Breaking News:

हिमालया द्वारा ‘माई बेबी एण्ड मी’ कार्यक्रम का हुआ आयोजन -

Tuesday, October 15, 2019

जेडी इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी द्वारा फ्रेशर्स डे का आयोजन -

Tuesday, October 15, 2019

अनाथ बच्चों के साथ केक काटकर मनाई एपीजे अब्दुल कलाम की जयंती -

Tuesday, October 15, 2019

गाड़ियों के भिड़ंत में तीन लोगों की मौत, जानिए खबर -

Tuesday, October 15, 2019

हिमालया : नैचुरल शाईन हिना बालों को प्रदान करता है प्राकृतिक चमक -

Tuesday, October 15, 2019

भारतीय फुटबॉलर प्रथमेश ने किया रैंप -

Monday, October 14, 2019

कवि सम्मेलन : प्यार से भी हम मर जाते, आपने क्यों हथियार खरीदा… -

Monday, October 14, 2019

तीन निजी शिक्षण संस्थानों के खिलाफ दर्ज हुए केस, जानिए खबर -

Monday, October 14, 2019

आम लोगों के लिए लगाया प्याज मेला , जानिए ख़बर -

Monday, October 14, 2019

उत्तराखंड : मंत्रिमण्डल की बैठक होगी पेपरलेस -

Monday, October 14, 2019

जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन, जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

दून में लाइफस्टाइल फैशन वीक हुआ शुरू -

Sunday, October 13, 2019

चमोली में मैक्स गिरी खाई में नौ लोगों की मौत -

Sunday, October 13, 2019

एक वर्ष हो गए अभी भी घोषित नहीं हुए परीक्षा परिणाम , जानिए खबर -

Sunday, October 13, 2019

“भारत भारती” के नाम से राज्य में प्रतिवर्ष हो एक कार्यक्रम -

Sunday, October 13, 2019

जापान में 60 साल का सबसे भीषण तूफान -

Saturday, October 12, 2019

बिग बॉस धारावाहिक के खिलाफ रक्षा दल -

Saturday, October 12, 2019

अज्ञात बीमारी से एक माह में छह लोगों की हो चुकी मौत,जानिए ख़बर -

Saturday, October 12, 2019

विरासत: कत्थक डांसर गरिमा आर्य व शाहिद नियाजी की प्रस्तुति -

Saturday, October 12, 2019

छड़ी यात्रा से उत्तराखंड में धार्मिक पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा : सीएम त्रिवेंद्र -

Saturday, October 12, 2019

नोटबन्दी के बाद की भूमि सौदों की होगी जांच

harish-rawat

सचिवालय में प्रेसवार्ता को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि केंद्र सरकार से एसपीए व शतप्रतिशत केंद्र प्रायोजित योजनाओं में 2254 करोड़ रूपए मिलने थे जिनमें से केंद्र से राज्य को केवल 905 करोड़ रूपए प्राप्त हुए हैं। राज्य सरकार ने इन पर कुल 1400 करोड़ रूपए का व्यय किया है। अर्थात 500 करोड़ रूपए राज्य सरकार ने अपने संसाधनों से व्यय किए हैं। मुख्यमंत्री श्री रावत ने बताया कि अनुसूचित जाति पोस्ट मेट्रिक स्कोलरशिप जो कि शत प्रतिशत केंद्र प्रायोजित योजना है, में केंद्र से हमें 160 करोड़ रूपए दिया जाना चाहिए था, परंतु केवल 75 करोड़ रूपए ही केंद्र द्वारा अवमुक्त किए गए हैं। यूटीलाईजेशन सर्टिफिकेट (यूसी) भेजने में अन्य राज्यों की तुलना में हमारे राज्य की स्थिति बेहतर है। आज स्वयं केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने इसके लिए हमारे अधिकारियों को बैठक में बधाई दी।  मुुख्यमंत्री ने कहा कि एसपीए(आर), सीएसएस(आर) व फूड सब्सिडी में केंद्र से 1751 करोड़ रूपए की मांग की गई थी। केंद्र द्वारा मात्र 731 करोड़ रूपए अवमुक्त किए गए हैं। अकेले फूड सब्सिडी में 570 करोड़ रूपए का रिएम्बर्समेंट केंद्र द्वारा किया जाना है। मुुख्यमंत्री ने बताया कि केंद्रीय पर्यटन मंत्री महेश शर्मा ने अनौपचारिक बैठक में श्री बद्रीनाथ धाम को प्रसाद योजना में शामिल करने के साथ ही महाभारत सर्किट में उत्तराखण्ड के अश्वमेधशाला, लाखामण्डल, सातताल आदि स्थानों को सम्मिलित किए जाने के प्रति आश्वस्त किया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि 8 नवम्बर से जमीन क्रय में 50 लाख से ऊपर के कुल 108 ट्रांजेक्शन हुए हैं, इनमें से 72 मामले देहरादून के हैं। इन भूमि सौदों की जांच करने के निर्देश दिए गए हैं ताकि मालूम चल सके कि ये सौदे नेचुरल तरीके से किए गए हैं या नहीं। नोटबंदी के बाद प्रदेश पर पड़े प्रभावों की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बताया कि भू-भवन सम्पत्ति पंजीकरण में 32 प्रतिशत की कमी आई है जबकि इससे प्राप्त शुल्क में 35 प्रतिशत कमी आई है। खनन से राजस्व में 21 प्रतिशत की कमी आई है। मंडी परिषद से तिलहन को छोड़कर अन्य सभी जिन्सों के उठान में कमी आई है। गढ़वाल मंडल विकास निगम व कुमाऊं मंडल विकास निगम के टर्नओवर में 18 प्रतिशत की कमी आई है। मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली को पत्र लिखकर प्रदेश में नोटबंदी से आ रही समस्याओं के बारे में अवगत कराते हुए आवश्यक सुधारों के सुझाव दिए हैं। अतिथि शिक्षको के बारे में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने बताया कि इसके लिए रास्ता निकाला जा रहा है। न्यायालय के दायरे में रहते हुए अतिथि शिक्षकों को कैसे अधिक से अधिक राहत पहुंचाई जा सकती है, इसके लिए सभी विकल्पों पर विचार करते हुए फार्मूला तैयार किया जा रहा है। इसी प्रकार उपनल कर्मचारियों के मामले को भी देखा जा रहा है।

Leave A Comment