Breaking News:

जरा हट के : महिलाओं को दिया जा रहा ऐपण आर्ट का प्रशिक्षण -

Thursday, November 21, 2019

अवैध निर्माणों पर एमडीडीए हुआ सख्त, जानिए खबर -

Thursday, November 21, 2019

शूट की जा रही फिल्म ‘‘सौम्या गणेश‘‘ का सीएम त्रिवेंद्र ने मुहूर्त शॉट लिया -

Thursday, November 21, 2019

गोवा : अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का शुभारंभ, विशेष सत्र में उत्तराखंड को स्थान -

Wednesday, November 20, 2019

शिक्षकों की कमी से प्रभावित हो रही छात्रों की पढ़ाई, जानिए खबर -

Wednesday, November 20, 2019

सिपाही को ट्रैक्टर से कुचलने वाले आरोपी चालक गिरफ्तार -

Wednesday, November 20, 2019

मिस रेडिएंट स्किन और मिस ब्यूटीफुल हेयर उप प्रतियोगिताओं का आयोजन, जानिए खबर -

Wednesday, November 20, 2019

कोटद्वार में मुख्यमंत्री ने मुस्लिम योग शिविर का किया उद्घाटन -

Wednesday, November 20, 2019

उत्तराखंड : महसूस हुए भूकंप के झटके -

Tuesday, November 19, 2019

उत्तराखण्ड : समाज कल्याण विभाग के संयुक्त निदेशक गीताराम नौटियाल निलंबित -

Tuesday, November 19, 2019

मैट्रो से नही दून-ऋषिकेश व हरिद्वार को मिनी मैट्रो से जोड़ा जायेगा -

Tuesday, November 19, 2019

भोजपुरी फिल्म प्रोड्यूसर एवं फिल्म निर्देशक सीएम से की भेंट -

Tuesday, November 19, 2019

केदारनाथ परिसर में बनेगा भगवान शिव की पुरातात्विक महत्व की प्रतिमाओं का नया संग्रहालय, जानिए खबर -

Tuesday, November 19, 2019

कांग्रेस बागी विधायकों के लिए फिर दरवाजे खोलने को तैयार ! -

Monday, November 18, 2019

सीएम ने स्वच्छ कॉलोनी के पुरस्कार से किया सम्मानित, जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

पर्वतीय क्षेत्रों में 500 उपभोक्ता पर एक मीटर रीडर हो ,जानिए खबर -

Monday, November 18, 2019

ईरान एवं भारत में है गहरा सांस्कृतिक सम्बन्धः डॉ पण्ड्या -

Monday, November 18, 2019

गांधी पार्क में ओपन जिम का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Monday, November 18, 2019

स्मार्ट सिटी हेतु 575 करोड़ रूपए के कामों का हुआ शिलान्यास, जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-2 के फिनाले में पहुंचे राहुल रॉय , जानिए खबर -

Sunday, November 17, 2019

दो हजार चाय बागान श्रमिक बेरोजगारी की कगार पर

भले ही राज्य सरकार रोजगार मुहैया कराने और पलायन रोकने के लाख दावे करे, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। सरकार की अनदेखी के चलते दो हजार चाय बागान श्रमिक बेरोजगारी की कगार पर है। श्रमिकों ने कई बार इस संबंध में  शासन-प्रशासन के नुमाइंदों को ज्ञापन दिए, लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है। इससे गुस्साए श्रमिकों ने अब उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। उत्तराखंड चाय बागान श्रमिक संघ की कौसानी चाय फैक्ट्री में बैठक हुई। इस दौरान केएस खत्री की अध्यक्षता में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि श्रमिकों की मांगों की लंबे समय से अनदेखी की जा रही है। जिलाधिकारी से लेकर स्थानीय विधायक को कई बार ज्ञापन दिए जा चुके हैं। बावजूद स्थिति जस की तस बनी हुई है। श्रमिकों ने चाय बागान की दुर्दशा सुधारने, चाय बागान वैज्ञानिक और निदेशक की तैनाती करने, मनमाने तरीके से श्रमिकों की वेतन कटौती, ईपीएफ काटने, चाय बागानों की उत्पादकता कम होने के कारण जमीन मालिकों को लीज का 2014 से भुगतान ना होने आदि समस्याओं के निराकरण की मांग की है। समाजसेवी लीलाधर पांडे ने कहा कि श्रमिकों के हितों का हनन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिस श्रमिक की मेहनत से चाय बोर्ड चल रहा है वो ही अपने वजूद की लड़ाई लड़ रहा है। उन्होंने उच्च स्तर के अधिकारियों पर श्रमिकों का शोषण करने का आरोप लगाया।  उनका कहना है कि अगर जल्द ही उनकी समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो कोर्ट की शरण ली जाएगी। श्रमिक चंदन सिंह भंडारी ने बताया कि सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी गई थी, लेकिन पूर्ण जानकारी नहीं दी गई। उन्होंने कहा कि श्रमिकों के अधिकारों की अनदेखी अब बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर मांगे नहीं मानी गर्इ तो धरना प्रदर्शन कर उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Leave A Comment