघ की कौसानी चाय फैक्ट्री में बैठक हुई। इस दौरान केएस खत्री की अध्यक्षता में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि श्रमिकों की मांगों की लंबे समय से अनदेखी की जा रही है। जिलाधिकारी से लेकर स्थानीय विधायक को कई बार ज्ञापन दिए जा चुके हैं। बावजूद स्थिति जस की तस बनी हुई है। श्रमिकों ने चाय बागान की दुर्दशा सुधारने, चाय बागान वैज्ञानिक और निदेशक की तैनाती करने, मनमाने तरीके से श्रमिकों की वेतन कटौती, ईपीएफ काटने, चाय बागानों की उत्पादकता कम होने के कारण जमीन मालिकों को लीज का 2014 से भुगतान ना होने आदि समस्याओं के निराकरण की मांग की है। समाजसेवी लीलाधर पांडे ने कहा कि श्रमिकों के हितों का हनन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिस श्रमिक की मेहनत से चाय बोर्ड चल रहा है वो ही अपने वजूद की लड़ाई लड़ रहा है। उन्होंने उच्च स्तर के अधिकारियों पर श्रमिकों का शोषण करने का आरोप लगाया।  उनका कहना है कि अगर जल्द ही उनकी समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो कोर्ट की शरण ली जाएगी। श्रमिक चंदन सिंह भंडारी ने बताया कि सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी गई थी, लेकिन पूर्ण जानकारी नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि श्रमिकों के अधिकारों की अनदेखी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर मांगे नहीं मानी गर्इ तो धरना प्रदर्शन कर उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Leave A Comment