Breaking News:

केदारनाथ धाम में सात फीट तक हुई बर्फवारी -

Thursday, January 24, 2019

“तुम मुझे खून दो, मै तुम्हे आजादी दूँगा ” के नारों से गुजा आसमाँ -

Thursday, January 24, 2019

डीएम व एसएसपी ने गणतंत्र दिवस पर परेड मैदान का निरीक्षण किया -

Wednesday, January 23, 2019

बर्फ गलाकर पानी पीने को मजबूर , जानिए खबर -

Wednesday, January 23, 2019

जनता से जुड़े मामलों को शीर्ष प्राथमिकता दी जाये : सीएम त्रिवेन्द्र -

Wednesday, January 23, 2019

फिल्‍ममेकर प्रदीप शर्मा के बेटे प्रियांक शर्मा करने जा रहे है फिल्‍म डेब्‍यू -

Wednesday, January 23, 2019

सीएमएस में अपोलो-मेडिक्स ने सैनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन लगाई -

Wednesday, January 23, 2019

सड़क किनारे भूख से तड़प रही दिव्यांग बुजुर्ग को कॉन्स्टेबल ने खिलाया खाना, जानिए खबर -

Wednesday, January 23, 2019

गोरखा कल्याण परिषद हो शीघ्र गठन : पदम सिंह थापा -

Wednesday, January 23, 2019

15वें प्रवासी भारतीय दिवस सत्र का पीएम मोदी ने किया शुभारम्भ -

Tuesday, January 22, 2019

गति फाउंडेशन ने जारी की स्वच्छता सर्वेक्षण पर रिपोर्ट -

Tuesday, January 22, 2019

मसूरी में सीजन का पहला हिमपात , जानिए ख़बर -

Tuesday, January 22, 2019

दो फरवरी को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह दून में -

Tuesday, January 22, 2019

उत्तराखंड यूथ फेस्टिवल के लिए आयोजित हुआ ऑडिशन -

Tuesday, January 22, 2019

23 जनवरी को युवा कांग्रेस की क्रांति यात्रा पहुँचेगी दून -

Tuesday, January 22, 2019

मानव विकास में देहरादून प्रथम, जानिए ख़बर -

Monday, January 21, 2019

सीएम त्रिवेन्द्र प्रयागराज कुंभ पर्व में हुए सम्मिलित -

Monday, January 21, 2019

नेत्रदान के लिए गांव ने फैलाई जागरूकता, जानिए खबर -

Monday, January 21, 2019

रिलीज़ हुआ फिल्म ‘टोटल धमाल’ का मजेदार ट्रेलर -

Monday, January 21, 2019

देहरादून से 3 नए शहरों के लिए हवाई सेवा शुरू -

Monday, January 21, 2019

निजी स्कूलो की मनमानी कब तक ?

school_chale_ham

उत्तराखण्ड राज्य बनने से अब तक विकास का पहिया जिस भी रफ़्तार से हो पर देहरादून में शिक्षा को लेकर पुरे देश में अपनी एक अलग पहचान बनी है|उत्तर प्रदेश राज्य से अलग होने के बाद उत्तराखण्ड राज्य की जनता का सपना था की आम लोगो से जुडी सभी समस्या का समाधान आसानीपूर्वक हल हो सकेंगे लेकिन जिस प्रकार से निजी स्कूलो द्वारा अविभावकों की जेब पर प्रहार कर रहे है ऐसा उम्मीद को न थी| एक बार फ़िर देहरादून की अनेक संगठनो की एक जुटता से निजी स्कूली की फीस को लेकर उनकी मनमानी को रोकने के लिए सरकार पर दबाव बना रही है|उत्तराखण्ड सरकार सच्ची नियत से निजी स्कूलो पर लगाम लगाये जिससे उत्तराखण्ड की जनता अपने बच्चों को अपने बजट के अनुसार अच्छी शिक्षा दे सके मध्यम वर्ग सोचता है की अपने बच्चे को अच्छा शिक्षा प्रदान कराउ पर इसको पूरा करने के लिए मध्यम वर्ग के अविभावक अपनी जमापूँजी तक लगा देते हैपर सरकार निजी स्कूली की फीस को लेकर उनकी मनमानी पर कोई कठोर कदम नहीं उठाती|सरकार इस पर कठोर कदम उठा कर जनता के प्रति एक नाज़िर बने जिससे वह जनता की हितैसी सरकार बन सके|

अरुण कुमार यादव (संपादक)

Leave A Comment